What to do when the stock market crashes? | Hindi

Podcast Duration: 05:52

नमस्ते दोस्तों ! एंजेल ब्रोकिंग के पॉडकास्ट में आपका स्वागत है। दोस्तों शेयर बाज़ार में ऊपर नीचे तो चलता रहता है, पर शेयर बाज़ार क्रेश के समय आप क्या करेंगे? ऐसी समस्या के बीच में आराम से बैठना मुश्किल है, लेकिन पिछले साल सेंसेक्स जब क्रेश होकर 40% से ज्यादा गिरा तब काफी निवेशक इसका ठीक से रेसपोनस नहीं दे पाये। मेरा दोस्त कारण अभी हाल ही में मुझे बता रहा था कि उसकी उसके कोलिग प्रिय और शिखर जो अब कुछ पाँच सालों से शेयर बाज़ार में निवेश कर रहें हैं से चर्चा हो रही थी। उन दोनों की काफी ज़्यादा बचत इक्विटि बाज़ार से म्यूचुअल फ़ंड और स्टॉक के जरिये जुड़ी हुई थी। लेकिन पिछले साल के क्रेश के बाद उनमें से एक विजेता की तरह और दूसरे ने अगर सही शब्दों में कहूँ- अपनी ज़िंदगी का सबसे बड़े घाटे खाया। क्या आप अनुमान लगा सकते हैं की बहुत सिमिलर प्रोफ़ाइल से इतने अलग नतीजे कैसे आए होंगे। आज हम इसी बात का पता लगाएंगे। लेकिन इस प्रक्रिया में आपको यह बताने जा रही हूँ की शेयर बाज़ार क्रेश के समय आपको 3 चीजों को हमेशा याद रखना चाहिए। चलिये नंबर 1 से शुरू करते हैं - और वो है शांत रहना। दोस्तों शेयर बाज़ार क्रेश के समय एक एक्सपिरियन्स निवेशक कभी अपना आपा नहीं खोता। बल्कि अगर आपको शेयर बाज़ार में सबसे ज़्यादा शांत रहने ज़रूरत है, तो वो है शेयर बाज़ार क्रेश के समय। क्योंकि अगर आप शेयर बाज़ार के हिस्टॉरिकल चार्ट देखोगे - और हिस्टॉरिकल से मेरा मतलब 30 से 100 साल का टाइम - तो आप एक समान ट्रेंड देखोगे, और वो ट्रेंड है शेयर बाज़ार हर गिरावट के बाद फिर संभलता है। हिस्टरी में कई आर्थिक संकट हुए और सभी में निवेशकों ने लॉन्ग टर्म सोच नहीं दिखाई। और जो लॉन्ग टर्म के बारे में सोचते हैं वो जानते हैं कि शेयर बाज़ार के झटके अस्थायी होते हैं, और ग्राफ हर तूफान के बाद ऊपर जाता है। वैसे, प्रिया और शिखर के शेयर बाज़ार अनुभवों के बारे में जानने के लिए आप उत्सुक हो या नहीं? में थी ! अगले पॉइंट से आपको पता चलेगा कि चीज़ें कैसे इन दो अनुभवी निवेशकों के लिए बदली। पॉइंट नंबर 2- कभी मत बेचिए और अगर आप एक अनुभवी निवेशक हो तो पॉइंट नंबर दो और एक में आपको कोई फर्क नहीं दिखाई देगा। क्यूंकी शेयर बाज़ार के क्रेश होने पर निवेशक बेचते तभी हैं जब वो घबरा जाते हैं यह तब होता है जब वो अपने को शांत रखने की शक्ति खो देते हैं। लेकिन क्रेश के दौरान आपको असल में बेचना चाहिए - सिर्फ और सिर्फ तब जब आपको पैसों की बहुत ज़रूरत हो। वैसे तो आपातकाल स्थिति के लिए आपको आपातकालीन फ़ंड रखना चाहिए। लेकिन अगर आपको पैसे चाहिए तो सिर्फ उतना ही बेचें जितना बहुत ज़रूरी है। और ये पैसे सिर्फ आपातकाल के लिए इस्तेमाल किए जाने चाहिए। दोस्श्रे शब्दों में अगर आप बिना अपने स्टॉक बेचे भी रेह सकते हैं तो उन्हे न बेचें, और मैं एक बार फिर से कह रही हूँ जब बाज़ार नीचे हो स्टॉक कभी न बेचें। बल्कि स्टॉक मार्केट क्रेश के दौरान बेचना आपकी ज़िंदगी भर की कमाई के लिए सबसे बुरा सौदा हो सकता है। क्योंकि एक क्रेश के समय स्टॉक अपने सबसे निचले स्तर पर हो सकते हैं, कुछ स्टॉक तो अपनी कीमत का 50% तक खो सकते हैं। लेकिन यहीं पहले पॉइंट का यूस आता है की जब आप शांत रहें तो समय के साथ स्टॉक वापिस से रिकवर करेगा और एक बार अर्थव्यवस्था वापिस पटरी पर आई तो आपको अपनी कीमत के साथ -साथ मुनाफा भी दिलाएगा। प्रिया और शिखर ने इस समय बहुत अलग फैसले किए शिखर ने घबरा कर अपने पोर्टफोलियो को बेच दिया। उसने अपनी पाँच साल की जमा राशि को करीब 20 % के घाटे पर बेच दिया। सिर्फ इस लिए की वो परिस्थिति से घबरा गया। प्रिया की कहानी सुनकर वो आश्चर्यचकित हो गया, और अपने निर्णय पर पछताने लगा। आप देखिये कैसे। चलिये 3 पॉइंट पे चलते हैं- और वो है सही स्टॉक खरीदना। दोस्तों शेयर बाज़ार के क्रेश होने के समय पर आप देखेंगे के अधिकतर स्टॉक अपने 3, 5 या 10 साल के निचले स्तर पर होते हैं। और यह कुछ स्टॉक खरीदने के लिए सबसे अच्छा समय होता है। अगर आप एक विशेषज्ञ के निवेश के तरीके को देखोगे तो जल्द ही आप क्रेश को एक ऐसे अवसर के रूप में देखने लगोगे जब आप अपनी ट्रेडिंग हिस्टरी के सबसे बेहतरीन निर्णय लोगे। क्योंकि एक या दो साल की रिकवरी के बाद स्टॉक्स वापिस उछलते हैं पर अगर वो सिर्फ अपने क्रेश से पहले के लेवेल तक भी पहुँच जाएँ तो आप काफी ज़्यादा लाभ कमा सकते हैं। ऐसा ही प्रिया ने किया उसके पास बचत में कुछ पैसे थे जिसे उसने स्टॉक्स और इंडेक्स फ़ंड खरीदने में लगाया और जब स्टॉक मार्केट रिकवर हुआ तब उसे न केवल अपने पुराने निवेश पे न केवल अच्छे लाभ मिले बल्कि अपनी नयी पोसिशन पर भी अच्छे रिटर्न आए। दोस्तों स्टॉक मार्केट क्रेश एक नौसिखिये निवेशक के लिए चिंता पैदा करते हैं पर एक अनुभवी निवेशक के लिए एक अवसर जैसे होते हैं। तो इस खेल में खिलाड़ी बनिए और यह तीन पॉइंट्स मत भूलिए। ओस्टोन आज के पॉडकास्ट में बस इतना ही मैं चलती हूँ कुछ शेयर बाज़ार की न्यूज़ देखने के लिए। फिर मिलेंगे अगले पॉडकास्ट में तब तक के लिए एंजेल ब्रोकिंग की तरफ से अलविदा और शुभ निवेश। निवेश बाज़ार जोखिमों के आधीन है कृपया सभी दस्तावेज़ ध्यान से पढ़ लें।