Investing for the tech savvy | Hindi

Podcast Duration: 08:24

टेक सैवी के लिए निवेश

नमस्कार दोस्तों, और स्वागत है एंजेल ब्रोकिंग के एक और ज्ञानवर्धक पॉडकास्ट में।

यह आप सब एस्पायरिंग रूल-बेस्ड ट्रेडर के लिए गुहार है..... आज का पॉडकास्ट आपके लिए ही बना है। जी हाँ, यदि आप टेक सैवी युवा इन्वेस्टर हैं और शेयर बाज़ार में कुछ कमाई करने की उम्मीद रखते हैं तो यह पॉडकास्ट आपके लिए हो सकता है। यदि आप टेक सैवी हैं लेकिन शेयर बाज़ार से जुड़े फैसले लेने में हमेशा मुश्किल का सामना करते हैं - तो यह पॉडकास्ट निश्चित रूप से आपके लिए है।

एस्पायरिंग स्टॉक ब्रोकर के लिए और एस्पायरिंग अल्गोरिदम डेवलपर के लिए भी, हमारे पास कुछ सुझाव हैं कि आप अपना प्लेटफार्म कैसे तैयार करें और अपना अल्गोरिदम कैसे डेवलप करें। लेकिन पहले रूल-बेस्ड ट्रेडिंग के बारे में बात करते हैं।

दोस्तों, रूल-बेस्ड आधारित ट्रेडर ट्रेडिंग के लिए बेहद वैज्ञानिक तरीका अपनाते हैं। जैसे मेरी सहकर्मी की माँ, कल्पना। कल्पना अपने 100 प्रतिशत मांसाहारी परिवार में इकलौती शाकाहारी हैं। वह इकलौती व्यक्ति हैं घर में जो खाना पकाती हैं। कल्पना डेली चिकन बनाती हैं, वह मटन भी बेहतरीन पकाती हैं और उनके पकाए सीफ़ूड के लिए तो अक्सर लड़ाई होती है। लेकिन शाकाहारी होने के नाते कल्पना कभी उस भोजन को नहीं चखती हैं जो वह खुद पकाती हैं। उन्हें कैसे पता चलता है कि वह क्या कर रही हैं? क्या वह दृष्टिहीन हैं है यदि वह स्वाद नहीं चख सकतीं? नहीं दोस्त, सटीक नाप और भोजन से निकल रही सुगंध से कल्पना बगैर चखे स्वाद का अंदाजा लगा सकती हैं... वह उन पकवानों के लिए बेहद वैज्ञानिक तरीका अपनाती हैं जो वह चख नहीं सकतीं।

रूल-बेस्ड ट्रेडर इस बात से सहमत होंगे कि वे ट्रेडिंग के लिए इसी तरह का वैज्ञानिक तरीका अपना सकते हैं। जैसे कल्पना बगैर स्वाद चखे विज्ञान का उपयोग खाना पकाने के लिए करती हैं उसी तरह रूल-बेस्ड-आधारित ट्रेडर कैलकुलेशन का उपयोग ट्रेड करने के लिए करते हैं ताकि भावनाएं फैसलों पर हावी न हों। यदि आप रूल-बेस्ड-आधारित ट्रेडर बनना चाहते हैं, तो आपको बगैर भावुक हुए काम करने के लिए तैयार होना चाहिए और एक सिस्टम से गाइड होना चाहिए।

अभी तो इंडिया में फिलहाल 50 प्रतिशत ट्रेडिंग रूल-बेस्ड-आधारित रहती है। लेकिन यह तादाद बढ़ने वाली है क्योंकि अभी ट्रेडिंग की पॉपुलैरिटी बढ़ रही है। जो लोग ट्रेड करना चाहते हैं और उनके पास पर्याप्त अनुभव न हो तो वे रूल-बेस्ड ट्रेडिंग के ज़रिये निश्चित रूप से बेहतर फैसला ले सकते हैं। ये इस लिए है क्योंकि रूल-बेस्ड ट्रेडिंग खरीदारों को यह सुझाव देती है कि प्री-सेट नियम के आधार पर कब बाज़ार में प्रवेश करना चाहिए और कब निकल जाना चाहिए। अभी तो यंग, टेक-सैवी लोगों में ही ट्रेडिंग की पॉपुलैरिटी बढ़ रही है और इसी कारण यह एकदम उपयुक्त है क्योंकि युवा विशेष तौर पर टेक सैवी होते हैं।

रूल-बेस्ड ट्रेडिंग में कंप्यूटर अल्गोरिदम यूज़ किया जाता है। अल्गोरिदम पूर्व-निर्धारित, पूर्व-नियोजित नियमों के आधार पर डिजाईन किया जाता है जो शेयर बाज़ार के वैरियेबल, मसलन कीमत, समय और वॉल्यूम का संचालन करते हैं। जटिल फोर्मुले और मैथेमैटिकल मॉडल उसे करके ये अल्गोरिदम बनाया जाता है, आम तौर पर शेयर बाज़ार कंपनियों द्वारा नियुक्त होनहार युवा आईटी विशेषज्ञों द्वारा। उसके बाद ट्रेडर पर निर्भर करता है कि वे दिए गए सुझावों पर विचार करें और सही फैसले करें। लेकिन उनका डिसिज़न-मेकिंग टाइम कम हो जाता है क्योंकि सिस्टम हर तरह की बेतरतीबी को बाहर निकाल देता है और इसे हाँ या नहीं के फैसले पर ले आता है। जो संक्षिप्त और एकदम सटीक सूचना मिलती है उसके आधार पर ट्रेडर को स्टॉक प्राइस पैटर्न तुरंत दिखता है। पैटर्न ट्रेडर को भावी कीमत में उतार-चढ़ाव की भविष्यवाणी करने की क्षमता देते हैं तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जल्दी से ज्यादा वॉल्यूम वाले पैटर्न को देख पाने का मतलब होगा भारी मात्रा में कमाई। बड़े फर्म्स के लिए ये बहुत ल्यूक्रेटिव चीज़ बना। इंडिविजुअल ट्रेडर के लिए, इससे पहले, रूल-बेस्ड ट्रेडिंग काफी मंहगा और आउट ऑफ़ रीच था। लेकिन, अब ऐसा नहीं है। एंजेल ब्रोकिंग ने आर्क प्राइम के साथ मिलकर सभी के लिए ट्रेडिंग आसान बना दिया है।

आर्क प्राइम ऐसे स्टॉक का सुझाव देता है जिसमें इन्वेस्टर संभावित तौर पर इन्वेस्ट कर सकते हैं। ये सुझाव कुछ रूल पर आधारित होते हैं। यह सिस्टम अल्गोरिदम पर काम करता है इसलिए यह मानवीय हस्तक्षेप या मानवीय पूर्वग्रह से मुक्त है। इसे स्मार्ट बीटा कहते हैं। इन्वेस्टर को सुझाव मिल जाता है कि कब बाज़ार में प्रवेश करें और कब निकल जाएँ। अनुभवी ट्रेडर को किसी चार्ट को देखने पर ही पैटर्न दिख जाता है जिससे ट्रेडर स्टॉक की भावी कीमत की गतिविधि के बारे में समझ-बूझ कर भविष्यवाणी कर देता है। आज एव्रीवनकैनइन्वेस्ट, लेकिन क्या हर कोई समझ-बूझ भविष्यवाणी कर सकता है? आर्ट प्राइम की मदद से यह दरअसल वास्तविकता बन गया है।

आर्क प्राइम के कई सारे बेनिफिट हैं, जैसे कि:

रूल-बेस्ड रणनीति के कारण मुनाफे की संभावना अधिकतम।

कम तनाव से मनोवैज्ञानिक लाभ क्योंकि आपको इनफॉर्मेशन रेडी मेड मिल जाता है नुकसान की स्थिति में जल्दी बाहर निकल जाने से जोखिम कम से कम हो जाता है लाइव अपडेट सब्सक्रिप्शन के साथ ही संभावित मुनाफा और!!! बगैर ऑटो रिन्यूअल के मुफ्त ट्रायल

आर्क प्राइम पे विश्वास रखना आसान है क्योंकि:

पहली बात है इसका ट्रैक रिकॉर्ड आर्क का प्रदर्शन लागातार अच्छा रहा है हाल के विभिन्न संकट के दौरान, मसलन मिडकैप में गिरावट, एनबीएफसी संकट और मौजूदा कोविड-19 महामारी के दौरान भी। एंजेल ब्रोकिंग ने काफी चैलेंजिंग मार्केट कंडीशन में आर्क प्राइम को टेस्ट किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यह अच्छे नतीज़े दे सके।

कुल मिलाकर आर्क प्राइम कॉन्फिडेंस देता है क्योंकि ये स्टॉक मार्किट में इन्वेस्टिंग के टाइम-टेस्टेड और प्रूवन रूल्स इस्तेमाल कर लेता है।

आर्क प्राइम अग्रेसिव टेस्टिंग की वजह से भरोसेमंद भी है। आर्क प्राइम आर्क 1.0 (जो 2016 से लाइव है) का बेहतर और अधिक सटीक वर्ज़न है, और इसका एक पहले से साबित प्रदर्शन रिकॉर्ड है।

इसके अलावा इससे पहले हमने जिन रूल के बात की वे भी बेहतरीन मॉडल के चयन के लिए गहराई से जांचे-परखे हुए हैं। आर्क हर किस्म के स्टॉक को एवैल्यूएट कर लेता है: वैल्यू स्टॉक, क्वालिटी स्टॉक, हाई मोमेंटम और ग्रोथ स्टॉक भी।

ट्रांसपेरेंसी में भी आर्क 100 प्रतिशत स्कोर सुनिश्चित करता है। सब्सक्राइबर्स को अपने स्क्रीन पे दिख जाता है आर्क प्राइम के सुझाव से कितने का मुनाफ़ा मिला है सब्सक्रिप्शन की शुरूआती तारीख से अब तक।

दोस्त रूल-बेस्ड ट्रेडिंग आप अपने मोबाइल से ही चला सकते हो एंजेल ब्रोकिंग एप डाउनलोड कर।

अगर आप बहुत टेक सैवी हो और आपके पास स्टॉक ट्रेडिंग का काफी एक्सपीरियंस है तो हो सकता है कि आप काफी समय से रूल-बेस्ड ट्रेडिंग कर रहे हैं और आप स्टॉक ब्रोकर बनना चाहते हैं। या शायद अपना अल्गोरिदम विकसित करना चाहते हों?

मैंने प्रॉमिस तो किया था स्टार्ट में। कि मैं भी एस्पायरिंग स्टॉक ब्रोकर और उनके लिए टिप्स भी साझा करूंगा जो चाहते हैं कि उनका अपना ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म हो। ये रहा एक स्मार्ट और बिल्कुल आसान तरीका, जिससे आप अपना खुद का ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म लॉन्च कर सकते हो। एंजेल ब्रोकिंग की तरफ से लॉन्च किये गए स्मार्ट एपीआई से, आप अपना ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म बगैर ब्रोकरेज लाइसेंस के बना सकते हो। ये सही है कि दो अच्छी चीज़ें एक साथ कर सकते हैं। ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की पेशकश कर सकते हैं बगैर दरअसल स्टॉक ब्रोकर बने। स्मार्ट एपीआई में 8000 रजिस्टर्ड यूजर आ चुके हैं और अब तक 30,000 ऑर्डर ट्रेड कर चुके हैं।

एंजेल ब्रोकिंग के स्मार्ट एपीआई से आपको ये एपीआई फ्री में मिल जाता हया यदि आप विशाल खुदरा बाज़ार के लिए प्लेटफॉर्म बना रहे हैं।

शुरू से आखिर तक ब्रोकिंग सर्विसेज सेट अप करने में स्मार्ट एपीआई की सहायता मिल सकती है। अप्रूवल मिलने में भी असिस्टेंस मिल सकता है। आखिरकार, ज्यादा ब्रोकर की गुंजाइश है क्योंकि बाज़ार में ज्यादा से ज्यादा इन्वेस्टर दिख रहे हैं। आखिरकार एव्रीवनकैनइन्वेस्ट।

सबसे बेस्ट है, आप अपने ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग प्लेटफॉर्म एंजेल ब्रोकिंग को एक मिलियन प्लस कस्टमर को कर सकते हो।

निश्चित रूप से, यदि आप यहाँ रूल-बेस्ड ट्रेडर के लिए बने इस पॉडकास्ट को सुन रहे हैं तो हमें शायद ही आपसे ये कहने की ज़रुरत है कि इन्वेस्ट करने से पहले आपको हमेशा अपने जोखिम झेल पाने की ताक़त को ध्यान में रखना चाहिए (चाहे आपका अल्गोरिदम कितना ही सटीक क्यों नहीं दिख रहा हो)। स्टॉक मार्किट को 100 प्रतिशत करेक्टली प्रेडिक्ट करना तो इम्पॉसिबल है।

इसके बावजूद, एव्रीवनकैनइन्वेस्ट, विशेष तौर पर तब जब प्लेटफॉर्म आम होते जा रहे हैं और आसान रूल-बेस्ड ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के साथ आ रहे हैं जिससे टेक सैवी ट्रेडर को समझ-बूझ कर फैसला करने में मदद मिलती है। इस पॉडकास्ट के लिए इतना ही, जल्दी मिलेंगे वापस! तब तक के लिए हैप्पी इन्वेस्टिंग दोस्तों।