ईबीआईटीडीए, या ब्याज से पहले आय, कर, मूल्यह्रास और परिशोधन, एक कंपनी के ऑपरेटिंग लाभ की माप है। यह व्यापार के वास्तविक मूल्य का संकेतक है जिसमें लेखांकन रणनीतियों द्वारा छेड़छाड़ नहीं किया जा सकता है। ऐसा कैसे संभव है? आईए देखते हैं।

ईबीआईटीडीए: अर्थ

ईबीआईटीडीए गैर-परिचालन खर्चों को छोड़कर कंपनी की कमाई का निर्धारण करता है, जिसमें कंपनी का कोई नियंत्रण नहीं होता है, जैसे कि ब्याज खर्च या ऋण वित्त, कर, मूल्यह्रास आदि। यह भी, निवेशकों के लिए उद्योग में विभिन्न आकारों की कंपनियों की व्यवहार्यता और आकर्षण की तुलना करने के लिए एक अच्छी माप बन जाता है। ईबीआईटीडीए, दूसरे शब्दों में, कंपनी के नकदी प्रवाह का प्रतिनिधित्व करता है। ईबीआईटीडीए ऑपरेटिंग आय या ईबीआईटी (ब्याज और करों से पहले की कमाई) का एक रूप है।

एक्सक्लूशन को समझने के लिए, हम बेहतर ढंग से समझेंगे कि कैसे ईबीआईटीडीए केवल संचालन से संबंधित चर को देखता है।

1. ब्याज दरों, ऋण भुगतान, अन्यों के बीच में परिवर्तन के कारण होने वाला व्यवसायिक खर्च ब्याज कहलाता है।

2. करों में राज्य, केंद्र, प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष करों के रूप में भुगतान किए जाने वाले कर शामिल हैं।

3. मूल्यह्रास गैर-नकद व्यय है जो रखरखाव और परिसंपत्तियों के रखरखाव और कटने- फटने पर खर्च होता है।

4. किसी परिसंपत्ति के जीवन पर फैली अमूर्त संपत्ति की लागत परिशोधन कहलाती है, जिसे पूर्वनिर्धारित किया जा सकता है।इन परिसंपत्तियों में कॉपीराइट, पेटेंट, समझौतों, अनुबंध और संगठनात्मक लागत शामिल हो सकती है।

एलटीएम ईबीआईटीडीए

एलटीएम या अंतिम बारह महीने का ईबीआईटीडीए अधिक सटीक होता है क्योंकि यह आपको पिछले 12 महीनों में ब्याज, करों और मूल्यह्रास से पहले की कमाई देता है। यह विश्लेषकों को वर्तमान में कंपनी के संचालन की एक स्पष्ट तस्वीर देता है।

ईबीआईटीडीए की गणना

ईबीआईटीडीए की गणना करने के लिए दो बहुत ही सरल सूत्र हैं

1. ईबीआईटीडीए= नेट लाभ+ब्याज+टैक्स+मूल्यह्रास+परिशोधन

2. ईबीआईटीडीए= ऑपरेटिंग आय+मूल्यह्रास +परिशोधन

ईबीआईटीडीए मार्जिन क्या है?

आप कैसे जानेगें कि किसी कंपनी का ईबीआईडीटीए काफी अच्छा है या नहीं? (लोग ईबीआईटीडीए के प्रतिस्थापन के रूप में ईबीआईटी या ईबीआईटीए का भी उपयोग करते हैं। ईबीआईटी ब्याज और करों या ऑपरेटिंग मार्जिन से पहले की कमाई है। ईबीआईटीए ब्याज, करों और परिशोधन से पहले की कमाई होती है)।

आपको इसके लिए कंपनी के ईबीआईटीडीए मार्जिन को देखने की जरूरत है। ईबीआईटीडीए मार्जिन,कुल ईबीआईटीडीए  को कंपनी के कुल रेवन्यू से विभाजित करके निर्धारित किया जा सकता है। ईबीआईटीडीए मार्जिन किसी कंपनी की लाभप्रदता अनुपात का संकेत होता हैं। यह रेवन्यू के प्रतिशत के रूप में ईबीआईटीडीए को मापता है।

ईबीआईटीडीए मार्जिन कंपनी के बारे में क्या संकेत देते हैं?

उच्च ईबीआईटीडीए मार्जिन निवेशकों के लिए मजबूत विकास का अवसर दिखाते हैं क्योंकि उच्च ईबीआईटीडीए मार्जिन संपूर्ण रेवन्यू से संबंधित कम ऑपरेटिंग व्यय का संकेत देते हैं।

आइए अब हम एक उदाहरण देखते हैं,

फर्म एबीसी के पास 1.5 करोड़ रुपये की कुल रेवन्यू है। इसमें 15 लाख का ईबीआईटीडीए है। कंपनी का ईबीआईटीडीए मार्जिन 10% पर है।

अब, मान लीजिए कि किसी कंपनी एक्सवाईजेड का 8% का ईबीआईटीडीए मार्जिन है, इसका मतलब यह होगा कि कंपनी एबीसी और एक्सवाईजेड के बीच, अन्य सभी कारक के स्थिर रहने पर, एबीसी का ऑपरेटिंग लाभप्रदता अनुपात उच्च और  ऑपरेटिंग खर्च कम होगा। उच्च ईबीआईटीडीए मार्जिन या ईबीआईटी मार्जिन भी एक कंपनी द्वारा लागत में कटौती करने में लचीलापन दिखाते हैं।

ईबीआईटीडीए और समायोजित ईबीआईटीडीए के बीच अंतर

ईबीआईटीडीए क्या समायोजित करता है, यह केवल नकदी प्रवाह और आय को मानकीकृत करता है और विसंगतियों से दूर रखता है, इसलिए विश्लेषक दो कंपनियों के ईबीआईटीडीए की तुलना बेहतर ढंग से कर सकते हैं।

समायोजित ईबीआईटीडीए की गणना में, हम एक बार, अनियमित और गैर-आवर्ती लागतों को हटाते हैं जिनका किसी कंपनी के दिन-प्रतिदिन के संचालन पर प्रत्यक्ष प्रभाव नहीं पड़ता है। इनमें निम्नलिखित चीज़े शामिल हैं

1. अवास्तविक एकल लाभ या हानि

2. मुकदमा

3. गैर-नकद व्यय

4. शेयरों के रूप में मुआवजा

5. संपत्ति का लेखा-जोखा

6. विदेशी मुद्रा लाभ/हानि, अन्य और

ईबीआईटीडीए मल्टीपल: अर्थ और महत्व

ईबीआईटीडीए मल्टीपल एंटरप्राइज़ वैल्यू नामक एक और कारक पर निर्भर करता है जो कि मार्केट कैप, बही ऋण, अल्पसंख्यक हिस्सेदारी और पसंदीदा शेयर, माइनस कैश का योग है।

ईबीआईटीडीए मल्टीपल ईबीआईटीडीए द्वारा एंटरप्राइज़ वैल्यू को विभाजित करके बनाया गया है।

ईबीआईटीडीए मल्टीपल = एंटरप्राइज़ वैल्यू/ईबीआईटीडीए

ईबीआईटीडीए मल्टीपल अनुपात का महत्व

ईबीआईटीडीए मल्टीपल अनुपात संकेत देता है यदि कोई कंपनी ओवरवैल्यूड या अंडरवैल्यूड है। मल्टीपल कंपनी के ऋण को ध्यान में रखते हैं, जो ईबीआईटीडीए के साथ खरीदारों और विश्लेषकों को यह भी स्पष्ट कर देता है, कि कंपनी अपनी बही ऋण के साथ क्या करेगी। एक उच्च ईबीआईटीडीए मल्टीपल अनुपात यह दिखाता  है कि  कंपनी, ईबीआईटीडीए के अपेक्षाकृत कम होने के बाद ओवरवैल्यूड हो सकती है। एक कम ईबीआईटीडीए मल्टीपल अनुपात से यह दिखाता है कि कंपनी  अपेक्षाकृत अंडरवैल्यूड हो सकती है । 

ईबीआईटीडीए का महत्व

यहाँ यह बताया गया है कि आपको कंपनी के व्यवसाय के सबसे सटीक मूल्यांकन के लिए ईबीआईटीडीए की आवश्यकता क्यों होती है।

1. यह आपको कंपनी के वास्तविक मूल्य का एक स्पष्ट विचार देता है

कंपनियों की तुलना करना आसान है; ईबीआईटीडीए पूँजी वित्तपोषण, पूँजी मूल्यह्रासों या करों जैसे तत्वों के प्रभाव को हटा देता है।

2. प्रदर्शनकारी वैल्यू

ईबीआईटीडीए मूल्यांकन विश्लेषकों, निवेश बैंकरों या निजी इक्विटी निवेशकों काध्यान केंद्रित करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि किसी व्यवसाय को खरीदते समय या उसका मूल्य निर्धारण करते समय, यह जानना महत्वपूर्ण होता है कि कोई कंपनी अपने आप को बनाए रखने के लिए नकदी प्रवाह उत्पन्न करने में कितनी सक्षम है और क्या वह अपने शेयरधारकों को अच्छा लाभ प्रदान कर सकती है।

3. ईबीआईटीडीए मार्जिन का मूल्य

इसके अलावा, ईबीआईटीडीए मार्जिन में वृद्धि सीधे एक कंपनी के मूल्य में वृद्धि के आनुपातिक होती है। कुल रेवन्यू के सापेक्ष ऑपरेटिंग लागत के रूप में फर्म के व्यावसायिक मूल्य को साबित करने का यह सबसे आसान अनुपात है।

ईबीआईटीडीए: पक्ष और विपक्ष

इसके कई कारण हैं कि क्यों एक ईबीआईटीडीए किसी कंपनी के मूल्यांकन में गंभीर विश्लेषकों और इच्छुक खरीदारों के लिए माप का एक विकल्प है।

ईबीआईटीडीए के लाभ

1. यह व्यवसाय की परिचालन लाभप्रदता का स्पष्ट दृष्टिकोण प्रदान करता है।

2. फर्म के ऑपरेटिंग प्रदर्शन को प्रदर्शित करने के लिए, यह पिक्चर से गैर-लागू खर्चों को समाप्त करता है, जिसमें पूँजी संरचना, ब्याज भुगतान और मूल्यह्रास और अमूर्त संपत्तियों के परिशोधन को कवर करने वाले खर्च शामिल हैं।

3. दूसरे शब्दों में, यह एक और तत्काल पिक्चर देता है कि कैसे एक कंपनी दिन- प्रतिदिन अपने व्यवसाय का संचालन कर रही है।

4. यह वर्तमान में चल रहे व्यवसाय के दौरान उत्पन्न कंपनी के नकदी प्रवाह का एक साफ दृश्य है।

5. यह लाभ उत्पन्न करने के लिए कंपनी की क्षमता को दर्शाता है।

6. यह एक तुलनात्मक वैल्यू है और आपको दो कंपनियों की कुशलता से तुलना करने में सक्षम बनाता है कि उनके परिचालन कितनी अच्छी तरह से किए जा रहे हैं।

7. किसी कंपनी के ईबीआईटीडीए की गणना करने का फॉर्मूला उतना ही सीधा है जितना किसी कंपनी के बेसलाइन मुनाफे पर आसानी से पहुंचना और उसे पाना है।

ईबीआईटीडीए की कमियाँ

1. यह आधारभूत लाभ पर केंद्रित है, लेकिन पूँजीगत व्यय को शामिल करने में विफल होने के कारण अक्सर इसकी आलोचना की जाती  है। यह एक पूँजी संरचना में समस्याओं को बाहर रखता है जैसे यह कार्यशील पूँजी में परिवर्तन की छूट देता है।

2. ईबीआईटीडीए जीएएपी या सामान्य स्वीकृत लेखा सिद्धांतों के तहत नहीं आता है, जो इसे कई तरीकों से ईबीआईटीडीए और उसके घटकों की व्याख्या करने की संभावना के लिए स्पष्ट करता है। यह मनिप्यलैशन के लिए जगह छोड़ सकता है कि निवेशकों को केवल बाद के बिंदु पता चल सकें ।

3. ईबीआईटीडीए में यह माना जाता है कि मूल्यह्रास या परिशोधन लागत का एक बाद के  बिंदु पर ध्यान रखा जा सकता है। फिर भी, विनिर्माण जैसे विशिष्ट उद्योगों के लिए, यह एक महत्वपूर्ण खर्च हो सकता है जिसे देखने की आवश्यकता हो सकती है।

4. तरलता, संचालन को चालू रखने के लिए आवश्यक है, यह टैक्स आउटगो, ब्याज भुगतान या पूँजीगत व्यय से प्रभावित हो सकती है।

5. कर कानूनों में बदलाव और कर निहितार्थ भी कुछ व्यवसायों पर असर डाल सकते हैं।

6. ईबीआईटीडीए यह नहीं कहता कि कोई कंपनी अधिभारित है, जो कंपनी की चुकौती क्षमताओं के बारे में प्रश्न उठा सकती है।

7. ईबीआईटीडीए आपको यह नहीं बताएगा कि क्या मूल्यह्रास लिखने के लिए शेड्यूल में बदलाव किए गए हैं, जो बाद में बैकफायर कर सकते हैं।

8. ईबीआईटीडीए यह भी विचार नहीं करता है कि परिसंपत्तियों के परिशोधन की प्रक्रिया कितनी आसान या कठिन है।

निष्कर्ष:

संक्षेप में, किसी कंपनी में खरीदारी करने या किसी कंपनी का मूल्यांकन करने से पहले, आपको विशेषज्ञों और विश्लेषकों को ईबीआईटीडीए, ईबीआईटीडीए मल्टीपल, और समायोजित ईबीआईटीडीए जैसे प्रमुख परिचालन अनुपातों की गणना करके किसी व्यवसाय के स्वास्थ्य को पढ़ने में सक्षम होना चाहिए।