कैपिटल मार्केट्स ऐसा सक्रिय स्थान हैं जो विभिन्न प्रकार के निवेशकों की ज़रूरतों को पूरा करते हैं। निवेशकों द्वारा चुने जाने के लिए कई तरह के सेगमेंट और एसेट्स हैं। कोई नकद सेगमेंट में निवेश कर सकता है या फिर डेरिवेटिव सेगमेंट में ट्रेड करना चुन सकता है। सभी प्रमुख ट्रेडिंग सेगमेंट में मार्जिन ट्रेडिंग का विकल्प होता है, जो निवेशकों को अतिरिक्त पूंजी का विकल्प प्रदान करता है। मार्जिन ट्रेडिंग लाभ और हानि की मात्रा को बढ़ा देती है। क्योंकि कई निवेशक मार्जिन सुविधा का लाभ उठाते हैं और कई सेगमेंट में ट्रेड करते हैं, इसलिए आय-व्यय का हिसाब रखना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। पारदर्शिता में सुधार करने और निवेशकों को अपने आय-व्यय का हिसाब रखने में मदद करने के लिए, स्टॉकब्रोकर्स  हर दिन एक दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट प्रदान करते हैं।

दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट क्या है?

दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट एक पासवर्ड मार्जिन स्टेटमेंट है जो कि विनिमय विनियमों के अनुसारअनिवार्य है। यह स्टेटमेंट ग्राहकों को उपलब्ध मार्जिन के उपयोग के बारे में सूचित करता है। यह जुर्माना आकर्षित किये बिना नए पदों को लेने के लिए खाते में उपलब्ध मुक्त मार्जिन की जानकारी देता है। दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट भारत के प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड द्वारा निर्धारित एक निश्चित प्रारूप में तैयार किया जाता है। एक निश्चित प्रारूप एकरूपता और समझने में आसानी सुनिश्चित करता है। यदि आप ट्रेडिंग-डे के अंत से पहले प्रत्येक ग्राहक को भेजे जाने वाले अतिरिक्त सुरक्षित दस्तावेज़ में ट्रेड करते हैं, दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में सभी एक्सचेंजों से डेटा शामिल होगा। विभिन्न सेग्मेंट्स में ट्रेडिंग के मामले में, दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में सभी सेगमेंट से डेटा होगा। उदाहरण के लिए, यदि आप नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेड करते हैं, तो एनएसई के दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में इक्विटी डेरिवेटिव सेगमेंट के डेटा के साथ इक्विटी कैश का डेटा भी होगा। दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में दोनों सेगमेंट से डेटा होगा।

दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट का अर्थ समझना?

मार्केट नियामक ने दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट के लिए एक प्रारूप निर्धारित किया है और इसलिए स्टॉकब्रोकर्स को अनिवार्य रूप से कुछ विवरण शामिल करना होता है।

फंड्स : फंड्स के अनुभाग में ट्रेडिंग-डे पर क्रेडिट और डेबिट को पलटने के बाद शेष रोकड़ लिखी होती है। फ्यूचर्स, विकल्पों और CDS से संबंधित डेटा के लिए, ट्रेडिंग-डे के क्रेडिट और डेबिट को उलट देते हैं, जबकि नकद खंड के मामले में, ट्रेडिंग-डे और टी1-डे के क्रेडिट और डेबिट को उलट देते हैं। स्टॉकब्रोकरों द्वारा उपयोग की जाने वाली शब्दावली के अनुसार, टी-डे का मतलब ट्रेडिंग-डे है। उदाहरण के लिए, यदि आपने 7 सितंबर को ट्रेडों को निष्पादित किया है, तो दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट के लिए ट्रेडिंग-डे 7 सितंबर होगा। यदि आप ट्रेडिंग-डे  पर चेक जमा करते हैं, तो राशि दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में दिखाई देनी चाहिए। हालांकि, अधिकांश ब्रोकर्स जब तक कि बैंक द्वारा चेक क्लियर नहीं किया जाता तब तक चेक की राशि को दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में शामिल नहीं करते हैं। 

हेअरकट  के बाद प्रतिभूतियों का मूल्य: इस खंड में उचित हेअरकट के बाद प्रतिभूतियों का कुल मूल्य होता है। होल्डिंग्स का संकल्प लेने के बाद प्राप्त मार्जिन इस अनुभाग में शामिल है। इस तरह की प्रतिभूतियों को ब्रोकर्स रोक लेते हैं। हेअरकट की मात्रा वीएआर मार्जिन दर से कम नहीं होती है। वीएआर मार्जिन दर ब्रोकर द्वारा तय की जाती है और यह ब्रोकर के जोखिम प्रबंधन नीति के अनुसार संशोधित की जा सकती है।

बैंक गारंटी/एफडीआर: इस अनुभाग में बैंक गारंटी या सावधि जमा करने के बाद उपलब्ध प्रारंभिक मार्जिन का विवरण शामिल है। दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट में, इसे आम तौर पर इक्विटी डेरिवेटिव या मुद्रा सेगमेंट के सामने दिखाया जाता है।

मार्जिन का कोई अन्य अनुमोदित रूप: इक्विटी डेरिवेटिव या मुद्रा डेरिवेटिव सेगमेंट में ट्रेड करने के लिए, प्रारंभिक मार्जिन प्रदान करना अनिवार्य है।

कुल अग्रिम मार्जिन: इस अनुभाग में कुल स्पैन, एक्सपोजर मार्जिन और निवेशक द्वारा विभिन्न पदों पर रोके गए विकल्प आप्शन प्रीमियम शामिल है।

MTM: मार्केट घाटे के के बारे में MTM अनुभाग में दिखाया जाता हैं।

कुल आवश्यकता: यह अनुभाग आपके पदों के लिए एक्सचेंज द्वारा अवरुद्ध की गयी संपूर्ण  राशि दिखाता है। कुल आवश्यकता प्रत्येक ट्रेड सेगमेंट के लिए प्रदान की जाती है।

मार्जिन स्थिति: यह अनुभाग अगले ट्रेडिंग-डे पर ताजा पदों को लेने के लिए उपलब्ध शेष राशि दिखाता है।

निष्कर्ष

दैनिक मार्जिन रिपोर्ट एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो ट्रेडर को दैनिक आय-व्यय की स्पष्ट तस्वीर प्रदान करता है। ट्रेडर्स के लेनदेन को बढ़ाने के लिए ब्रोकर्स द्वारा प्रदान की जाने वाली मार्जिन सुविधा एक लोकप्रिय तरीका बन गई है। मार्जिन ट्रेडिंग के बढ़ते उपयोग के साथ दैनिक मार्जिन स्टेटमेंट का महत्व भी बढ़ गया है।