जब एक देश में रहने वाला निवेशक किसी दूसरे देश में आधारित व्यवसाय में निवेश करता है, तो उसे विदेशी प्रत्यक्ष निवेश कहा जाता है। भारत में एफडीआई नीति भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा प्रशासित विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (एफईएमए) 2000 के तहत विनियमित है।

एफडीआई के तहत, विदेशी निवेशक कंपनी का एक निश्चित प्रतिशत है जहां निवेश किया जा रहा है। यदि निवेशक निश्चित प्रतिशत से कम का मालिक है, तो अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) इसे अपने स्टॉक पोर्टफोलियो के हिस्से के रूप में परिभाषित करता है। चूंकि निवेशक केवल कंपनी के कुछ हिस्से का मालिक है, यह निवेशक को पूरा नियंत्रण नहीं देता है। लेकिन कंपनी के प्रबंधन, संचालन और नीतियों को प्रभावित करने के लिए पर्याप्त है। यह निवेशक को व्यापार में स्थायी रुचि विकसित करने के लिए सुनिश्चित करता है।

एफडीआई के कुछ लाभ यहां दिए गए हैं:

1 आर्थिक विकास में वृद्धि

निजी निवेश बढ़ती नौकरियों और मजदूरी में मदद करता है और आर्थिक विकास को बढ़ावा देता है। जब कोई निवेशक भारत में व्यवसाय स्थापित करता है, तो यह लोगों के लिए नौकरी के अवसर पैदा करता है। विदेशी प्रत्यक्ष निवेश विनिर्माण, प्रौद्योगिकी और सेवाओं जैसे विभिन्न क्षेत्रों को बढ़ावा देने में मदद करते हैं, इस प्रकार बेरोजगारी को कम करते हैं और अर्थव्यवस्था के विकास को बढ़ावा देते हैं। विदेशी प्रत्यक्ष निवेश अर्थव्यवस्थाओं के विकास के लिए महत्वपूर्ण है जहां कंपनियों को अपनी बिक्री का विस्तार करने के लिए धन और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।

2 ग्रामीण क्षेत्रों का विकास

बड़े क्षेत्रों जैसे संसाधनों की उपलब्धता के कारण अधिकांश उद्योग ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित किए जाते हैं। वे निर्माण के लिए स्थानीय श्रम, सामग्री और उपकरणों का उपयोग एफडीआई इन क्षेत्रों को औद्योगिक क्षेत्रों में बदलने, स्थानीय लोगों को रोजगार प्रदान करने और अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में मदद करता है।

3 वित्त और प्रौद्योगिकी का प्रावधान

विदेशी प्रतिष्ठान दुनिया के विभिन्न हिस्सों से नवीनतम उपकरणों, प्रौद्योगिकियों और परिचालन प्रथाओं तक पहुंच सक्षम करते हैं। इसका परिणाम स्थानीय अर्थव्यवस्था में उनके वितरण में होता है, जिससे अर्थव्यवस्था की दक्षता बढ़ जाती है।

4 निर्यात में वृद्धि

एफडीआई उत्पादित सामानों में वैश्विक बाजार होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप अन्य देशों में निर्यात में वृद्धि होती है।

5 विनिमय दर स्थिरता

एफडीआई विदेशी मुद्रा के निरंतर प्रवाह को सक्षम बनाता है। यह देश के सेंट्रल बैंक को विदेशी मुद्रा के रिजर्व को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे स्थिर विनिमय दर सुनिश्चित हो सके।

6 एक प्रतिस्पर्धी बाजार का निर्माण

एफडीआई विदेशी संस्थाओं को शामिल करके और घरेलू एकाधिकार को तोड़कर प्रतिस्पर्धी माहौल बनाने में मदद करता है। खरीदारों के शेयरों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए उपयोग किया है के रूप में, यह एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धी वातावरण बनाता है। कंपनियों को निवेशकों को आकर्षित करने के लिए अभिनव होने के लिए अपनी प्रक्रियाओं को बढ़ाने के लिए आवश्यक है।