अक्सर यह कहा जाता है कि किसी शेयर को खरीदना और इसे लंबे समय तक रखना सबसे अच्छी रणनीति है। हालाँकि, प्रत्येक को इसे सही कीमत पर खरीदना चाहिए। जबकि प्रतिभूतियों की सही कीमतों का पता लगाने के विभिन्न पैरामीटर हैं, प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के दौरान सही कीमतों के मिलने की संभावना अधिक होती है। जब किसी निजी कंपनी के शेयर स्टॉक एक्सचेंज पर पहली बार कारोबार करना शुरू करते हैं, तो इसे आईपीओ के नाम से जाना जाता है। एक्सचेंजों पर शुरुआत करने से पहले कोई भी आईपीओ की सदस्यता ले सकता है और कंपनी के शेयरों को खरीद सकता है। यूपीआई के माध्यम से आईपीओ में आवेदन करने के लिए आगे बढ़ने से पहले, आइए हम एक आईपीओ के विवरण को बारीकी से समझते हैं।   

आईपीओ के उप-घटक

यहाँ एक आईपीओ से जुड़े विभिन्न शब्द हैं जैसे बिक्री प्रस्ताव और अनुवर्ती प्रस्ताव। एक आईपीओ ताज़ा जारी शेयर  या बिक्री प्रस्ताव या दोनों का संयोजन हो सकता है। ताज़ा जारी किए गए शेयरों के  मामले में, कंपनी नए शेयर जारी करती है और एकत्रित फंड कंपनी के पास जाता है। जारी किए गए शेयरों के माध्यम से उठाए गए धन का उपयोग कंपनी द्वारा विस्तारीकरण एवं ऋण वापसी जैसे उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जाता है। जारी किए गए शेयरों के विपरीत, बिक्री प्रस्ताव में, मौजूदा शेयरधारक अपनी हिस्सेदारी को बंद करते हैं और आय शेयरधारक के पास जाती है। बिक्री प्रस्ताव के मामले में कंपनी को कोई पूँजी नहीं मिलती है। अनुवर्ती प्रस्ताव एक आईपीओ नहीं है क्योंकि शेयर पहले से ही एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध होते हैं। अतिरिक्त धन जुटाने के लिए एक कंपनी द्वारा अनुवर्ती प्रस्ताव या एफपीओ लॉन्च किया जाता है।

आईपीओ के लिए सदस्यता

आईपीओ खुलने से पहले, इसके खुलने और और बंद होने की तिथियाँ  और सदस्यता के लिए एक कीमत बैंड की घोषणा की जाती है। आईपीओ की सदस्यता लेने के दौरान, प्रत्येक को एक विशिष्ट लॉटो संख्या के लिए आवेदन करना पड़ता है, प्रत्येक लॉट में कई शेयर होते हैं। भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड द्वारा विकसित एएसबीए प्रणाली के तहत, आपके द्वारा सब्सक्राइब किए गए शेयरों के मूल्य के बराबर राशि आपके बैंक खाते में रोक दी जाती है। आपको आवंटित शेयरों के बराबर केवल एक राशि खाते से काट ली जाती है। हाल के कुछ बदलावों के बाद, बाजार नियामक ने निवेशकों को यूपीआई के माध्यम से आईपीओ के लिए आवेदन करने की अनुमति दी है। आइए अब हम समझते हैं  कि यूपीआई के माध्यम से आईपीओ के लिए आवेदन कैसे करें।

यूपीआई का उपयोग कर आईपीओ के लिए कैसे आवेदन करें?

आईपीओ के भुगतान विकल्पों में यूपीआई या यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस को जोड़ने से आईपीओ की सदस्यता लेना आसान हो गया है। यूपीआई के माध्यम से आईपीओ में आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें: 

— यूपीआई 2.0 इनेबल्ड वाले किसी भी ऐप को डाउनलोड एवं इंस्टॉल करें

—अपने डीमैट और ट्रेडिंग खाते से जुड़े हुए बैंक खाते के लिए एक यूपीआई आईडी और एम पिन बनाएँ

— अपने स्टॉक ब्रोकर के ऐप में लॉग इन करें और आईपीओ मेनू पर जाएँ 

— सदस्यता के लिए खुले आईपीओ में से अपनी पसंद का एक आईपीओ चुनें

— आईपीओ के विवरण जैसे खुलने एवं बंद होने  की तिथियां, जारी करने की तिथि, लॉट की संख्या  और डीआरएचपी को ध्यान से पढ़ें

— अपने ट्रेडिंग और डीमैट खाते से जुड़े बैंक खाते की यूपीआई आईडी प्रदान करें

— उन लॉटो की संख्या निर्दिष्ट करें जिसके लिए आप बोली लगाना चाहते हैं

— यदि आप कट ऑफ कीमत पर सदस्यता लेना चाहते हैं, तो कट-ऑफ कीमत के साथ चेकबॉक्स पर क्लिक करें

— किसी भी अन्य कीमत पर बोली लगाने के लिए, दी गई जगह में कीमत दर्ज करें

— अनुबंध को पढ़ें और सबमिट करें

— सबमिशन के बाद, आपको यूपीआई ऐप में एक आवश्यक अनुरोध प्राप्त होगा 

—आवश्यक अनुरोध को स्वीकार करने के बाद,  लॉट की संख्या जिनकी सदस्यता ली गयी है, के बराबर धन खाते में रोक दिया जाएगा

— यदि आपके द्वारा लगाई गयी बोली सफल होती है और आपको आवंटन मिल जाता है, तो बैंक खाते से धन काट लिया जाता है और शेयरों को डीमैट खाते में जमा कर दिया जाता है।

— यदि शेयर आपको आवंटित नहीं किए जाते हैं, तो रोकी गई राशि आवंटन की तिथि पर जारी की जाएगी

निष्कर्ष

यूपीआई के माध्यम से आईपीओ में निवेश करने की सुविधा सेबी द्वारा 2019 में शुरू की गई थी। यूपीआई और इसके सरल इंटरफेस के बढ़ते प्रवेश ने इसे एक महत्वपूर्ण भुगतान विकल्प बना दिया है। बाजार नियामको  ने आईपीओ अनुप्रयोगों के लिए यूपीआई 2.0 विकल्प प्रदान करना अनिवार्य बना दिया है। आईपीओ के भुगतान की सूची में यूपीआई के जुडने से सार्वजनिक पेशकश में सुधार हुआ है।