भारत मे आयकर का भुगतान कई लोगों के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य है जिसमें कई बार वो इस समाधान की तलाश मे रहते है कि कर योग्य आय को कैसे कम करे। कर के बोझ को कम करने स उनके वित्त में एक बड प्रभाव पड़ सकता है। धारा 80 सी के तहत छूट और कर मे कटौती की पेशकश करने वाले उपकरणों में निवेश के माध्यम के तरीको से हम हर साल कर के बोझ को कम कर सकते है। यदि भारत में आप अपने करों पर बचत करना चाहते हैं, तो सभी कर-बचत विकल्पो को जानना महत्वपूर्ण है। भारत में कर की बचत करने के  तरीको के बारे में दस बातें जानने के लिए यहां दी गई हैं।

जीवन बीमा 

बीमा पॉलिसी खरीदने से कई तरह के लाभ होते है हैं लेकिन कुछ प्रमुख लाभों  में स एक यह है कि वे करों को बचाने में आपकी सहायता करते हैं। जब कोई जीवन बीमा विकल्पों को  चुनता है, तो यह न केवल जीवन कवरेज प्रदान करता है बल्कि किसी के करों को कम करने के तरीके के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसकी पॉलिसी के माध्यम से, हर साल प्रीमियम का भुगतान होता  है जिसके बदले बीमित व्यक्ति का निधन होने पर   एकमुश्त बड़ी राशि के रूप में भुगतान किया जाता है। आयकर अधिनियम की धारा 80सी के अनुसार जीवन बीमा की पॉलिसी प्रीमियम पर किए गएभुगतान,  आयकर पर कर कटौती के लिए भी उत्तरदायी हैं। 

आकर्षक ब्याज पाने के लिए टैक्स सेवर एफडी में निवेश करें

सीधे तौर पर कर सेवर फिक्स डिपॉज़िट मे निवेश करना भी एक अच्छा विकल्प होता है।   कई बैंक भी फिक्ड डिपॉज़िट को एक बेहतर कर बचत के साधन के तौर पर पेश कर रहे हैं।  इस तरह की डिपॉज़िट मे  प्रत्येक वर्ष 1 लाख से 1.5 लाख रुपये तक की राशि का निवेश करके ब्याज भी अर्जित कर सकते है जिस पर कोई कर देय नहीं  होगा। हालांकि, ध्यान रखें, ये फ़िक्स्ड डिपॉज़िट पांच साल के लॉक-इन अवधि के साथ आते हैं।

असीमित निवेश के लिए, डाकघर टाइम डिपॉज़िट

एक डाकघर टाइम डिपॉज़िट एक फ़िक्स्ड डिपॉज़िट से ज्यादा भिन्न नहीं होता है, केवल इस तथ्य को छोड़कर कि उस व्यक्ति  के द्वारा निवेश की गयी  राशि पर कोई सीमा नहीं होती है। डाकघर टाइम डिपॉज़िट में 200 रुपये की न्यूनतम राशि निवेश की  जा सकती है  और इसमें 8.5% प्रति वर्ष की  आकर्षक ब्याज दर है।धारा 80 सी के अनुसार कोई भी पांच साल की लॉक-इन अवधि के माध्यम से कर पर लाभ उठा सकता है।

कोई भी यूएलआईपी निवेश के माध्यम से अपने कर का बोझ कम कर सकता है

यूनिट-लिंक्ड बीमा योजनाएं भी  बाजार की कर योजनाओ से जुड़े हुए हैं। इस तरह के कर डिपॉज़िट योजना के तहत निवेशको को निवेश के लाभ के साथ – साथ सुरक्षा भी प्रदान की जाती है।  इस योजना के तहत किए गए वित्तीय निवेश भी कर कटौती के लिए पात्र हैं, इसके अलावा किसी के पैसे को बढ़ने म मदद   करके अवसर प्रदान करते हैं।

स्वास्थ्य बीमा का उपयोग कर चिकित्सा लागत और करों की बचत करें।

चूंकि चिकित्सा उपचार के  साथ ही देखभाल की लागत भी, तेजी से बढ़  रही है, जिससे स्वास्थ्य बीमा खरीदना भी अब आवश्यक हो रहा है। स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी  यह सुनिश्चित करने में मदद करती है कि उनके पास चिकित्सा खर्चों की देखभाल करने के लिए पर्याप्त वित्त है। अपने स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के अंतर्गत भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम के साथ,  यदि कोई व्यक्ति वरिष्ठ नागरिक है। तो वह अपने कर का बोझ 25,000 रुपये से लेकर 50,000 रुपये तक कम कर सकता है। 

छोटी लॉक इन अवधि पर अपने कर को कम करने के लिए ईएलएसएस 

इक्विटी लिंक्ड बचत योजनाएं एक प्रकार का म्यूचुअल फंड है जिसका उपयोग किसी के कर के बोझ को कम करने के लिए किया जा सकता है। इन फंडों की लॉक-इन अवधि सिर्फ तीन साल है, जो सार्वजनिक भविष्य निधि या फ़िक्स्ड डिपॉज़िट की तुलना में बहुत कम है। लेकिन यह प्रमुख बाजारो की गति के अधीन है इस योजना के मुख्य लाभों में से एक यह है कि यह लंबे समय तक निवेश पर भारी वापसी प्रदान करता है। 

ऋण भी करों को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता

होमलोंन भी किसी के कर के बोझ को कम करने के लिये एक एक अच्छा माध्यम हो सकता है।  वास्तव में, होमलोन 80 सी के अलावा भी कर बचत करने के विकल्पों का हिस्सा हैं। आयकर अधिनियम की धारा 24 के तहत, किसी के होमलोन पर दिये गए ब्याज पर 1.5 लाख रुपये की राशि के लिए कर कटौती कालाभ उठाया जा सकता है।

ई-ई-ई स्थिति के लिए सुविधा 

यदि आप कर बचत साधनो का चयन करते समय अपने पैसे से लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो उन साधनो की तलाश करें जिनके पास छूट छूट छूट या ईईई की स्थिति है। ईईई   कर निवेश के किसी भी स्तर पर लागू नहीं होगा। जीनमे कुछ विकल्पों मे से  सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) और कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ), सुकन्या समीधी खाता (एसएसए) और राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) हैं।

स्वैच्छिक साधनो में दान भी लागू होता है

80 सी के अलावा भी कर-बचत के विकल्प हैं। उदाहरण के लिए, दान  या किसी भी परोपकारी प्रतिबद्धताओं के लिए किए गए दान की प्रति से  भी कर कटौती के लिए दावा किया जा सकता है। इनमें राष्ट्रीय राहत निधि जैसे साधनो के लिए किए गए योगदान भी शामिल हैं ध्यान रखें कि धारा 80 जी के अनुसार चेक या नकदी के माध्यम से किए गए दान मे ही केवल कर कटौती के लिए दावा किया जा सकता है। वित्त मंत्रालय ने निर्दिष्ट किया है कि कौन कौन से संगठन दोनों दान कर सकते हैं और कर कटौती का दावा कर सकते हैं।

एचयूएफ़ प्राप्तियां भी कर मुक्त   हैं

सिख, जैन या हिन्दू परिवार को, हिन्दू अविभाजित परिवार का दर्जा दिया जाता है। आयकर विभाग के अनुसार, एचयूएफ एक अलग कर इकाई है, जिसमें एक अलग बैंक खाते और पैन दोनों को कर से छूट दी गई है। धारा 10 (2) के अनुसार, इन परिवारों की आय या संपत्ति से प्राप्त किसी भी राशि को कर दायित्वों से छूट दी जाएगी। एक व्यक्ति को अपने वेतन से अपने करों का भुगतान करने की अनुमति दी जाएगी, जबकि एक एचयूएफ खाते के  माध्यम से जमा गयी आय कराधान के लिए उत्तरदायी नहीं है।

अंत मे 

कर बचत का विकल्प चुनते समय सुनिश्चित करे की आपको वह विकल्प मिल जाए जो आपकी आवस्यकताओ के लिए सबसे उपयुक्त हो।  भारत में कई कर बचत विकल्प हैं लेकिन  आप तरलता, सुरक्षा, उपकरणों के रिटर्न को ध्यान में रखते हुये सुनिश्चित कर सकते हैं। लिखित कर उद्देस्यों को चुनते समय अपने उदेस्यों के बारे मे स्पस्ट होना जरूरी है।