जबकि शेयर बाजार में कुछ हफ़्तोंसे थोड़ी गिरावट देखी जा रही है, फिर भी विशेष रूप से भारत में; सोना, एक मूल्यवान कमोडिटी  बना हुआ है। रिपोर्ट्स के अनुसार, 2020 में भारत में सोने की खपत 2019 के मुकाबले 690.4 टन से बढ़कर 700-800 टन होने की उम्मीद है। इसके अलावा, चीन के साथ-साथ भारत विश्व स्तर पर सोने के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक है, क्योंकि अकेले भारत की सालाना मांग विश्व भर की सोने की खपत के 25 प्रतिशत के बराबर  है।

विशेष रूप से शादी और त्योहार के दिनों में देश में आभूषणों की मांग बढ़ जाती है, जिसके परिणामस्वरूप आमतौर पर इसकी कीमत बढ़ जाती है। हालांकि यह बढ़ी हुई मांग सोने की कीमतों पर सीधा असर करती है, पर देश भर में सोने की कीमतों को प्रभावित करने वाले और भी कई  कारण हैं। विश्व गोल्ड काउंसिल (WGC) ने अपनी एक रिपोर्ट में उल्लेख किया है कि, इसके विशेष रूप से दो महत्वपूर्ण कारण हैं – आय और सोने की कीमत का स्तर, जो लम्बे समय तक उपभोक्ता की मांग को प्रभावित करते हैं।

सोने की कीमत को प्रभावित करने वाले अन्य कारण हैं:

मुद्रास्फीति (महंगाई दर)

महंगाई दर, या माल और सेवाओं की कीमत में वृद्धि सोने की कीमतों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। मुद्रास्फीति की दर आमतौर पर सोने की कीमत में बदलाव के सीधे आनुपातिक होती है; अर्थात, मुद्रास्फीति के उच्च स्तर का परिणाम आम तौर पर सोने की कीमतों का अधिक होना होता है क्योंकि इससे मुद्रा का  मूल्य गिरने लगता है । ऐसा इसलिए है क्योंकि लोग आमतौर पर  महंगाई के दौरान सोने के रूप में धन संचय करना पसंद करते हैं; उन्हें लगता है की सोने की कीमत लम्बे समय तक स्थिर रहती है जिसके परिणामस्वरूप मांग में वृद्धि होती है। इस प्रकार, सोना मुद्रास्फीति के खिलाफ हेजिंग उपकरण के रूप में भी कार्य करता है।

ब्याज दरें

ब्याज दरों और सोने की कीमतों में पारंपरिक रूप से और सामान्य परिस्थितियों में, विपरीत संबंध  है; यानी, बढ़ती ब्याज दरों के साथ, लोग  आमतौर पर उच्च लाभ कमाने के लिए सोने को बेचना पसंद करते हैं। हालांकि, ब्याज दर में कमी के साथ, लोग अधिक सोना खरीदना पसंद करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप इसकी मांग में वृद्धि होती है, और इसकी कीमत बढ़ जाती है।

भारतीय आभूषण बाजार

परंपरागत रूप से, भारतीय परिवारों में सोने को एक बुरे समय में काम आने वाली संपत्ति के रूप में देखा जाता है, जबकि सोना भारतीय संस्कृति का एक अभिन्न अंग भी है। भारतीय परिवारों में शादी के बड़े समारोहों में या दीपावली जैसे महत्त्वपूर्ण त्योहारों पर आभूषणों से सुसज्जित होने का भी अपना महत्त्व है। इसलिए, शादी और त्यौहार के दिनों में, उपभोक्ता मांग में वृद्धि के परिणामस्वरूप सोने की कीमत बढ़ जाती है।

विश्व गोल्ड काउंसिल (WGC) ने 2019 में एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि भारतीय परिवारों द्वारा 25,000 टन सोना संचय किया गया है, जिससे भारत इस बहुमूल्य धातु का सबसे बड़ा धारक है।

अच्छा मानसून 

रिपोर्ट्स के अनुसार, ग्रामीण भारत का; भारत के कुल सोने की सालाना खपत 800-850 टन में 60 प्रतिशत का योगदान है। इसलिए देश में सोने की मांग पर ग्रामीण मांग का बहुत बड़ा प्रभाव है और किसान अपनी कमाई के लिए अच्छी फसलों पर निर्भर करते हैं। किसानों का भी देश की सोने की खपत में लगभग एक तिहाई का योगदान होता है, मानसून में अच्छी बारिश देश में सोने की मांग को बढ़ा देती है, क्यूंकि किसान भी संपत्ति बनाने के लिए सोना खरीद सकता है।

सरकारी भण्डारीकर्ण

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (और अधिकांश देशों के केंद्रीय बैंक) मुद्रा के साथ सोने के भंडार रखता है, और जब आरबीआई बेचने से अधिक मात्रा में सोना खरीदना शुरू कर देता है, तो इसके परिणामस्वरूप सोने की कीमत में वृद्धि होती है। यह बाजार में नकदी प्रवाह में वृद्धि के कारण होता है, जबकि सोने की आपूर्ति अपर्याप्त ही रहती है।

अनिश्चितता से संरक्षण

बाजार में अस्थिरता होने पर लोग आम तौर पर सोने में निवेश करना या सोना खरीदना पसंद करते हैं। ऐसा राजनीतिक अस्थिरता, या आर्थिक मंदी के कारण भी हो सकता है। सोने का मूल्य लम्बी अवधि में स्थिर रहता है, और इसलिए एक अनुकूल विकल्प के रूप में देखा जाता है जबकि अन्य संपत्ति समय के साथ अपना मूल्य खो देती हैं। इसके अलावा अनिश्चितता; सोने की कीमत को प्रभावित करने वाले अन्य कारणों के विपरीत, एक परिमाणात्मक आंकड़ा नहीं है, बल्कि मनोवैज्ञानिक कारण है।

भू-राजनीतिक कारण 

विश्व स्तर पर सोने की कीमत में कोई भी परिवर्तन भारत में इसकी कीमत को प्रभावित करता है, क्योंकि भारत सोने के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक है। इसके अलावा, निवेशकों द्वारा राजनीतिक अनिश्चितता या भू-राजनीतिक परिवर्तन के दौरान सोने को सुरक्षित आश्रय के रूप में भी माना जाता है, जिसके परिणामस्वरूप इसकी मांग में वृद्धि होती है, और इसकी कीमत बढती है। जबकि अन्य तरह के संपत्ति वर्ग में आम तौर पर ऐसे संकटों के दौरान मूल्य में गिरावट देखी जाती है, सोने की मांग ऊपर जाती है, जो पार्किंग फंड्स के लिए एक क्राइसिस कमोडिटी बन जाती है।

सोने पर रुपया और डॉलर का प्रभाव

यह समझना महत्वपूर्ण है कि रुपए और डॉलर का समीकरण भारत में सोने की कीमत को कैसे प्रभावित करता है। क्योंकि अधिकांश सोने का आयात किया जाता है, डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत कमजोर होने पर सोने की कीमत रुपयों में बढ़ जाती है, इसलिए रूपए की गिरती हुई कीमत, सोने की मांग को कम कर सकती हैं। 

निष्कर्ष:

सोने को एक महत्वपूर्ण मोनेटरी एसेट माना जाता है, और भारत में यह सबसे पसंदीदा निवेश विकल्पों में से एक है। सोने को किसी भी तरह के भू-राजनीतिक संकट या ग्लोबल ट्रेड वार्स के दौरान सबसे सुरक्षित विकल्प के रूप में देखा जाता है, जबकि सोने की कीमत को प्रभावित करने वाले अन्य बहुत से कारण हैं, जैसे मुद्रास्फीति, ब्याज दरें और रुपए – डॉलर के समीकरण; जो देश में सोने की कीमत को तय करते हैं।