What is FINNIFTY? – Nifty Financial Services Index | Hindi

Podcast Duration: 07:38

नमस्ते दोस्तों ! स्वागत है आपका एंजेल ब्रोकिंग के इस नए पॉडकास्ट में ! दोस्त जब आप अपने स्ट्रीमिंग प्लैटफ़ार्म के लिए म्यूजिक चुनते हो तो शायद आपको एक पहले से तैयार " सबसे मशहूर गाने" या " ट्रेंडिंग गानों" की लिस्ट मिलती है। यह भारत या विश्व में सबसे मशहूर गाने होते हैं। लेकिन आप अपना फ़िल्टर थोड़ा बादल सकते हैं। " सबसे मशहूर बॉलीवुड गाने" या " सबसे मशहूर हिप-हॉप ट्रेक" भी कर सकते हो। फिर आपको इसी कैटेगरी के सबसे मशहूर गाने दिखेंगे , ठीक है न? अभी घोषित फ़िन्निटी भी कुछ बदले हुए फ़िल्टर की तरह ही है। इससे समझने के लिए आपको पहले निफ्टी 50 समझने की ज़रूरत है। हो सकता है आपको पहले से ही इसकी जानकारी हो। लेकिन एक बार पक्का कर लेते हैं कि हम एक ही दिशा में जा रहें है। निफ्टी 50 देश की सबसे बड़ी 50 कंपनियों की सूची है। बड़ी कैसे? बड़ी बाज़ार मुक्त पूंजी, जिसका फॉर्मूला है स्टॉक प्राइस को बाज़ार में मौजूद नंबर ऑफ शेयर से गुना करें। यह 50 स्टॉक अलग-अलग सैक्टर के होते हैं- यह सूची आवश्यक रूप से विविध ही होती है। इसे हर छह: महीने में अपडेट किया जाता है। अब हम फ़िन्निटी की व्याख्या करने के लिए तैयार हैं। फ़िन्निटी को निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस इंडेक्स या निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस भी कहते हैं। यह बिलकुल निफ्टी 50 की तरह ही होता है, फर्क सिर्फ यह है की इसका ध्यान केवल आर्थिक स्टॉक पर होता है। बिलकुल वैसे जैसे आप सर्च फ़िल्टर को नेशनल स्टॉक एक्स्चेंज के पोस्ट पोपुलर ट्रेक के लिए सेट कर लो। इस साल जनवरी में फ़िन्निटी की शुरुआत की गयी थी। यह बैंक, इन्शुरेंस कंपनी, एन बी एफ़ सी, हाउसिंग फ़ाइनेंस और अन्य आर्थिक कंपनियों के 20 स्टॉक की सूची है। बिलकुल निफ्टी 50 के जैसे ही इन्हें बाज़ार मुक्त पूंजी के आधार पर चुना जाता है। आप पहले से जानते हैं जो सही है? उचित स्टॉक मूल्य को मार्केट में बाकी बचे शेयर की कीमत से गुना किया जाता है। इनको भी निफ्टी 50 की तरह हर छह महीने में अपडेट। कौन से स्टॉक फ़िन्निटी में होते हैं: - एच डी एफ़ सी बैंक , एच डी एफ़ सी हाउसिंग फ़ाइनेंस , आई सी आई सी आई बैंक, कोटक बैंक, एक्सिस बैंक, एस बी आई , बजाज फिनसर्व, वाह काफी सारे बैंक हैं इस लिस्ट पर ! एच डी एफ़ सी इन्शुरेंस , एस बी आई लाइफ इन्शुरेंस, आई सी आई सी आई लोमबार्ड जनरल इन्शुरेंस। और कई सारी इन्शुरेंस कंपनियाँ भी ! श्रीराम ट्रांसपोर्ट फ़ाइनेंस, आई सी आई सी आई प्रूडेंशियल लाइफ इन्शुरेंस, पिरामल कैपिटल एंड हाउसिंग फ़ाइनेंस, बजाज होल्डिंग एंड ईन्वेस्ट्मेंट्स, चोलामंडलम इनवेस्टमेंट एंड फ़ाइनेंस, एच डी एफ़ सी एसेट मैनेजमेंट कंपनी, पावर फ़ाइनेंस कार्पोरेशन, रेक लिमिटेड - यह पावर सैक्टर से जुड़ी हुई आर्थिक कंपनियाँ हैं। महिंद्रा एंड महिंद्रा फ़िनेंशियल। यह लिस्ट सुन के आपको अंदाज़ा हो गया होगा की फ़िन्निटी इंडेक्स पर 60% बैंक हैं। 20% हाउसिंग फ़ाइनेंस कंपनी हैं, एन बी एफ़ सी 10% हैं और बाकी सब 2% से थोड़ा सा ज्यादा हैं। आप निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस को कैसे इस्तेमाल कर सकते हो? ठीक वैसे ही जैसे कोई निफ्टी 50 या बी एस ई सेंसेक्स को इस्तेमाल करता है। ऑप्शन 1: फ़िन्निटी को बेंचमार्क की तरह इस्तेमाल करें। इन इंडेक्सेस को बेंचमार्क की तरह इस्तेमाल किया जाता है। स्टॉक के परफॉर्मेंस की निफ्टी 50 या बी एस ई सेंसेक्स से तुलना की जाती है। अब निवेशक अपने आर्थिक सैक्टर के स्टॉक को एक निश्चित बेंचमार्क के साथ इस नए निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस के साथ तुलना कर सकते हैं। ऑप्शन 2 : फ़िन्निटी को एक शॉपिंग लिस्ट की तरह इस्तेमाल कीजिये। वैकल्पिक रूप से कुछ मंझे हुए निवेशक सभी 50 स्टॉक को उसी समान वेटेज के साथ खरीदना चाहते हैं जैसी वो इंडेक्स पर दिख रही है। अब जो हमने पहले लिस्ट की चर्चा की थी उसमें पहले आर्थिक कंपनी एच डी एफ़ सी बैंक की 27.13 % वेटेज है, दूसरी एच डी एफ़ सी हाउसिंग फ़ाइनेंस की 17.51% वेटेज है और इसी तरह आगे भी ... वेटेज गिरता जाता है जैसे - जैसे आप लिस्ट में आगे बढ़ते जाते हैं। निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस के आखिरी कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा फ़िनेंशियल की वेटेज 0.44% है। ऑप्शन 3 : फ़िन्निटी के जरिये म्यूचुअल फ़ंड में महारत हासिल कीजिये। तीसरा ऑप्शन है ऐसे म्यूचुअल फ़ंड में निवेश करना जो इस सूची में शामिल हैं। डी एस पी निफ्टी 50 इंडेक्स फ़ंड , एल एंड टी निफ्टी 50 इंडेक्स फ़ंड और मोतीलाल ओसवाल निफ्टी 50 इंडेक्स फ़ंड। बहुत सारे नाम हैं मैंने सिर्फ कुछ के नाम लिए हैं। ऑप्शन 4 : है एक्स्चेंज ट्रेडिड फ़ंड यानि की ई टी एफ़ को खरीदना। जो स्टॉक को ट्रेक करते हैं और फ़ंड की परफॉर्मेंस को दिखाते हैं। ऑप्शन 5: हैं डेरिवेटिव जिन्हें एफ़ एंड ओ या फ्यूचर एंड ऑप्शन भी कहा जाता है। इसका मतलब है की आप फ्यूचर कांट्रैक्ट नहीं तो ऑप्शन कांट्रैक्ट पर उन स्टॉक को खरीद सकते हैं जो फ़िन्निटी में हैं। कांट्रैक्ट की एक कीमत ओर समय सीमा होगी। एफ़ एंड ओ के बारे में और जानने के लिए हमारे फ्यूचर एंड ऑप्शन ट्रेडिंग के नाम से बने पॉडकास्ट पर जाइए। अगर आप पूछ रहे हैं कि फ़िन्निटी स्टॉक, निफ्टी 50 के स्टॉक से कैसे तुलना करते हैं? तो आप सही सवाल पूछ रहे हैं यह सवाल करने कि आदत आपकी निवेश यात्रा में ज़रूर काम आएगी। चलिये तुलना करते हैं - 10 स्टॉक जो फ़िन्निटी में लिस्ट होते हैं ,वो निफ्टी 50 में भी लिस्ट होते हैं। इन 10 स्टॉक की फ़िन्निटी में पूरी 93% की वेटेज होती है और निफ्टी 50 में 40% से भी कम वेटेज होता है। क्यूंकी यह बैंक और फ़िनेंशियल संस्थाओं पर ज़्यादा ध्यान देते हैं इसलिए फ़िन्निटी में ज्यादा उतार -चढ़ाव देखने को मिलता सकता है। फ़िन्निटी में रिस्क रिवार्ड रैशियो -0.64 होता है जबकि निफ्टी 50 में 0.61. अब देखते हैं की मार्केट में फ़िन्निटी को लेकर कैसा उत्साह रहा। फ़िन्निटी के बेस डे पर यह 140 पॉइंट से ऊपर गया और आज यह 15,000 के ऊपर ट्रेड कर रहा है। इसको आप पोसिटिव कह सकते हो क्योंकि ऊपर की और जाना एक अच्छा संकेत माना जाता है। व्यापार जगत के साझेदारों में भी काफी उत्साह दिख रहा है , कई बिचौलियों ने दलाली कर को फ़िन्निटी लॉंच के महीने में निशुल्क कर दिया था। एन एस ई ने भी लेन-देन कर को निशुल्क किया है इस साल जून तक के लिए। दोस्तों आज के पॉडकास्ट में इतना ही मैं चलती हूँ स्टॉक मार्केट की खबरें देखने के लिए, फिर मिलेंगे अगले पॉडकास्ट में तब तक के लिए अलविदा और शुभ निवेश ! निवेश और बाज़ार जोखिमों के आधीन हैं, कृपया संबन्धित दस्तावेज़ ध्यान से पढ़ें।