Top 10 things to know before the market opens | Hindi

Podcast Duration: 07:10

हाई दोस्तों, एंजल ब्रोकिंग के इस पॉडकास्ट में आपका स्वागत है। दोस्तों स्टॉक मार्केट ट्रेडर्स वीकडेज पर सामान्य तौर पर एक रूटीन फॉलो करते हैं। इस रूटीन में काम शुरू होने के पहले वे मार्केट के बारे में वह सब आवश्यक बातें सीखते और समझते हैं। क्योंकि जब मार्केट खुलता है तो, ट्रेडर के पास उन चीजों को रिव्यू करने का समय नहीं होता है। तो ऐसा क्या है जो आपको मार्केट खुलने के पहले पता होना चाहिए? तो, ये दस बातें हैं।नंबर 1 - नेशनल न्यूज से अपने आप को अपडेट रखें।दोस्तों नेशनल न्यूज से स्टॉक मार्केट का मजबूत संबंध होता है। वास्तव में, कुछ एल्गोरिथमिक ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर आपको न्यूज के विश्लेषण (एनालिसिस) के आधार पर स्टॉक मार्केट फोरकास्ट देते हैं। जब मार्केट खुलते हैं, तब आपको कोई भी ट्रेड बिना नेशनल न्यूज की जानकारी के नहीं लेना चाहिए। इस जानकारी के बाद आपको कोई हैरानी नहीं होगी कि राष्ट्रीय लॉकडॉउन भारत के स्टॉक मार्केट में पहली गिरावट से गहरा संबंध था। इसलिए कदम रखने से पहले, खबर सुनें, बिजनेस पेजेस और नेशनल हेडलाइंस को देखें। नंबर 2 - अंतरराष्ट्रीय खबरों(इंटरनेशनल न्यूज) को भी नजरंदाज न करेंदोस्तों इंटरनेशनल न्यूज के जरिए आप कुछ नेशनल कंपनीज के बारे में महत्त्वपूर्ण प्रेडिक्शन(भविष्यवाणियां) कर सकते हो। उदाहरण के तौर पर, (जैसे) इंटरनेशनल मार्केट में रेगुलेटरी चेंजेस से एक्सपोर्टिंग कंपनीज के बिजनेस पर क्या असर पड़ने वाला है? या फिर, इंटरनेशनल ट्रेड पैटर्न्स से आप कोई इंडस्ट्री की सप्लाई चेन के बारे में क्या प्रेडिक्शन्स कर सकते हो। ये कुछ प्रश्न है जो आपको मार्केट खुलने के पहले इंटरनेशनल न्यूज को गंभीरता से लेने के लिए प्रेरित करेंगे। नंबर 3 - मेजर इंडिसेस के की रेजिस्टेंस लेवल्स को समझें हर दिन, स्टॉक मार्केट एक अलग कहानी लिखता है। हर दिन के प्राइस एक्शन से आप कुछ ना कुछ जानकारी निकाल सकते हैं- जैसे, देश का बैंकिंग,कंज्यूमर ड्यूरेबल्स या ऑटिमेटिव इंडेक्स इस समय कौन से रेजिस्टेंस और सपोर्ट लेवल के बीच ट्रेड हो रहे हैं? यह ज्ञान आपको हर सेक्टर की स्थिति को उनकी कीमतों के माध्यम से समझने में मदद करेगा - क्योंकि सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल इंडिसेज के नंबर के कॉन्टेक्स्ट की तरह एक्ट करते हैं। नंबर 4 - प्रमुख घोषणाओं का ध्यान रखेंये घोषणाएं (अनाउंसमेंट्स) आपके पोर्टफोलियो, सेक्टोरल नॉलेज , और स्टॉक एक्सचेंज के आसपास केंद्रित होनी चाहिए। जैसे, क्या कोई कंपनी की परफॉर्मेंस रिपोर्ट और अर्निंग्स की घोषणाएं आपके पोर्टफोलियो में इंक्लूजन या डायवेस्टमेंट्स वारंट करते हैं? मार्केट खुलने के पहले उचित समय पर अपने पोर्टफोलियो में एंट्री करने और उससे बाहर निकलने के लिए तैयार रहें। नंबर 5 - स्टॉक के डिलीवरी परसेंटेज पर नजर रखें अगर किसी स्टॉक पर ज्‍यादातर ट्रेड डिलीवरी मांगते हैं, तो इसका मतलब है कि इन्वेस्टर्स इन स्टॉक्स में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। कुछ और फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस के साथ आप लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के अवसरों को पहचान सकते हैं!नंबर 6 - प्रमुख वैज्ञानिक विकासों (साइंटिफिक डेवलपमेंट्स) पर नजर रखेंवैज्ञानिक सफलताएं इंडस्ट्रीज में कुछ महत्वपूर्ण परिवर्तन लेकर आती हैं। उदाहरण के लिए, सोलर एनर्जी का एक कुशल और सस्ता मैकेनिज्म एनर्जी इंडस्ट्री में कुछ लॉन्ग टर्म परिवर्तन ला सकता है। इस तरह की जानकारी यह समझने के लिए महत्वपूर्ण है कि मार्केट यहां से कैसे आगे बढ़ेगा।नंबर 7 - अपने पोर्टफोलियो में महत्त्वपूर्ण मूवमेंट्स पर ध्यान देंअगर आपके पोर्टफोलियो में कोई स्टॉक मेजर हाई और लो तक पहुंचते हैं, तो आपके पोर्टफोलियो की रिस्क कंपोजिशन बदल जाती है - जिसका मतलब ये, कि आपके पोर्टफोलियो को रीबेलेंसिंग की जरूरत है - शेयर मार्केट खुलने से पहले अपना हिसाब कर लें, ताकि आप अपनी जोखिम उठाने की क्षमता के दायरे में रह सकते हैं। नंबर 8 - करेंसी मार्केट मूवमेंट को समझेंअगर आपकी नेशनल करेंसी किसी फॉरेन मार्केट के संबंध में मेजर लाभ या नुकसान दिखाती हैं, तो मौजूदा आर्थिक संतुलन(इकोनॉमिक इक्विलिब्रीयम) इससे प्रभावित होता है - इसलिए यह मत सोचिए कि करेंसी मूवमेंट आपको प्रभावित नहीं करता है क्योंकि आप एक शेयर मार्केट के खिलाड़ी हैं।नंबर 9 - कमोडिटी मार्केट के लिए भी यही हैकमोडिटी मार्केट का शेयर मार्केट से एक दिलचस्प रिश्ता होता है। अगर आपके पोर्टफोलियो में कोई कंपनियां कमोडिटी मार्केट से ज्यादा प्रभावित होती हैं, तो कमोडिटी मार्केट की मूवेंट निश्चित रूप से उनके स्टॉक की कीमतों को भी प्रभावित करेगी। साथ ही, सोना और चांदी जैसे कीमती धातु आपको यह भी बता सकते हैं कि मौजूदा घटनाओं के जवाब में स्टॉक मार्केट नीचे गिरेगा या उछाल लेगा।और अंतिम, पर कम नहीं -नंबर 10 - समझें कि राजनैतिक घटनाएं आपके इन्वेस्टमेंट को कैसे प्रभावित करती हैंराजनीति और मार्केट अखबार में अलग-अलग पन्नों पर हो सकते हैं, लेकिन प्रैक्टिकल में, प्रत्येक फंडामेंटल तरीके से एक दूसरे को प्रभावित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, अगर सरकारें कंजर्वेटिव या लिबरल ट्रेड लॉ और मार्केट रूल लाती हैं, तो शेयर मार्केट्स रिस्पॉन्स में कुछ मेजर रिएडजस्टमेंट देखेंगे। इसलिए इस तरह की किसी भी बड़ी बातचीत पर नज़र रखें, और मार्केट फिर से खुलने से पहले, फोरकास्ट करें कि उस दिन मार्केट कैसे रेस्पोंड करेगा।तो अब आप तरीका जानते हैं। इन सभी स्टेप्स के जरिए आप मार्केट्स दोबारा खुलने के पहले कंपनियों के बिजनेस इकोसिस्टम और उनके नंबरों के पीछे के अर्थ को एक जानकार नजरिए से एनालाइज कर पाओगे। स्टॉक मार्केट में नया कदम उठाने से पहले हर सफल इन्वेस्टर सैकड़ों वेरिएबल्स को देखता और समझता है। दरअसल, यही कदम होंगे जो आपको स्ट्रेटेजिस के पीछे के सीक्रेट्स को समझने में मदद करेंगे जो संभवतः आपको मार्केट को मात देने में मदद कर सकते हैं। तो क्या आप कल के स्टॉक मार्केट एक्शन के लिए तैयार हैं? तो तैयार हो जाइए, और मार्केट खुलने के बाद उस खरीद या बिक्री बटन को दबाने से पहले पता लगाएं और तैयारी करना शुरू करें। एंजेल ब्रोकिंग आपको स्टॉक मार्केट खुलने के बाद प्रवेश करने पर शुभकामनाएं देता है! तब तक, एंजेल ब्रोकिंग की ओर से अलविदा, और इन्वेस्टमेंट की शुभकामनाएँ! इंवेस्टमेंट्स और सिक्योरिटी मार्केट्स जोखिमों के अधीन हैं। इन्वेस्ट करने से पहले सभी संबंधित दस्तावेजों को ध्यान से पढ़ें।