Here’s how you can invest in international stocks | Hindi

Podcast Duration: 10:21

अंतरराष्ट्रीय स्टॉक में आप इस तरह निवेश कर सकते हैं

नमस्कार दोस्तों और एंजेल ब्रोकिंग के एक और ज्ञानवर्धक पॉडकास्ट में आपका स्वागत है। आज जान लेते हैं इंटरनेशनल स्टॉक में निवेश करने के छह तरीके हैं।

मोहित का पड़ोसी, मिस्टर शर्मा, काफी समय से इंटरनेशनल स्टॉक में निवेश कर रहा है। मोहित को जो कहानी उसने बताई उसके मुताबिक़ उसे बेहतरीन मुनाफ़ा मिला। श्री शर्मा कई साल से शेयर बाज़ार में निवेश कर रहे हैं - कई लोग उन्हें एक्सपर्ट भी कहते हैं। स्टॉक तो शर्माजी का फुल टाइम जॉब है। वह भारतीय और इंटरनेशनल स्टॉक....और कभी-कभी वायदा और विकल्प में भी कारोबार करते हैं। उनका इंटरनेशनल ब्रोकिंग फर्म में भी एक खाता है और वह रोज़ाना कारोबार करते हैं। हालांकि, वह मोहित को इसके बजाय अप्रत्यक्ष निवेश करने की सलाह देते हैं, क्योंकि मोहित कहीं फुल-टाइम जॉब करते हैं और वह नियमित रूप से इसके लिए समय नहीं निकाल सकते। और क्योंकि कई बार मोहित उन्हें ऐसे देखते हैं जैसे वह उर्दू बोल रहे हों। या ग्रीक। मोहित अपने सहयोगी ईशान से यह भी सुनते रहते हैं कि अब शौकिया निवेशकों के लिए भी अमेरिकी शेयरों में निवेश करने का आसान तरीका उपलब्ध है। ईशान एंजेल ब्रोकिंग ऐप का उपयोग करता है और सीधे ट्रेड करता है।

तो क्या है ये इंटरनेशनल स्टॉक में डायरेक्ट और इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट। दोनों कैसे अलग हैं?

दरअसल इंटरनेशनल स्टॉक में इन्वेस्ट करने के छह तरीके हैं, तीन डायरेक्ट और तीन इनडायरेक्ट। पहले सिर्फ एक्सपीरियेंस्ड इन्वेस्टर्स के लिए डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट आसान रहता था और शौकिया निवेशकों के लिए इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट अपनाना बेहतर होता था। लेकिन, अब - शौकिया निवेशक जिनके पास स्टॉक मार्केट की पर्याप्त समझ है - ऐप-आधारित डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट का विकल्प है।

चलिए, हम विस्तार से जानते हैं - इंटरनेशनल शेयरों में निवेश के ये छह तरीके हैं

शुरू करते हैं डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट के तीन तरीकों के साथ:

सीधे इंटरनेशनल शेयरों में निवेश करने के इच्छुक शौकिया निवेशकों को यह पता होना चाहिए कि प्रत्यक्ष निवेश न केवल जटिल है, बल्कि अधिक जोखिम भरा भी है। अर्निंग का हाई पोटेंशियल है ही। लेकिन इन्वेस्टर खुद - अपने रिसर्च और प्रेडिक्शन के हिसाब से - स्टॉक्स खरीदते हैं और बेचते हैं। उसे न सिर्फ इंटरनेशनल शेयर बाज़ार को समझने की ज़रुरत और वक़्त-बेवक़्त इस पर निगाह रखने की ज़रुरत होती है बल्कि मुद्रा की दर पर भी लगातार नज़र रखना निहायत ज़रूरी होता है। मुद्रा में उतार-चढ़ाव से निवेशक के अर्निंग्स पे भारी असर पड़ सकता है। मिसाल के लिए, कल्पना करें एक निवेशक जिसे आज किसी कारोबार से 1000 अमेरिकी डॉलर की कमाई हुई जबकि डॉलर का मूल्य 73 रूपये है। उसकी कमाई का मूल्य अलग होगा यदि डॉलर गिर पर 60 रूपये पर आ जाए या बढ़कर 80 रूपये पर पहुँच जाए।

निश्चित रूप से हाई रिस्क के साथ, हाई अर्निंग का भी पोटेंशियल है जब बात डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट की हो रही हो तो। यही वजह है कि शेयर बाज़ार के विशेषज्ञ, जैसे मोहित के पडोसी श्री शर्मा और उनका सहकर्मी ईशान, वे डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट के तीन तरीकों में से एक चुन सकते हैं जिनकी हम चर्चा कर रहे हैं।

डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट का तरीका # 1 - इंटरनेशनल ट्रेडिंग अकाउंट खोलें

वेस्टेड फाइनांस जैसे कुछ संस्थान निवेशकों को इंटरनेशनल स्टॉक खरीदने और बेचने का विकल्प प्रदान करते हैं।

अगर आप ये ऑप्शन चूज़ करोगे तो ये पॉइंट्स ध्यान में रखना आपका अपर लिमिट है $2,50,000 डॉलर प्रति वर्ष अलग-अलग फंड हाउसेज़ के कारोबार की संख्या पर प्रतिबंध भी अलग-अलग रहते हैं। इसलिए अकाउंट खोलने के पहले ज़रूर चेक करना। ये सब वित्तीय संस्थान एक तरह के निवेश विकल्प की पेशकश नहीं करते। देखें-परखें और कन्फर्म करें कि आपको वही निवेश विकल्प मिल रहे हैं जो आपको चाहिए।

जो शुल्क आपके लिए अदा करना ज़रूरी है उस पर भी निगाह रखें! हो सकता है कि अकाउंट फ्री में बन जाता है- कोई ऑफर या ऐसा कुछ हो सकता है, लेकिन सालाना मेंटेनेंस चार्ज या एएमसी, पे ध्यान रखना। एएमसी का मतलब है आपके अकाउंट को सक्रिय रखने के लिए सालाना शुल्क और इंटरनेशनल ट्रेडिंग अकाउंट के लिए यह भारी-भरकम हो सकता है।

डायरेक्ट इन्वेस्टमें का तरीका # 2 - इंटरनेशनल ब्रोकिंग फर्म में अकाउंट खोलना दूसरा विकल्प है।

आप आसानी से किसी इंटरनेशनल ब्रोकिंग फर्म में अकाउंट खोल सकते हैं यदि आपको भरोसा है और आपके पास वित्तीय संसाधन हैं। इस ऑप्शन में आपको कम रेस्ट्रिक्शन होगा - आप दिन भर में कई ट्रेड कर सकते हैं और सभी निवेश वेहिकल खुले होंगे - लेकिन फीस और फी स्ट्रक्चर बिल्कुल ध्यान से पढ़ना और समझना। ये ऑप्शन में भी पहले तरीके के तरह ज़िक्र किये गए बिन्दुओं का ज़रूर ध्यान रखना चाहिए। ये है आपका अपर लिमिट ये ऑप्शन में $2,50,000 सालाना ही है।

कोई भी डॉक्यूमेंट और व्यक्तिगत जानकारी साझा करने से पहले फर्म की जांच कर लें

डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट का तरीका # 3 - बस अपने पुराने भरोसेमंद स्टॉक ब्रोकिंग ऐप का उपयोग करें

यदि ईशान की तरह आप एंजेल ब्रोकिंग मोबाइल ऐप का उपयोग कर रहे हैं तो आपके पास दो जटिल विकल्प को दरकिनार करने का ऑप्शन है जिसकी हमने चर्चा की और इसका उपयोग पहले ट्रेडर और इन्वेस्टर करते थे।

एंजेल ब्रोकिंग ऐप डाउनलोड के लिए बिल्कुल फ्री है - ऐप स्टोर में जाके डाउनलोड कर सकते हो। इसके बाद, आपको बस इंटरनेशनल इन्वेस्टिंग पर क्लिक करना है और फिर आप अपनी निवेश यात्रा शुरू कर सकते हैं। एंजेल ब्रोकिंग का टाय-अप अमेरिका की वेस्टेड फाइनांस के साथ ही है तो फर्म वेरिफिकेशन और ऐसे अन्य तत्वों की कोई चिंता नहीं है।

इस ऑप्शन में सिर्फ सिम्प्लिसिटी ही नहीं, दूसरी भी कई बेनिफिट हैं। ये हैं:

वायरिंग शुल्क, विदेशी मुद्रा हस्तांतरण फी और एएमसी लग सकता है लेकिन एंजेल ब्रोकिंग के ज़रिये कारोबार करने में कोई कमीशन नहीं लगेगा। आप फ्रैक्शनल इन्वेस्टमेंट भी कर सकते हो। कई कंपनियां - जैसे कि अमेज़न और गूगल - की शेयर की कीमत बहुत ऊंची है। एंजेल ब्रोकिंग ऐप के ज़रिये इन कंपनीज़ में आप मात्र एक डॉलर का निवेश डाल कर दूसरे इन्वेस्टर के साथ पूल कर के इन्वेस्ट कर सकते हो।

सपोर्ट टीम कभी भी आपकी सहायता के लिए रेडी है सबसे अच्छा है - विशेष तौर पर मोहित जैसों के लिए - क्यूरेटेड, रेडी मेड पोर्टफोलियो के भी ऑप्शन होते हैं। एंजेल ब्रोकिंग इन्हें 'वेस्ट' की तरह ब्रांड करता है। इससे चुनाव करते समय इन्वेस्टर का विकल्प कम रहता है - ख़ास कर बेगिनर इन्वेस्टर के लिए ये बहुत अच्छा बेनिफिट है।

अगर मोहित की तरह आपका कोई ट्रेडिंग ऐप नहीं है तो एंजेल ब्रोकिंग ऐप तुरंत डाउनलोड कर सकते हो। इसके बाद, थोड़ा बहुत केवायसी प्रक्रिया या डॉक्यूमेंट सबमिट करने के बाद (यह पांच मिनट की प्रक्रिया है) ऐप एक से तीन वर्किंग डे में अपना इंटरनेशनल स्टॉक इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हो।

अब देखते हैं इंटरनेशनल स्टॉक में इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट के तीन तरीके:

इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट बेगिन के लिए ज़्यादा सूटेबल है। अगर आपके लिए शेयर बाज़ार की चर्चा अजीबोगरीब लगती है तो आपके लिए इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट सही ऑप्शन रहेगा। इंटरनेशनल करेंसी में उतार-चढ़ाव और इंटरनेशनल स्टॉक पे सर नहीं फोड़ना पड़ता है लेकिन इंटरनेशनल स्टॉक का बेनिफिट मिल सकता है - उम्मीद के अनुरूप इसके जोखिम के साथ, लेकिन उतने जोखिम के साथ नहीं जो इंटरनेशनल स्टॉक की सीधी खरीद बिक्री में होती है।

इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट का तरीका # 1 - भारतीय म्यूचुअल फंड में निवेश करना जो इंटरनेशनल स्टॉक में निवेश करते हैं। इससे आपको इंटरनेशनल स्टॉक में एक्सपोज़र मिलता है। एक्सपोज़र से स्टॉक के मूल्य में उतार-चढ़ाव के आधार पर मुनाफा कमाने या नुकसान उठान की क्षमता पैदा होती है। उसके साथ, क्योंकि आप म्यूचुअल फंड में निवेश कर रहे हैं, आपको फंड मेनेजर की विशेषज्ञता भी मिलती है और यह आराम कि आपका पैसा दूसरे लोगों के पैसे के साथ जमा है, यह कहने की ज़रुरत नहीं है कि म्यूचुअल फंड आपके निवेश को विविधीकृत करेगा। ये फैक्टर से थोड़ा-बहुत रिस्क भी कम हो जाता है। तो इन स्टॉक को कैसे रेकोग्नाज़ करेंगे? ज़्यादातर म्यूचुअल फंड जो इंटरनेशनल स्टॉक में निवेश करते हैं उनके फंड के नाम के साथ अन्य देशों के नाम होते हैं; कभी-कभी इसे 'उभरते बाज़ार' से भी टैग किया जाता है। इसके बारे में अच्छी तरह जानने के लिए फंड का लिटरेचर पढ़ें।

इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट का तरीका # 3 - एफओएफ में निवेश करें

एफओएफ, जो फंड ऑफ़ फंड्स है, म्यूचुअल फंड की एक श्रेणी है। आखिरकार जोखिम में कमी का लाभ उसी तरह है जो हमने इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट के पहले तरीके में बता दिया था। ये फंड भारतीय और इंटरनेशनल स्टॉक, बांड, अन्य म्यूचुअल फंड और अन्य परिसंपत्ति वर्ग के समूह में निवेश करते हैं। आप ऐसा फंड ढूँढ सकते हैं जिनका इंटरनेशनल स्टॉक, बांड और म्यूचुअल फंड में भारी-भरकम निवेश है।

ये पहले दो ऑप्शन मोहित जैसे बेगिनर के लिए काफी आसान, सरल और सीधा-सादा रहेगा।

इनडायरेक्ट इनवेस्टमेंट का तरीका # 3 - ईटीएफ में निवेश .... यह है एक्सचेंज ट्रेडेड फंड ईटीएफ में ख़ास बात यह है कि वह म्यूचुअल फंड निवेश और स्टॉक इन्वेस्टमेंट का मिलाप है। ईटीएफ म्यूचुअल फंड की तरह ही क्योंकि बिल्कुल म्यूचुअल फंड की तरह ही वे इन्वेस्टर की पूंजी इकठ्ठा करते हैं और फिर इसे विभिन्न स्टॉक, बांड आदि में निवेश करते हैं। हालांकि ईटीएफ भी स्टॉक की तरह ही हैं क्योंकि शेयर बाज़ार में दिन भर इन्हें ट्रेड किया जाता है। अगर आप इंटरनेशनल स्टॉक में इनडायरेक्टली इन्वेस्ट करना चाहते हो तो आप ईटीएफ खरीद सकते हो जो अंतरराष्ट्रीय सूचकांकों के आधार पर चलता है।

दोस्त कोई से भी शेयर बाज़ार इन्वेस्टमेंट में इन्वेस्ट करने से पहले, अपनी जोखिम झेलने की ताक़त जांच लें। उपर्युक्त छह में से इन्वेस्टमेंट के जिस भी तरीके को आप चुनें, आपका इन्वेस्टमेंट जोखिम मुक्त या पहले से अनुमान लगाने लायक नहीं हो सकता क्योंकि शेयर बाज़ार स्वभावतः ही अनुमान से परे है।

निवेश करने से पहले रोज़मर्रा के उपयोग के लिए आवश्यक धन - जैसे भोजन, रेंट, बाहर जाने के लिए, यूटिलिटी, परिवहन, ईंधन, बच्चों की स्कूल फी, मेडिकल खर्च और आपात परिस्थितियों के लिए - अलग रख लें। स्मार्ट इन्वेस्टर हमेशा अपने निवेश को विविधिकृत करता है और यह सनिश्चित करता है कि किसी भी तरह का जोखिमपूर्ण निवेश करने से पहले पर्याप्त बचत और स्थिर आय हो। और जी हाँ, कभी भी ये न भूलें कि म्यूचुअल फंड समेत सभी शेयर बाज़ार इन्वेस्टमेंट बाज़ार के जोखिम के दायरे में आ सकते हैं। हमेशा सजग होकर निवेश करें।

एक चीज़ याद रखें - एव्रीवनकैनइन्वेस्ट। इसी तरह के वीडियो और पॉडकास्ट के ज़रिये अपनी फिनांशियल जागरूकता बढ़ाएं, अधिक जानकारी के लिए आज ही www.angelbroking.com पर लॉग इन करें! वापस मिलेंगे दोस्त, तब तक के लिए हैप्पी इन्वेस्टिंग!