शेयर बाजार एक ऐसी जगह हैं जहां बहुत सारे लोग दुनिया में कहीं से भी एक ही समय में अलग अलग फाइनेंसियल सिक्योरिटीज के  साथ ट्रेड कर सकते हैं। हर एक सेकंड में लाखों का ट्रेड होता है। कुछ लोग अपने शेयरों को जमा कर लेते हैं जबकि अन्य इसे उसी समय खरीद लेते हैं। एक साथ पैसे लगाने का पहला उद्देश्य है पैसे बनाना। कोई शेयर खरीदता है तो वह जितने खर्च किये उसमे वृद्दि की उम्मीद के साथ ही खरीदता है। जबकि जब शेयर में खर्च करते है तो कितना वापस आएगा इसको ध्यान में रख कर ही खर्च करते है। लेकिन बाजार रिटर्न का एक महत्वपूर्ण पहलू अक्सर कई  लोग भूल जाते है। निवेश की समय अवधि। निवेश की समय अवधि पर सोचे बिना कोई भी रिटर्न बेकार है। एक साल में एक निवेश पर 10% रिटर्न एक मांग के बाद प्रस्ताव का है, लेकिन 5 सालों में 10% वापसी सही नहीं हो सकती है। जब कोई निवेश के टाइम के बारे में बात करता है, तो होल्डिंग पीरियड जरूरी हो जाता है।

होल्डिंग पीरियड क्या है?

होल्डिंग पीरियड केवल एक विशेष संपत्ति में खर्च किया गया समय है। यह एक सुरक्षा की खरीद और बिक्री के बीच का समय है। लम्बे समय की स्थति में, होल्डिंग पीरियड एक संपत्ति की खरीद और बिक्री के बीच का समय है, जबकि कम समय की स्थति में, होल्डिंग पीरियड जब सुरक्षा विक्रेता द्वारा ख़रीदा जाती है और जब इसको वापस ऋणदाता को दे दिया जाता है उसके बीच का समय है।

होल्डिंग पीरियड का महत्व

होल्डिंग अवधि मुख्य रूप से दो चीजों के लिए जरूरी है-रिटर्न और कराधान। कुछ संपत्तियों पर लगाए गए कर को  निवेश की अवधि के आधार पर देखा जाता है यदि किसी तय सीमा से पहले संपत्ति को बेचा जाता है और यदि आप किसी लाभ पर संपत्ति बेचते हैं, तो यह अल्पकालिक पूंजीगत लाभ कर को आकर्षित करता है। दूसरी तरफ, लंबे समय के लिए रखी गई संपत्ति दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ कर को आकर्षित करती है। इसी तरह से, यदि आपको अपने निवेश पर नुकसान होता है, तो आपको कुछ नियमों के साथ भविष्य में होने वाले लाभ के लिए नुकसान की भरपाई करने की अनुमति दी जा सकती है।

होल्डिंग पेरोइड का उपयोग इन्वेस्टमेंट पर रिटर्न को कैलकुलेट करने में भी किया जाता है। एक एक्युइटी इन्वेस्टमेंट  कई तरीकों से भुगतान करता है। शुरुआत में किये गये निवेश की वैल्यू बढ़ती है और साथ ही कई कंपनियां लाभांश भी देती  हैं। जब आप होल्डिंग पीरियड रिटर्न को देखते हैं, तो आप निवेश के मूल्य में वृद्धि के साथ लाभांश जैसे निवेश से सभी आय को ध्यान में रखते हैं। होल्डिंग पीरियड रिटर्न विभिन्न अवधियों के साथ विभिन्न निवेशों की तुलना करने में मदद करता है।

होल्डिंग पीरियड को कैसे कैलकुलेट करें?

मिनिमम होल्डिंग पीरियड के साथ स्टॉक की सिफारिशों को देखना आम बात है। सभी अनुभवी निवेशक कुल रिटर्न की कैलकुलेशन के समय स्टॉक होल्डिंग पीरियड  को ध्यान में रखते हैं। होल्डिंग पीरियड स्टॉक ख़रीदे जाने के दिन से  स्टॉक बेचे जाने के दिन के बीच का समय है। उदाहरण के लिए, मोहन 10 नवंबर को XYZ के शेयर खरीदता है और 21 दिसंबर को इसे बेचता है। इन्वेस्टमेंट के लिए होल्डिंग पीरियड 11 नवंबर से 21 दिसंबर तक था। एक बार जब आपको होल्डिंग पीरियड मिल जाता हैं, तो आप होल्डिंग पीरियड रिटर्न भी निकाल सकते हैं। होल्डिंग अवधि रिटर्न निकालने  के लिए, सूत्र का उपयोग करें, [Income + [EOPV – IV)]/IV)], जहां ईओपीवी अवधि मूल्य का अंत है और IV प्रारंभिक मूल्य है। रिटर्न कैलकुलेट करने में होल्डिंग पीरियड हा महत्व साफ़ है। आइये हम लाभ और हानि के कराधान पर होल्डिंग पीरियड के प्रभाव को देखें।

पूंजीगत लाभ

पूंजीगत लाभ कोई भी लाभ या ‘पूंजीगत संपत्ति ‘ से लिया गया लाभ है। बिक्री से हुए लाभ को कराधान के उद्देश्य से ‘आय’ माना जाता है और इसलिए लाभ पर कर का भुगतान करना होता है। पूंजीगत लाभ दो प्रकार के हो सकते हैं-शोर्ट टर्म  और लॉन्ग टर्म। जबकि जमीन, घर, प्रॉपर्टी, पेटेंट आदि जैसी सभी पूंजी संपत्तियां हैं, आइए हम केवल एकसमान शेयरों को देखते है। शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स को बाँटने के लिए होल्डिंग पीरियड होल्डिंग पीरियड के अनुसार बदलता रहता है। एकसमान शेयरों के मामले में, यदि यह 12 महीने से कम समय के लिए किया जाता है तब परिसंपत्ति को शोर्ट टर्म परिसंपत्ति माना जाता है यदि स्टॉक 1 साल से अधिक समय तक किया जाता है, तो इसे लॉन्ग टर्म परिसंपत्ति माना जाता है और बिक्री से लाभ या हानि के अनुसार कर लगाया जाता है। सिक्योरिटीज पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स 10 % से अधिक और 1 लाख रुपये से अधिक है। इसका मतलब है कि स्टॉक का होल्डिंग पीरियड 12 महीने से अधिक है और आपने इन्वेस्टमेंट पर 1 लाख रुपये से भी कम कमाया है, आपको कोई कर नहीं देना होगा। यदि सिक्यूरिटी ट्रांजेकशन टैक्स लागू है तो शोर्ट टर्म कैपिटल गेन पर 15% टैक्स लगाया जाता है। यदि सिक्यूरिटी ट्रांजेकशन टैक्स लागू नहीं है, तो शोर्ट टर्म कैपिटल गेन को आय में जोड़ा जाता है और करदाता को आय के हिसाब से कर देना होता है।

निष्कर्ष

कराधान और रिटर्न के साथ, अगर कंपनी लाभांश की घोषणा करती है तो होल्डिंग पीरियड का महत्व बढ़ जाता है। जब एक कंपनी लाभांश की घोषणा करती है, तो वहाँ मिनिमम होल्डिंग पीरियड की आवश्यकता होती है। शेयरधारक को स्टॉक लाभांश तभी मिल सकता है, यदि उसने निश्चित अवधि के लिए स्टॉक रखा है। लाभांश देने से पहले मिनिमम होल्डिंग पीरियड को चेक किया जाता है। होल्डिंग पीरियड स्टॉक इन्वेस्टमेंट के लिए एक नजरिया देता है एक होल्डिंग पीरियड के बिना, दो परिसंपत्तियों के रिटर्न की तुलना करना मुश्किल होगा। होल्डिंग पीरियड एकसमान इन्वेस्टमेंट से उत्पन्न रिटर्न का व्यापक नजरिया देती है।