समीर जेड निगम के 100 शेयरों का मालिक है जिनका मूल्य 500 रुपए प्रति शेयर है। इस प्रकार उनका कुल निवेश 50 हजार रुपए है।

उन्होंने अभी सुना है कि जेड निगम ने स्टॉक विभाजन के लिए जाने का फैसला किया है। तो उन्होंने अपने दोस्त विनोद से पूछा से इसकी व्याख्या करने के लिए पूछा जो एन्जिल ब्रोकिंग के साथ एक अनुभवी निवेशक हैं।

जेड निगम ने मौजूदा शेयरधारकों को अधिक शेयर जारी करके अपने शेयरों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया है।समीर को अपने हर शेयर के लिए एक अतिरिक्त शेयर मिलता है जिनका कि वह पहले से ही मालिक है। यह एक के लिए एक शेयर विभाजन है, लेकिन प्रत्येक शेयर की कीमत अब पिछले मूल्य की आधी है, यानी, 500 को 250 रुपए के 2 बराबर भागों में विभाजित किया गया है। हालांकि समीर के स्वामित्व वाले शेयरों की संख्या 100 से बढ़कर 200 हो गई है, फिर भी उनके निवेश का कुल मूल्य वही रहता है, अर्थात 250 रुपए 200 शेयरों में।

कंपनियां अपने स्टॉक को क्यों विभाजित करती हैं?

  • छोटे निवेशकों के लिए अपने शेयरों को और अधिक किफायती बनाने के लिए।
  • इसके अलावा, कम शेयर मूल्य स्टॉक को अधिक लिक्विड बनाता है, यानी, खरीदने और बेचने में आसान।

याद रखें, कंपनी का बाजार पूंजीकरण, यानी, उसके सभी बकाया शेयरों का कुल मूल्य विभाजन के बाद भी वही रहता है।

विनोद का धन्यवाद, समीर अब समझता है कि स्टॉक विभाजन किस बारे में है।