वह कंपनी जो नियमित रूप से लाभांश का भुगतान करती है, उसमें निवेश करना, लंबे समय में धन बनाने का एक शानदार तरीका है।  आपकी पूंजी  पर लाभ देने के अलावा, ऐसी कंपनियों द्वारा लाभांश का लगातार भुगतान भी आपके लिए नियमित आय  का दोगुना स्रोत  हो सकता है।

लेकिन इससे पहले कि आप आगे बढ़ें और लाभांश भुगतान करने वाली कंपनी में निवेश करें, आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि आप लाभांश के बारे में सब कुछ जानते हैं। इसमें यह सब कुछ शामिल है जैसे कि पूर्व लाभांश तिथि क्या है और पूर्व लाभांश तिथि को कैसे ढूंढें।  यह गाइड आपके प्रश्न का गहराई से उत्तर देने में मदद कर सकती है ‘पूर्व लाभांश तिथि का क्या अर्थ है? ‘

पूर्व लाभांश तिथि को पूरी तरह से समझने के लिए, हमें पहले रिकॉर्ड तिथि की अवधारणा पर एक नज़र डालनी होगी ।

रिकॉर्ड तिथि क्या है?

 लाभांश घोषणा के समय कंपनियां अपने शेयरधारकों को तुरंत भुगतान नहीं करती हैं। बल्कि, वे पहले रिकॉर्ड तिथि तय करती हैं। केवल वे शेयरधारक जो रिकॉर्ड तिथि पर कंपनी के शेयरधारकों के रजिस्टर पर दिखाई देते हैं, लाभांश प्राप्त करने के लिए पात्र हो जाते हैं। नए शेयरधारक, जो निर्धारित रिकॉर्ड तिथि के बाद कंपनी के रिकॉर्ड में प्रवेश करते हैं, किसी भी घोषित लाभांश को प्राप्त करने के लिए स्वचालित रूप से अपात्र हो जाते हैं।।

इस अवधारणा को बेहतर ढंग से समझने के लिए,  एक उदाहरण लेते हैं। मान लें कि एक कंपनी है, XYZ लिमिटेड। कंपनी ने अपने इक्विटी शेयरधारकों को लाभांश जारी करने का फैसला किया है। चूंकि स्टॉक एक्सचेंज पर कंपनी का स्टॉक अक्सर ट्रेडिंग करता  है, इसलिए शेयरधारक हर दिन बदलते रहते हैं। लाभांश जारी करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, कंपनी ने 20 नवंबर, 2020  तिथि को अधिसूचित किया है। उस अधिसूचित तिथि (20 नवंबर, 2020) पर कंपनी के शेयरधारकों के रजिस्टर पर दिखाई देने वाले सभी शेयरधारक स्वचालित रूप से लाभांश प्राप्त करने के पात्र होंगे। कंपनी द्वारा निर्धारित यह तिथि रिकॉर्ड तिथि के रूप में जाना जाता है।

रिकॉर्ड तिथि की अवधारणा से अवगत होने के बाद  अगले प्रश्न के उत्तर  पर बढ़ें ‘पूर्व लाभांश तिथि क्या है? ‘

पूर्व लाभांश तिथि क्या है?

लाभांश घोषित करने वाली कंपनी के शेयरों का कोई भी नया खरीदार लाभांश प्राप्त करने के लिए स्वचालित रूप तब अपात्र होता है जब वह पूर्व लाभांश तिथि पर या उसके बाद शेयर खरीदता है। 

इसलिए, पूर्व लाभांश दिनांक अनिवार्य रूप से एक कट ऑफ तिथि है, जिसका उपयोग कंपनियों द्वारा अपने कार्य को सरल बनाने और लाभांश प्राप्त करने हेतु योग्य शेयरधारकों की पहचान करने के लिए किया जाता है। 

आइए इस अवधारणा को बेहतर ढंग से समझने के लिए एक उदाहरण लें।

भारतीय शेयर बाजार में, शेयर निपटान T +2 दिनों में होता है। इसका प्रभावी अर्थ यह है कि, जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं, तो वे  शेयर  T+2 दिनों के बाद ही आपके डीमैट खाते में जमा किया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि आप मंगलवार को किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं, तो वे केवल गुरुवार को आपके डीमैट खाते में जमा होते हैं। और साथ ही, आपका नाम कंपनी के शेयरधारकों के रजिस्टर में भी दर्ज हो जाता है।

मान लें कि एक कंपनी है – एबीसी लिमिटेड। कंपनी ने अपने इक्विटी शेयरधारकों को लाभांश जारी करने का फैसला किया है। लाभांश की घोषणा की तारीख 03 दिसंबर, 2020 है, पूर्व लाभांश तिथि 07 दिसंबर, 2020 है, और कंपनी द्वारा निर्धारित रिकॉर्ड तिथि 08 दिसंबर, 2020 है।

अब, आप एक निवेशक हैं जिसने जिसने अभी तक कंपनी के शेयरों को नहीं खरीदा  है। इस लाभांश घोषणा के साथ, आप लाभांश प्राप्त करने के लिए कंपनी के शेयर खरीदने के इच्छुक हो जाते  हैं। ऐसी स्थिति में, लाभांश प्राप्त करने के  पात्र बनने के लिए शेयरों को खरीदने की अंतिम तिथि 06 दिसंबर, 2020 होगी। ऐसा क्यों है? इसके पीछे तर्क इस प्रकार है।

जब आप 06 दिसंबर, 2020 को कंपनी के शेयरों को खरीदते हैं, तो शेयरों को टी+2 दिनों के बाद जमा किया जाता है, जो इस मामले में 08 दिसंबर, 2020 होगा। 08 दिसंबर , 2020 कंपनी द्वारा निर्धारित रिकॉर्ड तिथि है, इस प्रकार आप उस तारीख पर एक शेयरधारक के रूप में कंपनी के रोल पर होंगे, जिससे आप लाभांश प्राप्त कर सकते हैं।

इसके विपरीत, यदि आप 07 दिसंबर, 2020 (पूर्व लाभांश तिथि) को कंपनी के शेयरों को खरीदते हैं, तो शेयरों को केवल दिसंबर 09, 2020 पर जमा किया जाएगा, जो रिकॉर्ड तिथि से आगे होगी। चूंकि आप रिकॉर्ड तिथि पर शेयरधारक के रूप में कंपनी के रोल पर नहीं होंगे, इसलिए आप लाभांश प्राप्त करने के लिए अयोग्य हो जाएंगे।

यही कारण है कि आपको लाभांश प्राप्त करने के लिए पूर्व लाभांश दिनांक से हमेशा एक दिन पहले शेयरों को खरीदना चाहिये ।  इस प्रकार लाभांश प्राप्त करने के लिए पूर्व लाभांश तिथि  शेयरधारकों की पात्रता निर्धारित करने के लिए कट-ऑफ तिथि के रूप में कार्य करती है।

पूर्व लाभांश तिथि का कैसे पता लगायें ?

अब जैसे कि ‘पूर्व लाभांश तिथि का क्या अर्थ है?’ सवाल का उत्तर दिया जा चुका है, तो आइए देखें कि पूर्व लाभांश तिथि का पता कैसे लगायें। 

आम तौर पर, एक कंपनी लाभांश की घोषणा के लगभग साथ ही रिकॉर्ड तिथि और पूर्व लाभांश तिथि भी सूचित करती है। और इसलिए, नये निवेशकों के लिए पूर्व लाभांश तिथि को ढूंढना बहुत मुश्किल नहीं होना चाहिए।

ऐसा भी कहा गया है कि, पूर्व लाभांश तिथि का पता लगाने का एक और तरीका  है। T+2 दिनों की हमारी स्टॉक एक्सचेंज निपटान प्रक्रिया को ध्यान में रखते हुए, भारतीय शेयर बाजार परिदृश्य में, पूर्व लाभांश की तारीख हमेशा रिकॉर्ड तिथि से एक दिन पहले की होगी । इसलिए, यदि लाभांश भुगतान करने वाली कंपनी द्वारा अधिसूचित रिकॉर्ड तिथि अगस्त 06, 2020 होती है, तो पूर्व लाभांश तिथि 05 अगस्त, 2020 होगी।

निष्कर्ष

जब लाभांश की बात आती है, तो रिकॉर्ड तिथि के साथ पूर्व लाभांश तिथि उन दो महत्वपूर्ण तिथियों में से एक होती है, जिनके बारे में प्रत्येक मौजूदा और भावी निवेशक को अवगत होना चाहिए।