स्टॉकब्रोकर्स कभी कभी अस्थिर शेयरों की तलाश में होते हैं। ऐसा करने का कारण यह है कि ये  शेयर जो कि कीमतों में होने वाले उतार चढ़ाव के महत्वपूर्ण साक्षी होते हैं,सबसे अच्छा रिटर्न देते हैं। अक्सर, अस्थिरता कुछ मिनटों के लिए हो सकती है। पैटर्न भिन्न भिन्न होते है, कभी-कभी कुछ शेयर इंट्रा-डे ट्रेडों के दौरान अस्थिर होते हैं, जबकि कुछ शेयर भारी मात्रा में व्यापार के कारण अस्थिर हो जाते हैं।

लेकिन स्टॉक खोजने से पहले, हमें अस्थिर शेयरों की मौलिक प्रकृति को समझना चाहिए।

अस्थिर स्टॉक क्या हैं?

अस्थिरता का अर्थ कई चीजें हो सकती है। अस्थिरता को मापने के लिए भिन्न भिन्न गणना, मानदंड, गणितीय मॉडल एवं अवधारणाओं का उपयोग किया जाता हैं। इसलिए, अस्थिर शेयरों का अर्थ भिन्न भिन्न दैनिक ट्रेडर्स के लिए भिन्न भिन्न होता है। कुछ के लिए, इसका अर्थ एक दिन की सबसे ज्यादा एवं सबसे कम कीमत के बीच सबसे ज्यादा अंतर वाले शेयरों से हो सकता है। इसके विपरीत, कुछ अनुभवी निवेशकों का मानना है कि अस्थिर स्टॉकों की पूरी तरह से अलग व्याख्या की जा सकती  है। उनके लिए, ये स्टॉक भारी मात्रा के साथ सबसे सक्रिय स्टॉक हो सकते है। कुछ अन्य लोगों के लिए, इन शेयरों को गणितीय मॉडल एवं ऐतिहासिक डेटा को ध्यान में रखते हुए जटिल गणना के आधार पर पर जाँचा जा सकता है।

इसलिए, अस्थिर शेयर  बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव से प्रभावित होते हैं। आम तौर पर, छोटी और मिडकैप  कंपनियों के इक्विटी शेयरों को अस्थिर स्टॉक के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। ये शेयर बाजार के निश्चित एवं अनिश्चित जोखिम दोनों के अधीन हैं।

उच्च अस्थिरता वाले स्टॉक काफी लोकप्रिय हैं और उनके उच्च जोखिम, उच्च रिटर्न अनुपात के कारण उनकी निवेश क्षेत्र में माँग है।

आप एक अस्थिर स्टॉक की पहचान कैसे कर सकते हैं?

आप बीटा इंडेक्स द्वारा अस्थिर स्टॉक की पहचान कर सकते हैं। यह सूचकांक एक विशिष्ट शेयर कीमत पर शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव द्वारा उत्पन्न प्रभाव को ध्यान में रखता है और बेंचमार्क इंडेक्स में बदलाव के साथ इसकी तुलना करता है। बीटा मान 1 वाले शेयरों को अपेक्षाकृत सुरक्षित निवेश उद्यम माना जाता है, क्योंकि बाजार में उतार-चढ़ाव बड़ी कंपनियों द्वारा परिलक्षित परिवर्तनों के आनुपातिक होता है। 1 से कम बीटा मान अपेक्षाकृत स्थिर सुरक्षा को दिखाता है। जबकि बीटा का  मान 1 से अधिक होने पर यह बाजार में परिवर्तन के साथ होने वाले व्यापक उतार-चढ़ाव को इंगित करता है। इसलिए, यह एक जोखिम भरा निवेश उपकरण माना जाता है।

इसलिए, अस्थिर स्टॉक 1 से अधिक बीटा मान से संबंधित हैं। शेयर बाजार संकेतकों में मामूली-सा  परिवर्तन आसानी से इसे प्रभावित कर सकता हैं। परिवर्तन का कोई भी संकेत वर्तमान आर्थिक परिदृश्य में किसी कंपनी के प्रदर्शन के संबंध में अनिश्चितता पैदा करता है। और इसलिए, यह बाजार में इन परिसंपत्तियों की खरीद या बिक्री की अधिक माँग उत्पन्न करता है। प्राकृतिक रूप से, ऐसे शेयरों के लिए व्यापार और अधिक अस्थिर हो जाता हैं।

अस्थिरता को शेयर मात्रा द्वारा अत्यधिक सक्रियता, अत्यधिक उन्नत, अत्यधिक गिरावट जैसे मानदंडों पर मान्यता प्राप्त है। इसके अलावा, खुली संविदा, पुट-कॉल अनुपात एवं अंतर्निहित स्टॉक में अस्थिरता का आकलन करने के लिए उपयोग की जाने वाली अंतर्निहित अस्थिरता जैसे मानदंड भी शामिल हैं।

उच्च अस्थिर शेयरों के लाभ

उच्च अस्थिर शेयरों में निवेश कई लाभ के साथ आते हैं।

— उच्च रिटर्न

— कम लागत

— बाजार में कम माँग

— बाजार मूल्य में गिरावट

— सभी निवेश लक्ष्यों के अनुरूप

उच्च अस्थिर शेयरों की चुनौतियाँ 

कई लाभों के बावजूद, अत्यधिक अस्थिर स्टॉक विशेष चुनौतियों के साथ आते हैं:

1) उच्च जोखिम

2) कीमत जाल 

3) क्षेत्रवार गिरावट

4)  बिना लाभांश भुगतान के 

निष्कर्ष

उच्च जोखिम की भूख और उच्च संभाव्य शेयरों की पहचान करने के लिए उन पर नजर रखने वाले व्यक्ति अस्थिर शेयरों में निवेश कर सकते हैं। इस प्रकार, निवेशकों को पता होना चाहिए कि किसी भी शेयर बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव को कैसे पढ़ा जाए, क्योंकि यह शेयरों को काफी हद तक प्रभावित करता है। दीर्घकालिक दृष्टि रखना भी जरूरी है। स्थिर नींव वाली कंपनियों के शेयर उन निवेशकों के लिए एक अच्छी दाँव हैं जो सभी अल्पकालिक जोखिमों को ध्यान में रखते हैं और लंबे समय तक अपने पोर्टफोलियो को बंद रखते हैं। ऐसे मामले में, उत्पन्न रिटर्न कई गुना ज्यादा होगा। हालाँकि, इसमें शामिल सभी अनावश्यक जोखिमों को कम करने के लिए उचित परिश्रम करना और कंपनी का विश्लेषण करना आवश्यक है। अस्थिर शेयरों को खोजने के तरीके पर किसी भी मार्गदर्शन हेतु , आप हमेशा एंजेल ब्रोकिंग से संपर्क कर सकते हैं!