एक स्टॉकब्रोकर एक मध्यस्थ है जिसके पास निवेशक की ओर से स्टॉक एक्सचेंज में स्टॉक और प्रतिभूतियों को खरीदने और बेचने का अधिकार होता है

स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से कारोबार कर रहे हैं। हालांकि, एक निवेशक सीधे स्टॉक एक्सचेंजों में व्यापार नहीं कर सकता। एक्सचेंजों के  जरिये स्टॉक खरीदने या स्टॉक बेचने के लिए, आपको एक मध्यस्थ की आवश्यकता होती है जो लेनदेन में आपकी मदद करेगा  यह मध्यस्थ एक व्यक्ति या एक कंपनी हो सकती है जो आपकी ओर से स्टॉक और अन्य प्रतिभूतियों को खरीदने और बेचने के लिए अधिकृत है। ऐसे व्यक्ति या कंपनी को स्टॉकब्रोकर के रूप में जाना जाता है। स्टॉकब्रोकर आम तौर पर एक स्टॉकब्रोकिंग फर्म से जुड़े होते हैं, लेकिन वे एक स्वतंत्र व्यक्ति भी हो सकते हैं।एक  स्टॉक ब्रेकर  इस सेवा को प्रदान करने के लिए, कमीशन या शुल्क लेता है।

स्टॉकब्रोकर अर्थ को समझते समय, यह ध्यान रखना चाहिए कि एक स्टॉकब्रोकर निवेशक के लिए सेवा करता है। एक दलाल की भूमिका एक ग्राहक के लिए शेयर खरीदने और बेचने  की है। स्टॉकब्रोकर एक और भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं; वे ऐसी जानकारी प्रदान करते हैं जो निवेशक को सही निवेश निर्णय लेने में मदद करता है।

आइए हम उन सेवाओं को देखें जो एक स्टॉकब्रोकर परंपरागत रूप से अपने ग्राहकों को अधिक विस्तार से प्रदान करते हैं।

1. स्टॉकब्रोकर स्टॉक और अन्य प्रतिभूतियों को खरीदने और बेचने पर सटीक सलाह देते हैं। चूंकि वे बाजारों को जानते हैं, इसलिए वे एक ग्राहक को सलाह दे सकते हैं कि कौन से स्टॉक खरीदें  और बेचें   और उन्हें कब खरीदना या बेचना है। वे ऐसी सिफारिशें करने से पहले अच्छी तरह से प्रतिभूतियों का अनुसंधान करते हैं 

2. स्टॉकब्रोकर अपने ग्राहकों की ओर से शेयर खरीदते हैं और बेचते हैं और संबंधित कागजी कार्रवाई को संभालते हैं। वे रिकॉर्ड कीपर के रूप में भी कार्य करते हैं और सभी लेनदेन, बयानों आदि के रिकॉर्ड रखते हैं

3. स्टॉकब्रोकर ग्राहक के निवेश पोर्टफोलियो का प्रबंधन करते हैं और अपने ग्राहकों को अपने पोर्टफोलियो के बारे में नियमित रूप से अपडेट प्रदान करते हैं।  वे ग्राहक के निवेश से जुड़े सवाल का जवाब भी देते हैं  

4. स्टॉकब्रोकर शेयर बाजार में किसी भी नए निवेश के अवसर के बारे में अपने ग्राहक को सूचित करते हैं 

5. स्टॉकब्रोकर बाजार की स्थितियों के आधार पर निवेश रणनीतियों में परिवर्तन करने के लिए  भी ग्राहक की  मदद करता है

वे कैसे विनियमित हैं?

स्टॉकब्रोकर भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड अधिनियम 1992, प्रतिभूति अनुबंध विनियम अधिनियम, 1956, और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (स्टॉकब्रोकर और उपदलालों विनियम), 1992 के तहत शासित होते हैं। स्टॉकब्रोकर्स को अन्य नियमों, विनियमों और उपनियमों के तहत भी विनियमित किया जाता है जो कि  SEBI समयसमय पर जारी कर सकता है। भारत में हर स्टॉकब्रोकर को स्टॉक एक्सचेंजों का सदस्य होना चाहिए और SEBI  के साथ पंजीकृत होना भी  ज़रूरी है। स्टॉकब्रोकर अपनी वेबसाइटों पर और यहां तक कि आधिकारिक दस्तावेजों पर भी अपने पंजीकरण विवरण प्रदर्शित करते हैं। कोई भी SEBI  वेबसाइट पर जा सकता है और पंजीकृत स्टॉकब्रोकरों का विवरण पा सकता है।

स्टॉकब्रोकर के प्रकार

अब जब आप जानते हैं कि एक स्टॉकब्रोकर क्या है और यह भी कि उन्हें कैसे विनियमित किया जाता है, तो आइए हम स्टॉकब्रोकर के प्रकारों पर नज़र  डालते हैं प्रदान की गई सेवा के प्रकारों के आधार पर, दो प्रकार के स्टॉकब्रोकर्स होते हैं पूर्ण सेवा स्टॉकब्रोकर और डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर हैं।

पूर्ण सेवा स्टॉकब्रोकर: पूर्ण सेवा स्टॉकब्रोकर अपने ग्राहकों को सेवाओं का पूरा ढेर प्रदान करते हैं। वे पारंपरिक दलाल होते  हैं जो सलाहकार सेवाओं के साथ मिलकर एक व्यापार सुविधा प्रदान कर रहे हैं। इस कारण से, पूर्ण सेवा स्टॉकब्रोकर्स द्वारा लगाए गए शुल्क अधिक होते हैं, और वे जो ब्रोकरेज चार्ज करते हैं वह क्लाइंट द्वारा निष्पादित किए जाने वाले ट्रेडों की कुल राशि पर आधारित होता है। पूर्ण सेवा ब्रोकरेज स्थापित खिलाडी होते हैं जिनके पास पूरे देश में स्थित शाखाएं होती  हैं। ग्राहक सेवा और सलाह के लिए इन शाखाओं पर जा सकते हैं।

डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर: इंटरनेट के बढ़ते उपयोग और उपलब्धता के कारण डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर अस्तित्व में गए हैं। ये दलाल  अपने ग्राहकों के लिए एक ऑनलाइन व्यापार मंच प्रदान करते हैं। हालांकि, डिस्काउंट  दलाल सलाहकार सेवाओं और अनुसंधान सुविधाओं की पेशकश नहीं करते। इस कारण से, डिस्काउंट  दलाल  भी कम कमीशन लेते हैं, जो ज्यादातर एक फ्लैट शुल्क होता है।

सारे ही ब्रोकरेज अब ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करते हैं जहां कोई ग्राहक उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड से लॉग इन कर सकता है और ट्रेडों को निष्पादित कर सकता है। ऑनलाइन स्टॉकब्रोकिंग सेवाएं  तेज़ गति से होती हैं क्योंकि उसमें लेनदेन इंटरनेट की मदद से किया जा सकता है, और ब्रोकर चैट रूम, ईमेल के जरिये क्लाइंट के साथ भी जुड़ सकता है और रीयलटाइम अपडेट प्रदान कर सकता है।

यह जानकर कि स्टॉकब्रोकर क्या है, उसके साथ उपब्रोकर के अर्थ को समझना भी आवश्यक है। उपब्रोकर एक व्यक्ति या एजेंट होता है जिसे दलालों द्वारा उनकी ओर से कार्य करने के लिए नियुक्त किया जाता है। एक उपदलाल स्टॉक एक्सचेंज का सदस्य नहीं होता  है। उप दलालों को SEBI  के साथ पंजीकरण करना होगा जिसके बिना उन्हें प्रतिभूतियों से निपटने की अनुमति नहीं है।