साधारण भाषा में, मार्केटों को आम तौर पर पशुओं से, अर्थात् ‘बैल’ और ‘भालू’ का उपयोग करके वर्णित किया जाता है, परंतु इस प्रकार के विशेषण केवल ट्रेंडिंग मार्केटों के लिए ही आरक्षित होते हैं। ट्रेंडिंग मार्केट वे मार्केट होते हैं जिनकी कीमतें उतार-चढ़ाव के ट्रेंड को दर्शाती है। किसी भी परिसंपत्ति वर्ग में स्टॉक उनके जीवन चक्र में किसी बिंदु पर किसी भी प्रकार के ट्रेंडिंग व्यवहार को दिखाने की संभावना है। हालांकि, वहाँ ऐसे मार्केट भी मौजूद हैं जहाँ कीमतें अपेक्षाकृत स्थिर रहती है। ऐसे मार्केटों को ‘साइडवेज मार्केट’ कहा जाता है।

एक साइडवेज मार्केट की परिभाषित विशेषता कीमतों में क्षैतिज उतार-चढ़ाव है, जिसमें समय की एक लंबी अवधि के लिए एक अपेक्षाकृत संकीर्ण सीमा के भीतर कीमतों में उतार-चढ़ाव होता है। यह ऐसे मार्केटों को निश्चितता और स्थिरता में समानता की कुछ झलक देता है। एक साइडवेज मार्केट में ट्रेडिंग पूरी तरह से एक अलग खेल है, साथ ही यह अपनी स्वयं की विशिष्टता के एक समूह के साथ आता है जो सभी व्यापारियों के लिए अपील नही कर सकता है।

एक साइडवेज मार्केट में प्रभावी ढंग से ट्रेड करने में सक्षम होने के लिए, हमें ऐसे मार्केटों की विशेषताओं को जानने की जरूरत है और यह सीखने की भी जरूरत है कि उन्हें किसी के लाभ के लिए कैसे उपयोग किया जाए। साइडवेज मार्केट की कुछ प्रमुख विशेषताएँ यहाँ दी गई हैं:

  • परिभाषित सीमा: साइडवेज मार्केट स्पष्ट रूप से परिभाषित ऊपरी स्तरों (प्रतिरोध के रूप में जाना जाता है) और निचले स्तरों (समर्थन के रूप में जाना जाता है) के साथ एक संकीर्ण सीमा के भीतर काम करते हैं।
    1. कम लाभ: प्रतिरोध और समर्थन कीमतों के बीच अपेक्षाकृत छोटे अंतर के कारण, ऐसे मार्केटों में ट्रेड करने वाले व्यापारी कम लाभ मिलने की उम्मीद कर सकते हैं।
    2. अधिक अवसर: एक ट्रेडिंग मार्केट की तुलना में एक साइडवेज मार्केट द्वारा की गई भविष्यवाणी अधिक ट्रेडिंग अवसर उत्पन्न करती है।
  • डिजाइन द्वारा क्षणिक: साइडवेज मार्केट में सफल ट्रेडों को निष्पादित करने के लिए व्यापारियों को स्पष्ट रूप से परिभाषित प्रविष्टियों, निकासी और स्टॉप-लॉस की आवश्यकता होती है। प्रभावी ढंग से निष्पादित करने के लिए करीब से निगरानी करने की आवश्यकता है।

मूलभूत बातें सीखें

अब जब हमारे पास, साइडवेज मार्केट क्या है और इसकी ऐसी कौन-सी विशेषताएं हैं जो इसे एक ट्रेंडिंग मार्केट से अलग करती हैं, से संबंधित विचार है, तो आइए हम कुछ महत्वपूर्ण अवधारणाओं को ध्यान में रखते हुए यह सीखने का प्रयास करते हैं कि साइडवेज मार्केट में व्यापार कैसे किया जाता है ।

  1. एक साइडवेज मार्केट की पहचान करें: साइडवेज मार्केट में ट्रेडिंग करते समय पहली बात यह ध्यान रखनी चाहिए कि हमें यह पहचानने में सक्षम होना चाहिए कि वास्तव में यह एक साइडवेज मार्केट है या नही। परिभाषा के अनुसार, साइडवेज मार्केट वे मार्केट हैं जहां कीमतें उतार-चढ़ाव के दौरान अचानक गिरती या टूटती है। यह काफी हद तक मार्केट द्वारा किसी निश्चित मार्केट की गतिशीलता पर निर्णय न लेने का एक परिणाम है।

एक साइडवेज मार्केट के बनने के बाद उसकी पहचान करना आसान है, लेकिन असली चुनौती उनके सयुंक्त होने के बाद उनकी पहचान करने में है। किसी लक्षण को देखने पर यह एक तंग सीमा के भीतर लघु स्पाइक्स की श्रृंखला जैसा दिखाई देता है और यह एक आने वाले साइडवेज मार्केट का प्रारंभिक संकेतक भी हो सकता है।

  1. सीमा निर्धारित करें: साइडवेज चरण की पहचान करने के बाद, समर्थन में संभावित परिवर्तन और प्रतिरोध स्तरों की जाँच करके ऊपरी और निचली सीमाओं को उकेरना महत्वपूर्ण है। अपनी सीमा को परिभाषित करने के तरीके के बारे में बेहतर विचार प्राप्त करने के लिए आप ट्रेंड लाइनों को भी देख सकते हैं।
  2. आंतरिक स्तर का पता लगाना: अनिश्चितताओं को कम से कम करने के लिए, प्रतिरोध और समर्थन के हर संभव स्तर की पहचान करना समझदारी है जो कीमत को एक स्तर पर बनाए रखने का कारण बन सकता है, परंतु अधिक स्पष्ट नहीं कर सकता है। एकीकरण चरण की मध्य सीमा को चिह्नित करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, ताकि कीमतों में परिवर्तन शुरू होने पर पूर्वानुमानित घटनाओं की उम्मीद की जा सके।
  3. स्पाइक्स: साइडवेज मार्केटों में सफल होने का एक तरीका ब्रेकआउट का किसी भी दिशा में अनुमान लगाना है। उन व्यापारियों के लिए जो इसे ट्रेंडिंग मार्केट में ‘वेव की सवारी करने’ के लिए ज्यादा इस्तेमाल कर सकते है, जब कीमतें निर्धारित सीमा से काफी नीचे घटना शुरू होती है, तो शीघ्र निकासी के लिए कॉल करने से चुकने की बहुत संभावना होती है। इस तरह के परिदृश्यों से बचने के लिए कुछ हद तक सुरक्षित/रूढ़िवादी ट्रेडिंग स्टाइलों को अपनाना सबसे अच्छा तरीका है।

विकल्प रणनीतियाँ

बुनियादी स्तर की सावधानियों का प्रयोग करने के शीर्ष पर, यहाँ साइडवेज मार्केटों से निपटने के अन्य तरीके भी मौजूद हैं। सावधानीपूर्वक अपनायी गई क्यूरेटेड ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीतियाँ उस समय काम में आती है जब लाभ की सुरक्षा की बात आती है, और यहां तक कि उनके बढ्ने की संभावना भी बढ़ जाती है। यहां कुछ दिया गया है जिन पर विचार किया जा सकता है:

शॉर्ट स्ट्रैडल/शॉर्ट स्ट्रेंगल: ये दो बहुत ही समान रणनीतियां हैं जिनका उपयोग उन परिसंपत्तियों के लिए किया जा सकता है जिनके विकल्प अनुबंधों के कार्यकाल में महत्वपूर्ण रूप से बढ्ने की की उम्मीद नहीं है।

  1. शॉर्ट स्ट्रैडल एक रणनीति है जिसमें कॉल और पुट दोनों विकल्पों की बिक्री शामिल है जिनकी  स्ट्राइक कीमत और समाप्ति तिथि समान होती है। ऐसे परिदृश्य में, अधिकतम लाभ विकल्पों को लिखने से एकत्रित किए गए प्रीमियम तक सीमित होता है। हानि असीमित हो सकती है, इसीलिए यह आम तौर पर और अधिक उन्नत व्यापारियों के लिए एक रणनीति है।
  2. शॉर्ट स्ट्रेंगल लगभग शॉर्ट स्ट्रैडल के समान ही है जैसे कि शॉर्ट स्ट्रेंगल कॉल और आउट विकल्पों दोनों के आउट-ऑफ-द-मनी (ओटीएम) स्ट्राइक का उपयोग करने में अंतर के लिए सुरक्षित होते है। यह रणनीति एक तंग बजट पर व्यापारियों के लिए बेकार है क्योंकि यह समय और धन  दोनों बचाता है।
  3. रेशियो स्प्रेड: एक तटस्थ विकल्प रणनीति जहां ट्रेडों का इस प्रकार से निर्माण किया जाता है कि छोटी और लंबी स्थिति की संख्या में एक विशिष्ट अनुपात रहे।
  4. रेशियो बुल कॉल स्प्रेड: ऊर्ध्वाधर स्प्रेड का एक प्रकार, इसे सबसे अच्छा काम करने के लिए डिजाइन किया गया है जब आप एक परिसंपत्ति की कीमत में मध्यम वृद्धि की उम्मीद करते हैं। इसमें दो ओटीएम कॉल विकल्प बेचते समय एट-द-मनी (एटीएम) कॉल विकल्प खरीदना शामिल है। ऐसा करने से कम अग्रिम भुगतान की अनुमति मिलती है और जोखिम-इनाम अनुपात को आपके पक्ष में रखा जाता है।
  5. रेशियो बीयर पुट स्प्रेड: बुल स्प्रेड से अलग, इसमें एक एटीएम पुट विकल्प खरीदना और दो ओटीएम पुट विकल्प बेचना शामिल है। इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है, जब शेयर उच्च स्तर पर ट्रेडिंग कर रहा हो और सुधार की उम्मीद हो।

निष्कर्ष

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उपरोक्त सभी रणनीतियाँ केवल तभी काम करती है जब साइडवेज चरण चल रहा हो। यदि मार्केट अस्थिर दिखाई देता है या यदि आप निश्चित नही है, तो इससे बाहर निकलना ही बेहतर है और इस तरह आप अपनी ट्रेडिंग पूंजी को बचा सकते हैं। एक अस्थिर मार्केट ट्रेडिंग के लायक कभी नही होता है क्योंकि इस प्रक्रिया में ओवर-ट्रेडिंग और पैसे खोने की संभावना बढ़ जाती है।