हाई डिविडेंड स्टॉक थोड़े वक़्त में निवेशक को लगातार आय प्रदान करते हैं और बाजार में अस्थिरता से कम प्रभावित होते हैं।

स्टॉक में निवेश करके पैसे कमाने के दो तरीके हैं। जब स्टॉक की कीमतें बढ़ती हैं, तो उच्च कीमत पर स्टॉक बेचा जा सकता है स्टॉक से पैसा बनाने का दूसरा तरीका तब होता है जब कंपनी डिविडेंड अदा करती है।

डिविडेंड नकद को संदर्भित करते हैं जो एक कंपनी अपने शेयरधारकों को अपने लाभ से बांटती है। कंपनी या तो अपने शेयरधारकों को डिविडेंड का भुगतान करने या मुनाफे को व्यापार में वापस निवेश करने का फैसला ले सकती है। वे मुनाफे का इस्तेमाल क़र्ज़ चुकाने के लिए भी कर सकते हैं।

 यह फैसला एक कंपनी के निदेशक मंडल के ज़रिए लिया जाता है। इसके बाद इसे शेयरधारकों के ज़रिए अनुमोदित करने की ज़रूरत है। डिविडेंड का भुगतान तिमाही या सालाना तौर पर किया जाता है। इसलिए जब आप हाई डिविडेंड स्टॉक के मालिक होते हैं तो आप बस स्टॉक धारण करके आय कमा सकते हैं। कीमतें बढ़ने के बाद आप इन शेयरों को बेच कर भी मुनाफा कमा सकते हैं

कुदरती तौर पर हाई डिविडेंड स्टॉक मांग में हैं। लेकिन क्या एक हाई डिविडेंड शेयर के रूप में  योग्य है?

यहां हमें डिविडेंड उपज की अवधारणा को समझने की ज़रूरत है। डिविडेंड उपज का हिसाब स्टॉक मूल्य के प्रतिशत के रूप में किया जाता है, नीचे दिए गए सूत्र का उपयोग करते हुए:

डिविडेंड उपज = वार्षिक डिविडेंड/स्टॉक मूल्य X 100

अगर स्टॉक 100 रुपये के बराबर है और यह 5 रुपये का डिविडेंड देता है, तो डिविडेंड उपज 5 प्रतिशत है।

उन कंपनियों के स्टॉक्स जिनके पास हाई डिविडेंड उपज होती है जब कोई इसकी बेंचमार्क से तुलना करता है तो उन्हें हाई डिविडेंड स्टॉक के रूप में जाना जाता है। आमतौर पर ऐसा कोई बेंचमार्क नहीं है मगर 4-5 प्रतिशत से ज़्यादा की डिविडेंड उपज वाले शेयरों को हाई डिविडेंड स्टॉक कहा जा सकता है। हाई डिविडेंड स्टॉक को सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक के रूप में भी जाना जाता है।

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक में निवेश क्यों करें

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक निम्न सुविधाओं की वजह से निवेशकों में हिट है

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक एक लगातार आय प्रदान करते हैं: ये स्टॉक निवेशकों को नियमित डिविडेंड प्रदान करते हैं। वे निवेशकों को पूरे समय तक स्टॉक रखने के लिए राजस्व पैदा करने में सहायता कर सकते हैं। 

 अपने निवेश को बढ़ावा देने के लिए निवेशकों द्वारा सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक का उपयोग किया जा सकता है:  ज़्यादा पैसा बनाने के लिए अर्जित डिविडेंड को निवेशक द्वारा शेयर बाजारों में दोबारा निवेश किया जा सकता है। निवेशक इस धन का इस्तेमाल अपनी रिटायरमेंट या अन्य दीर्घकालिक लक्ष्यों को निधि देने के लिए भी कर सकते हैं। जो निवेशक रिटायरमेंट के करीब हैं या पहले से ही रिटायर हैं, वे हाई डिविडेंड स्टॉक को नियमित आय के साधन के रूप में भी चुन सकते हैं।

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक बाजार में अस्थिरता से अपेक्षाकृत मुक्त हैं: ज़्यादातर ऐसे स्टॉक रक्षात्मक क्षेत्रों में होते हैं। ये ऐसे क्षेत्र हैं जो चक्रीय नहीं  हैं और ऊर्जा, रियल एस्टेट उपयोगिता और उपभोक्ता वस्तुओं जैसे आर्थिक चक्रों पर निर्भर नहीं हैं। यहां तक कि जब अर्थव्यवस्था अस्थिर होती है तब भी ये स्टॉक आम तौर पर मूल्य प्रदान करते हैं। समस्त रूप से बाजारों की तुलना में इस तरह के स्टॉक कम अस्थिर होते हैं और इसलिए कम जोखिम वाले  निवेशकों के लिए उपयुक्त होते हैं। हालांकि स्टॉक उच्च पूंजी रिटर्न पैदा कर सकते हैं फिर भी डिविडेंड आय ज़्यादा स्थिर और अनुमानित होते हैं। हाई डिविडेंड स्टॉक सरकारी प्रतिभूतियों की तुलना में ज़्यादा रिटर्न प्रदान करते हैं और इसलिए एक उम्दा निवेश विकल्प होते हैं।

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक कैसे चुनें

सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड स्टॉक का चयन करते वक़्त निम्नलिखित को ध्यान में रखना चाहिए।

1. कंपनी की वित्तीय को देखो: एक कंपनी की वित्तीय का ध्यान से अध्ययन करें। एक कंपनी की बैलेंस शीट अपनी संपत्ति और देनदारियों का विचार देगी। अगर इक्विटी अनुपात के लिए क़र्ज़ बहुत अधिक है, तो इसका मतलब यह है कि कंपनी के पास बड़ी मिकदार में क़र्ज़ है, और किसी नुक्ते पर इस क़र्ज़ का भुगतान करना होगा। यह डिविडेंड भुगतान को प्रभावित करेगा।

2. उचित भुगतान अनुपात वाली कंपनियां चुनें:डिविडेंड भुगतान अनुपात कंपनी की कमाई के प्रतिशत को संदर्भित करता है जिसे निवेशकों को नकद डिविडेंड के रूप में अदा किया जा रहा है। अगर कोई कंपनी पहले से ही काफी बड़ी है और अब अधिक बढ़ना नहीं चाहती तो इसके द्वारा किए जाने वाले ज़्यादातर मुनाफे डिविडेंड के रूप में भुगतान किए जाते हैं। अगरचे डिविडेंड भुगतान अनुपात के लिए कोई बेंचमार्क नहीं है  जो निवेशक डिविडेंड की खोज में हैं वे 40-50 प्रतिशत के उच्च भुगतान अनुपात को देखेंगे। अगर कंपनी के पास कम भुगतान अनुपात है तो यह एक अच्छा संकेत नहीं है। हालांकि, एक बहुत ही हाई डिविडेंड भुगतान अनुपात भी कोई अच्छी बात नहीं है। 80 प्रतिशत से ऊपर के भुगतान अनुपात का मतलब यह है कि एक कंपनी डिविडेंड का भुगतान करने में अपनी सारी आय को खत्म कर रही है। कमाई में गिरावट होने पर ऐसी कंपनी का डिविडेंड में कटौती करने का इमकान है।

3. लगातार डिविडेंड के ट्रैक रिकॉर्ड वाली कंपनियों की खोज करें: सर्वश्रेष्ठ डिविडेंड के शेयरों में अपने शेयरधारकों को डिविडेंड देने का एक सतत ट्रैक रिकॉर्ड  मौजूद होगा। तो पिछले 5-10 वर्षों से कंपनी के इतिहास की जांच करें और उन लोगों का चयन करें जो स्थिर या बढ़ते डिविडेंड की अदायगी कर रहे हैं।

4. बहुत अधिक डिविडेंड पैदावार वाली कंपनियों से सावधान रहें: यह प्रतिरोधक लग सकता है, मगर हमें उन कंपनियों से दूर रहना चाहिए जिनके पास बहुत ज़्यादा डिविडेंड की पैदावार होती है। बहुत ज़्यादा डिविडेंड पैदावार का अर्थ यह हो सकता है कि इसी अरसे के दौरान कंपनी की स्टॉक की कीमतें तेजी से गिर गई हैं। इसलिए जिन कंपनियों के पास स्थिर डिविडेंड उपज होती है वे बेहतर होती हैं।

5. व्यवसाय और उद्योग पर विचार करें: उस क्षेत्र पर सोच विचार करें जहां कंपनी तब तक संबंधित है जब तक उद्योग तेजी से बढ़ता है, डिविडेंड का इमकान बढ़ जाता है। हालांकि, इतिहास के आधार पर स्टॉक का चयन करना जरूरी नहीं है क्योंकि उद्योग में विकास दर वक़्त के साथ बदल सकती है।

6. उन कंपनियों की खोज करें जिनके पास स्वस्थ नकदी प्रवाह है: कभी-कभी कंपनियों में उच्च अकाउंटिंग मुनाफे हो सकते हैं, लेकिन वे खराब कैश फ्लो से पीड़ित हो सकते हैं। ऐसी कंपनियों को  डिविडेंड का भुगतान करना मुश्किल हो सकता है। जबकि छोटी कंपनियों के पास नकदी प्रवाह  की समस्या हो सकती है बड़ी और स्थिर कंपनियों के पास स्थिर सकारात्मक नकदी प्रवाह होना चाहिए।