स्टॉक, डेरिवेटिव या कमोडिटी बाज़ारों के विपरीत, एक फॉरवर्ड मार्केट एक वि‍नि‍मय नहीं है, बल्कि फॉरेन एक्सचैंजेस  (विदेशी मुद्रा), प्रतिभूतियों, ब्याज दरों और कमोडिटीज के लिए एक ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) बाजार है। हालांकि, फॉरेक्स मार्केट  (विदेशी मुद्रा बाजार) के संबंध में फॉरवर्ड मार्केट का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है।

यह एक ऐसा बाजार है जहां फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट हेजिंग (निवेशों की रक्षा) या सट्टेबाजी (रिटर्न्स को अधिकतम करने) के उद्देश्य से खरीदे और बेचे जाते हैं। भारत में फॉरवर्ड और फ्यूचर्स मार्केट्स को फॉरवर्ड मार्केट्स कमीशन द्वारा विनियमित किया जाता है।

ऊपर हमने आपको एक सरल फॉरवर्ड मार्केट की परिभाषा दी; नीचे हम समझेंगे कि फॉरवर्ड मार्केट में फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट कैसे काम करता है।

फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट क्या है?

फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट में, दो पक्ष भविष्य में एक निर्धारित मूल्य पर संपत्ति खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते हैं। फ़्यूचर्स (वायदा) और विकल्प (ऑप्शंस) के विपरीत, यहां लेनदेन में दोनों पक्षों को लेनदेन को पूरा करने का दायित्व है।

विकल्प (ऑप्शंस) और फ़्यूचर्स (वायदा) के कॉन्ट्रैक्ट्स में, एक खरीदार या विक्रेता समाप्ति तिथि से पहले कॉन्ट्रैक्ट बेच सकता है और अपनी स्थिति को बंद कर सकता है। एक फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट में दोनों पक्षों का दायित्व है कि वह अंतर्निहित परिसंपत्ति को वितरित करे, चाहे उसकी मुद्रा, कमोडिटी या कोई अन्य प्रतिभूतियाँ  हो। यदि आप समझते हैं कि फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट क्या है, तो आपको यह समझने में सक्षम होना चाहिए कि फॉरवर्ड मार्केट क्या है।

फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट कैसे काम करता है?

यह समझने के लिए कि कोई फ़ॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट कैसे काम करता है और फ़ॉरवर्ड मार्केट अर्थ को समझने के लिए, यह जानना उपयोगी होगा कि प्रतिभागी फ़ॉरवर्ड मार्केट में कौन हैं। फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट्स को मुख्य रूप से हेजर्स द्वारा नुकसान को संतुलित करना करने के लिए उपयोग किया जाता है उतार-चढ़ाव से लाभ को नुकसान और सट्टेबाजो को कीमत में उतार-चढ़ाव से लाभ हो।

यदि अपने उत्पादों की कीमत बाजार में उनके विरुद्ध में जाती है तो हेजर्स खुद को नुकसान से बचाने के लिए फॉरवर्ड मार्केट का उपयोग करते हैं। दूसरी ओर, सट्टेबाज कमोडिटी या मुद्रा पर कब्जा करने के लिए उत्सुक नहीं हैं, लेकिन मूल्य दिशा पर दांव लगाकर लाभ प्राप्त करना चाहते हैं। आमतौर पर, फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट्स का उपयोग सट्टेबाजों की तुलना में हेजर्स द्वारा अधिक किया जाता है।

आइए समझते हैं एक सरल उदाहरण के साथ कि यह कैसे काम करता है:

फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट का उदाहरण

मान लें कि आप एक किसान हैं जो अगले साल 10 टन गेहूं की फसल उपज की योजना बना रहे हैं। आप जानते हैं कि आपको गेहूँ को 5,000 रुपये प्रति टन में बेचना होगा  लाभ कमाने के लिए। अब, आपके पास दो विकल्प हैं:

आप या तो कुछ नहीं करना चुन सकते हैं और आशा करते हैं कि आपकी उपज के  5,000  रुपये मिलेंगे जब आप इसे बेचते हैं या भविष्य के लिए कीमतों को बंद कर देते  हैं।

इसके लिए आप एक आटा मिल मालिक या आटा विपणन कंपनी के साथ फसल के बाद 5,000  रुपये  प्रति टन में गेहूं बेचने के लिए आगे के अनुबंध में प्रवेश कर सकते हैं। इस तरह, आपने गेहूं की कीमतों में गिरावट के जोखिम से खुद को बचाया है। उसी तरह, आटा चक्की मालिक भी कीमतों को बंद करने के लिए एक अनुबंध में प्रवेश कर सकता है ताकि फसल के बाद गेहूं के लिए उसे अधिक भुगतान न करना पड़े।

फॉरवर्ड मार्केट क्यों महत्वपूर्ण है?

भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण क्षेत्रों को मूल्य समर्थन और सुरक्षा प्रदान करने में फॉरवर्ड मार्केट एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। फॉरवर्ड मार्केट के माध्यम से निष्पादित किए गए फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट्स डेरिवेटिव के बहुत सरल रूप हैं, जो कि ट्रेडिंग में पूर्व अनुभव के बिना भी लोग समझ सकते हैं। फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट्स प्रतिभागियों को प्राकृतिक गैस, तेल, बीफ़, बिजली, संतरे का रस, अनाज, कीमती धातुओं और फोरेक्स या फॉरेन करेंसी (विदेशी मुद्रा) जैसे कमोडिटीज के एक समुदाय में ट्रेड करने की अनुमति देता है।

फॉरवर्ड मार्केट और फ्यूचर् मार्केट के बीच अंतर

निवेश और ट्रेडिंग के लिए नए लोग फॉरवर्ड मार्केट और फ्यूचर् मार्केट के बीच भ्रमित होते हैं। यहाँ दोनों के बीच अंतर करने का एक सरल तरीका है।

फॉरवर्ड मार्केट बनाम फ्यूचर् मार्केट 

आधार फ्यूचर्स  मार्केट फॉरवर्ड  मार्केट
कॉन्ट्रैक्ट्स  का  प्रकार फ्यूचर्स  कॉन्ट्रैक्ट  में सौदा  फॉरवर्ड  कॉन्ट्रैक्ट  में सौदा
कॉन्ट्रैक्ट्स का  आकार मानकीकृत पूर्वनिर्धारित आकार या बड़ी मात्रा में कॉन्ट्रैक्ट आकार आवश्यकताओं के अनुसार, मानकीकृत नहीं हैं
विनियमन सेबी द्वारा विनियमित स्वयं विनियमित
जोखिम मार्जिन राशि और विनिमय विनियमन द्वारा न्यूनतम  हैं। कम जोखिम है| प्रतिभागियों को एक मार्जिन राशि जमा करने के लिए आवश्यकता नहीं है और लेनदेन को विनियमित करने के लिए कोई विनिमय नहीं है। उच्च जोखिम  है।
डिलिवरी द्वारा निपटान लेनदेन का 2% से कम 90% से अधिक

परिभाषा के अनुसार फॉरवर्ड  मार्केट एक केंद्रीकृत विनिमय नहीं है और खुदरा निवेशकों की इसमें सीमित पहुंच है। अधिकांश लेन-देन नकद या डिलीवरी से होते हैं और उन लोगों के लिए अधिक संरेखित होते हैं जो सीधे अंतर्निहित परिसंपत्तियों के ट्रेडिंग या उत्पादन में शामिल होते हैं।

हालांकि, एक खुदरा निवेशक के रूप में, आप अभी भी एक विश्वसनीय ब्रोकर के साथ साइन अप करके कमोडिटीज और फ्यूचर्स  मार्केट में ट्रेड कर सकते हैं। एंजेल ब्रोकिंग, भारत में सबसे बड़े, पूर्ण-सेवा रिटेल ब्रोकिंग हाउसों में से एक है, जो इक्विटी, मुद्रा, कमोडिटी और डेरिवेटिव ट्रेडर्स और निवेशकों के लिए सही जगह है। चिंता मत करो;

हमारे पास विभिन्न क्षेत्रों में ट्रेडिंग के हर पहलू में आपकी सहायता, मार्गदर्शन और प्रशिक्षण देने के लिए विशेषज्ञ हैं। आज एक मुफ्त डीमैट खाते से शुरुआत करें और 5 मिनट में ट्रेडिंग शुरू करें!