एक फ्लैग पैटर्न तकनीकी विश्लेषण से संबंधित शब्द है। यह एक पैटर्न है जो तब बनाया जाता है जब संकुचित मूल्य सीमा व्यापार के बाद तेजी से वृद्धि या गिरावट आती है, और फिर अंत में एक और तेज वृद्धि या गिरावट के साथ पूरा किया जाता है।

पैटर्न तब पूरा माना जाता है जब कीमत का दूसरा शार्प परिवर्तन पहले परिवर्तन के रूप में एक ही दिशा को बनाए रखता है, जैसा कि ऊपर वर्णित है – ट्रेंड किकस्टार्ट। फ्लैग पैटर्न कुछ हफ्तों तक चलने वाले अल्पकालिक पैटर्न होते हैं। 

फ्लैग कैसा दिखता है?

— फ्लैग चार्ट में एक बॉडी और फ्लैग पोल होता है।

— बॉडी आयताकार आकार की होती है, जो एक दूसरे के समानांतर रहने वाली दो पंक्तियों से बनती है। आयताकार फ्लैगपोल से जुड़ा हुआ है, जो क्विक और बड़ा मूव है।

यदि आप फ्लैग चार्ट में रुचि रखते हैं, तो आप यह भी देखेंगे कि पीनेंट नामक एक और शब्द अक्सर एक दूसरे के लिए प्रयोग किया जाता है। हालांकि, फ्लैग और पीनेंट के बीच थोड़ा अंतर है। पीनेंट के मध्य सेक्शन में कन्वर्ज ट्रेंडलाइन होती है जबकि फ्लैग में के मध्य सेक्शन में कन्वर्ज ट्रेंडलाइन नहीं होती है।

बुल और बेअर फ्लैग्स

बुलिश फ्लैग पैटर्न और बेअरिश फ्लैग चार्ट पैटर्न होते हैं। बुलिश फ्लैग चार्ट पैटर्न एक अपट्रेंड के समय में होता है, और संकेत है कि वहाँ एक निरंतरता अपट्रेंड हो सकता है। दूसरी ओर, डाउनट्रेंड के दौरान व्यापारिक रूपों में बेअरिश फ्लैग चार्ट पैटर्न होता है । यह बेअरिश ट्रेंड के    जारी रहने का प्रतीक है।

फ्लैग पैटर्न की पांच विशेषताएं हैं: पूर्ववर्ती ट्रेंड, समेकन चैनल, मात्रा पैटर्न, ब्रेकआउट, और पुष्टि जिसमें मूल्य परिवर्तन ब्रेकआउट के रूप में एक ही दिशा में रहता है।

फ्लैग पैटर्न ट्रेडिंग

बुल्स फ्लैग, अपट्रेंड के दौरान होता है, यह उच्च साइड की ओर स्ट्रोंग मूव के बाद कम और धीमे समेकन को रेखांकित करता है। इसका मतलब है कि डाउनवार्डस मूव की तुलना में अपवार्ड्स मूव पर खरीद ज्यादा है। यदि आप बुल्स फ्लैग व्यापार करना चाहते हैं, तो आप समेकन प्रतिरोध पर ब्रेकआउट करने  के लिए कीमत का इंतजार कर सकते हैं ताकि आप एक प्रविष्टि (लंबे समय तक)की तलाश कर सकें। ब्रेकआउट का मतलब है कि इसके फॉर्मेशन से पहले ही ट्रेंड जारी है।

बुल्स फ्लैग की तरह लगने वाला बेअर फ्लैग चार्ट पैटर्न विपरीत ढंग से किया जाता है, जैसा कि पहले बताया गया यह डाउनट्रेंड में होता है । इसमें, बेअर फ्लैग निम्न साइड की ओर स्ट्रोंग मूव के बाद कम और धीमे समेकन को दर्शाता है। इसका मतलब है कि अपवार्ड्स मूव की तुलना में डाउनवार्डस मूव पर बिक्री ज्यादा है। सुरक्षा की गति नकारात्मक बनी हुई है।

यदि आप बेअर फ्लैग व्यापार करना चाहते हैं, तो आप समेकन सपोर्ट पर कीमत के ब्रेकडाउन करने तक इंतजार कर सकते हैं ताकि आप बाज़ार में प्रविष्टि (कम समय तक)की तलाश कर सकें।

मात्रा पर नजर रखें

— जब आप व्यापार में फ्लैग पैटर्न में रुचि रखते हैं तो मात्रा के लिए एक और आयाम ढूंढते हैं। यदि किसी भी फ्लैग पैटर्न के ब्रेकआउट के साथ कोई मात्रा नहीं है, तो इसका मतलब है कि सिग्नल विश्वसनीय नहीं है।

— यदि आप एक बेअर फ्लैग पैटर्न व्यापार कर रहे हैं, तो आप पोल में बढ़ती मात्रा देखना चाहते हैं, यानी, फ्लैग से पहले ट्रेंड। एक डाउनट्रेंड या फ्लैगपोल साथ बढ़ती मात्रा बिक्री पक्ष पर ज्यादा जोर देती है। एक आदर्श स्थिति में, फ्लैग में कम मात्रा होनी चाहिए।

— जब आप व्यापार में बुल्स फ्लैग पैटर्न देख रहे हैं, तो आप पोल में बढ़ती मात्रा देखना चाहेंगे। यह खरीद पक्ष पर ज्यादा जोर देगा। फ्लैग में इसके फॉर्मेशन में कम मात्रा होनी चाहिए।

— इसके अलावा, फ्लैग पैटर्न के व्यापारी एक उच्च-वॉल्यूम बार के साथ ब्रेकआउट देखना चाहते हैं, क्योंकि यह एक ठोस बल का संकेत है जो मूल्य को एक ट्रेंड में बदल देता है जो नवीनीकृत है।

स्टॉप लॉस

स्टॉप लॉस के सवाल पर, व्यापारियों ने आम तौर पर फ्लैग पैटर्न के प्रतिकूल पक्ष को स्टॉप-लॉस पॉइंट के रूप में सेट किया है।

निष्कर्ष

फ्लैग पैटर्न व्यापार में सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल चार्ट पैटर्न में से एक है। फ्लैगपोल फ्लैग से पहले ट्रेंड का संकेत है। फ्लैग, ट्रेंड के बाद समेकन का संकेत है। व्यापार में फ्लैग पैटर्न एक अल्पकालिक निरंतरता पैटर्न है जो छोटे समेकन का प्रतीक है जिसके बाद पहले हुए परिवर्तन रिन्यू हो जाता है। ट्रेडर्स इस प्रकार ट्रेंड की निरंतरता की पहचान करने के लिए बुल्स और बेअर फ्लैग चार्ट पैटर्न दोनों का उपयोग करते हैं।