इक्विटी मुआवजा एक गैर-नकद भुगतान है जो एक संगठन अपने कर्मचारियों को फर्म में स्वामित्व के रूप में पेश कर सकता है। इक्विटी मुआवजे को विभिन्न रूपों, जैसे स्टॉक विकल्प, नि‍ष्पादन शेयर्स और प्रतिबंधित स्टॉक में प्रदान किया जाता है। इक्विटी मुआवजा पाने वाले कर्मचारी मूल्यवृद्धि के माध्यम से कंपनी के मुनाफे को बांट सकते हैं।

कई कंपनियां, विशेष रूप से स्टार्टअप (नए बिज़नेस), इक्विटी मुआवजे का उपयोग करते हैं। इसका उपयोग विकास के चरण में छोटी कम्पनियां या स्टार्टअप्स द्वारा एक रणनीति के रूप में किया जाता है, जिन्हें व्यावसायिक विकास या विस्तार में निवेश करने के लिए अपनी कार्यशील पूंजी की पर्याप्त मात्रा की आवश्यकता हो सकती है। प्रतिभाशाली कर्मचारियों को लुभाने या बनाए रखने के लिए उनके पास पर्याप्त नकदी नहीं हो सकती है। यह ऐसे समय के दौरान होता है जब कंपनियां इक्विटी मुआवजे का विकल्प चुनती हैं जिससे मुआवजे का पैकेज आकर्षक लगता है। इसलिए, कई बार इक्विटी मुआवजे का मतलब होता है अपर्याप्त या उचित से कम मजदूरी।

अपने आदर्श रूप में, इक्विटी मुआवजा कंपनी के लक्ष्यों के साथ व्यक्तिगत कर्मचारियों के हित को सम्मिलित कर सकता है। इससे सभी हितधारकों के बीच एक अच्छा मेल-मिलाप हो सकता है, इससे नवीनीकरण और रोजगार की दीर्घायु में सुधार करने में मदद मिलेगी। यह, बदले में, कंपनी के लिए अपने उपयोगकर्ताओं और ग्राहकों और उसके कर्मचारियों के लिए आदर्श बनाने में मदद करता है।

इक्विटी मुआवजे के प्रकार

स्टॉक विकल्प

कंपनियां स्टॉक विकल्प प्रदान करती हैं जो कंपनी के स्टॉक्स के शेयर्स को पूर्व निर्धारित कीमत पर खरीदने का अधिकार प्रदान करती हैं, जिन्हें एक्सरसाइज प्राइस कहा जाता है। यह अधिकार कर्मचारियों को एक विशिष्ट समय के लिए कंपनी के लिए काम करने के बाद इस विकल्प पर नियंत्रण प्राप्त करने की अनुमति देता है। जब विकल्प अधिकारयुक्त हो जाता है, तो वे इस विकल्प को बेचने या स्थानांतरित करने का अधिकार प्राप्त करते हैं। यह प्रक्रिया लंबे समय तक कर्मचारी को बरक़रार रखने में मदद करती है।

नॉन-क्वालिफाइड स्टॉक ऑप्शंस (गैर-योग्य स्टॉक विकल्प) (एनएसओ) और इंसेंटिव स्टॉक ऑप्शंस (प्रोत्साहन स्टॉक विकल्प) (आईएसओ)

इक्विटी मुआवजे के अन्य अतिरिक्त प्रकार हैं, जैसे कि एनएसओ और आईएसओ। एनएसओ के मामले में, नियोक्ताओं को यह रिपोर्ट करने की आवश्यकता नहीं है कि वे इस विकल्प को कब प्राप्त करते हैं या इसका प्रयोग कब किया जाता है। आईएसओ जो विशेष कर लाभ प्रदान करते हैं, केवल कर्मचारियों के लिए उपलब्ध हैं, न कि गैर-कर्मचारी निदेशकों या सलाहकारों के लिए।

प्रतिबंधित स्टॉक

प्रतिबंधित स्टॉक इकाइयाँ कंपनी के वादे के आधार पर शेयर्स का भुगतान करने का वादा करती हैं। हालांकि यह कंपनी को लाभ देता है, यह कर्मचारियों को कोई मालिकाना अधिकार नहीं देता है, जब तक कि शेयर अर्जित और जारी नहीं किए जाते हैं।

नि‍ष्पादन शेयर्स

विशिष्ट मेट्रिक्स पूरा होने पर ही नि‍ष्पादन शेयर्स कर्मचारियों को इनाम में दिए जाते हैं। इन मेट्रिक्स में इक्विटी पर रिटर्न शामिल हो सकता है, प्रति शेयर आय या किसी इंडेक्स के संबंध में कंपनी के स्टॉक का कुल मुनाफ़ा शामिल हो सकता है। ऐसे शेयर्स आमतौर पर बहु-वर्ष के समय सीमा पर होते हैं।

इक्विटी मुआवजे के लिए लाभ और कमियां

सबसे पहले, इक्विटी मुआवजे स्टार्टअप्स के लिए एक अच्छी कॉर्पोरेट-फाइनेंस रणनीति है। जो कंपनियां शुरू हो रही हैं, जिनके पास अपनी नई प्रतिभा को इनाम देने के लिए पर्याप्त नकदी नहीं है, वे इक्विटी मुआवजा दे सकते हैं। दूसरे, स्टॉक विकल्प आपके कंपनी के लक्ष्यों के साथ आपके कर्मचारियों के हितों को संरेखित करते हैं। जब उन्हें स्टॉक विकल्प दिए जाते हैं, तो वे कंपनी के लाभ के लिए काम करने के लिए अधिक प्रेरित महसूस करते हैं। यह कर्मचारी को बरक़रार रखने में मदद करता है। इसके अलावा, पुरस्कार प्रदान करने की कंपनी की क्षमता आपके कर्मचारी उपयोगिता प्रस्ताव को बढ़ाती है। यह कंपनी को बाजार में प्रतिस्पर्धी खिलाड़ी भी बनाता है।

हालांकि, संस्थापक कभी-कभी इक्विटी भुगतान की पेशकश करते हुए उत्साह में आ जाते हैं और कंपनी के बहुत अधिक स्वामित्व को छोड़ देते हैं। इसे सावधानीपूर्वक रणनीतिक योजना के साथ टाला जा सकता है। नेशनल सेंटर फॉर एम्प्लोयी ओनरशिप (कर्मचारी स्वामित्व के राष्ट्रीय केंद्र) के अनुसार, 76% कर्मचारी जो स्टॉक विकल्पों के लिए पात्र हैं, उनके लिए चयन करते है। इसलिए, यदि आप अपनी टीमों को इक्विटी भुगतान की पेशकश करने की योजना बनाते हैं, तो उनमें से अधिकांश उन्हें लेने के लिए होते हैं। इससे मुआवजा विभाग के लिए अधिक काम हो जाता है।

निष्कर्ष

इक्विटी मुआवजे के साथ, इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि यह भुगतान करेगा। अपने भुगतान किए गए वेतन के विपरीत, आप यह सुनिश्चित नहीं कर सकते कि यह भुगतान करेगा या नहीं। हालांकि, इक्विटी और नकदी घटकों दोनों के साथ निष्पक्ष संतुलित शर्तों पर आधारित समझौते को एक अच्छा सौदा माना जाता है।