स्टॉपलॉस क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है?

विनोद से मिलिए। वह शेयर बाजार में नया है और स्टॉप लॉस की अवधारणा को समझना चाहता है। उसका दोस्त आशीष, एन्जिल ब्रोकिंग के साथ एक सक्रिय व्यापारी व्याख्या करता है:


स्टॉपलॉस एक निवेशक द्वारा अपने नुकसान को सीमित करने के लिए उपयोग की जाने वाली विधि है। यह निवेशक द्वारा एक ब्रोकर को एक निश्चित पूर्व निर्धारित मूल्य तक पहुंचते ही प्रतिभूतियों को बेच देने के आर्डर के रूप में कार्य करता है। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आशीष प्रति शेयर एक हजार रुपये की दर से ABC मोबाइल में 50 शेयर खरीदता है। शीघ्र ही, शेयर की कीमत प्रति शेयर 960 रुपये तक गिर जाती है। आशीष अपने नुकसान को सीमित करना चाहता है, तो वह नौ सौ पचास रुपये में एक स्टॉप लॉस आर्डर रख देता है। अगर कीमत नौ सौ पचास रुपये से भी कम पर गिरती जाती है, तो उसके ब्रोकर एन्जिल ब्रोकिंग आगे होने वाले और नुकसान को रोकने के लिए शेयर बेच देंगे।

दूसरी ओर, अगर शेयर की कीमत प्रति शेयर एक हजार चार सौ रुपये के लिए बढ़ जाती है, आशीष अपने शेयरों को रखना चाहता है और अपने लाभ खोना नहीं चाहता है; इसलिए वह कीमतों के एक हजार तीन सौ रुपये से गिरने पर शेयरों को बेचने के लिए एक स्टॉप लॉस आर्डर रख देता है स्टॉप लॉस ऑर्डर रखकर, आशीष अपने लाभ को बनाए रखता है और संभावित नुकसान को रोककर अपने निवेश की रक्षा करता है।