एक ट्रेडर के लिए  स्टॉक मार्केट  में ऑर्डर देने के दौरान सर्वोत्तम लाभ प्राप्त करना बहुत महत्वपूर्ण है। एक खरीदार हमेशा सबसे कम कीमत पर एक स्टॉक खरीदना चाहता है और एक विक्रेता सबसे अधिक कीमत पर बेचना चाहता है। 

इसलिए,  स्टॉक मार्केट  में ट्रेडों से एक अच्छा लाभ कमाने और नुकसान को कम करने में आपकी सहायता करने के लिए विभिन्न विधियां और तकनीकें मौजूद हैं। निवेश की सफलता से लाभ पाने के लिए इस तरह के सबसे उपयोगी  तरीको में से एक कोलिमिट ऑर्डरकहा जाता है। जिसमे लिमिट ऑर्डर अत्यधिक प्रमुख है क्योंकि यह आपके  पोर्टफोलियो मे घटती – बढ़ती कीमतों से होने वाली  क्षति को बचाने  में मदद करता है। 

लिमिट ऑर्डर क्या होता है?

लिमिट ऑर्डर निवेशकों को एक निर्दिष्ट या बेहतर मूल्य पर एक स्टॉक खरीदने या बेचने की अनुमति देता है। खरीद लिमिट ऑर्डर के मामले में ऑर्डर केवल नीचे या लिमिट मूल्य पर कार्यान्वित किया जाएगा, जबकि लिमिट ऑर्डर बेचने के लिए केवल ऊपर या लिमिट मूल्य पर कार्यान्वितकिया जाएगा। अतः जो ट्रेडर्स लेन देन नियमो का कार्यान्वित करना चाहते है तो यह नियम उनके बेहतर ट्रेड प्रदर्शन की कीमतों पर नियंत्रण रखने की अनुमति देता है  

लिमिट ट्रेड ऑर्डर के साथ, खरीदार को उस स्टॉक का मूल्य या उससे कम का भुगतान करने की गारंटी दी जाती है। जबकि लिमिट ऑर्डर की गारंटी कीमत को पूरा करना नहीं है और लिमिट ऑर्डर को तब तक कार्यान्वित नहीं किया जाएगा जब तक कि स्टॉक मार्केट की कीमत लिमिट कीमत तक नहीं पहुंच जाती।

स्टॉक लिमिट ऑर्डर के 100% ऑर्डर को कार्यान्वित करने   की गारंटी नहीं है क्योंकि खरीद लिमिट ऑर्डर समय के अनुसार कार्यान्वित  किए जाते हैं और यह आवश्यक नहीं है कि एक खरीदार निश्चित रूप से लिमिट मूल्य पर एक विक्रेता को ढूंढ लेगा। यदि संपत्ति सही  मूल्य तक नहीं पहुंचती है, तो ऑर्डर कार्यान्वित नहीं किया जाएगा और ट्रेडर के ट्रेडअवसर पर बेचा जा सकता है। 

इसे मार्केट ऑर्डर के साथ बनाया जा सकता है, जिसमें ऑर्डर को किसी भी कीमत कैप को परिभाषित किए बिना वर्तमान मार्केट मूल्य पर जितनी जल्दी हो सके कार्यान्वित किया जाता है। 

आइए इसे एक उदाहरण के साथ और आसानी से समझते है। कि लिमिट ऑर्डर कैसे काम करता है

लिमिट ऑर्डर खरीदें

मान लीजिए, आपने एबीसी कंपनी के 100 स्टॉक खरीदने का फैसला किया है, और आप जिसका  भुगतान करना चाहते हैं वह  25.50 रुपये प्रति स्टॉक है। इस परिदृश्य में, आप इस तरह से लिमिट ट्रेड ऑर्डर का विकल्प चुनेंगे

100 स्टॉक एबीसी खरीदें, 25.50 की लिमिट

यह खरीद लिमिट ऑर्डर मार्केट में बताता है कि आप एबीसी के 100 स्टॉक खरीदेंगे, हालांकि किसी भी शर्त के तहत आप स्टॉक के लिए 25.50 रुपये प्रति स्टॉक का भुगतान नहीं करेंगे। 

लिमिट ऑर्डर पूर्ण ऑर्डर नहीं हैं। आपकी खरीद लिमिट ऑर्डर एबीसी को 25.50 रुपये प्रति स्टॉक पर कार्यान्वित नहीं किया जाएगा और यदि यह लिमिट मूल्य से नीचे कार्यान्वित होता है तो यह आपके लिए फायदेमंद है। यदि, ऑर्डर कार्यान्वित होने से पहले स्टॉक की कीमत आपकी लिमिट ऑर्डर से नीचे आती है, तो आप लाभ उठा सकते हैं और यदि कीमत बढ़ जाती है, और लिमिट ऑर्डर तकनहीं पहुंचती है तो  ट्रेड कार्यान्वितनहीं होगा और खरीद के लिए धन आपके ट्रेडिंग खाते में ही रहेगा।

लिमिट ऑर्डर बेचें 

लेनदेन बिक्री लिमिट ऑर्डर के लिए भी इसी तरह काम करता है। यदि आप 25.50 रुपये के लिए एक सेल लिमिट ऑर्डर देते हैं तो इसे इस तरह प्रदर्शित किया जाता है कि कीमत से कम के लिए कार्यान्वित नहीं किया जाएगा 

100 स्टॉक एबीसी बेचें, लिमिट 25.50

संक्षेप में, आपका खरीद स्टॉक 25.50 रुपये प्रति शेयर से कम किसी भी कीमत पर नहीं बेचा जाएगा। आपके ऑर्डर के कार्यान्वित होने से पहले यदि शेयर की कीमत 25.50 रुपये प्रति शेयर से ऊपर बढ़ जाती है तो आप स्टॉक के लिए अपनी लिमिट मूल्य से अधिक मूल्य प्राप्त करके लाभान्वित हो सकते हैं। जबकि  स्टॉक की कीमत गिरकर आप की आपकी लिमिट मूल्य तक नहीं पहुंचती है तो ट्रेड पूरा नहीं होगा और स्टॉक आपके डीमैट खाते में रहेगा।

लिमिट ऑर्डर कब रखना है?

आप लिमिट ऑर्डर विशेष रूप से रख सकते हैं जब आप स्टॉक खरीदने या बेचने की जल्दी में नहीं होते हैं। lइमित ऑर्डर तुरंत  कार्यान्वित नहीं किए जाते हैं इसलिए आपको तब तक इंतजार करना होगा जब तक कि आपका आस्क मूल्यया बोली मूल्य तक नहीं पहुंच जाता है। आमतौर पर प्रमुख लिमिट ऑर्डर प्रतिरोध और समर्थन स्तरों पर रखे जाते हैं और यह आपको सबसे अच्छी खरीद और बिक्री की कीमतें प्राप्त करने मे मदद करता है। आप एक प्रभावी औसत लागत प्राप्त करने के लिए कई छोटे लिमिट ऑर्डर में खरीद/बिक्री ऑर्डर को भी विभाजित कर सकते हैं। 

इसके अलावा लिमिट प्राइस कहां और कब सेट करना है यह जानने के लिए अनुभव की जरूरत होती है।  यदि आप एक खरीद लिमिट ऑर्डर को बहुत कम रखते हैं तो इसे कभी कार्यान्वित नहीं किया जा सकता है जो आपके लिमिट ऑर्डर के लिए बिलकुल सही नहीं है एक बार जब आप कुछ अनुभव प्राप्त कर लेते हैं, तो आपको ऑर्डर वास्तव में कार्यान्वित करने और बेहतर स्टॉक मूल्य पाने के लिए बेहतर जगह मिल जाती है जो आपको एक बेहतर स्टॉक मूल्य प्राप्त करते है

लिमिट ऑर्डर के क्या फायदे हैं

लिमिट ऑर्डर देने का मुख्य लाभ यह है कि आप जिस पर अपनी पोजीशन खोलना या बंद करना चाहते है उस अधिकतम कीमत पर ऑर्डर दे सकते हैं यदि स्टॉक की कीमत उस स्तर तक पहुंच जाती है, तो  ट्रेड किया जाएगा। इसलिए लिमिट ऑर्डर आपको परिसंपत्ति मूल्य की लगातार निगरानी किए बिना एक परिभाषित स्तर पर एक  ट्रेड कार्यान्वित करने की अनुमति देते हैं। 

इसके अलावा, लिमिट आडर्सको मार्केट हावर्स के के बाद या उससे पहले भी रखा जा सकता है क्योंकि कुछ दलाल मार्केट हावर्स से पहले और बाद में स्टॉक खरीदने और बेचने के लिए एक लिमिट ऑर्डर भी देते हैं। ऑर्डर दिए जाने के बाद अगले ट्रेडिंग सत्र में अनफिल्ड होने पर ऑर्डर स्वचालित रूप से समाप्त हो जाएगा। 

लिमिट ऑर्डर के जोखिम क्या हैं

लिमिट आडर्स के साथ सबसे बड़ा जोखिम यह है कि ऐसे आदेशों के कार्यान्वित करने का कोई आश्वासन नहीं है क्योंकि स्टॉक की कीमत आपके द्वारा निर्दिष्ट राशि तक कभी नहीं पहुंच सकती है। दूसरे शब्दों में यदि कोई विशिष्ट स्थिति थी  जिस पर आपको बंद करने या खोलने की आवश्यकता हो तो आपको इसे कभी पूरा नहीं होने का जोखिम रहेगा  जो आपकी ट्रेडिंग योजना को प्रभावित कर सकता है। 

बॉटम लाइन

लिमिट ऑर्डर ट्रेडिंग अवसर को याद रखने का का एक आदर्श तरीका हो सकता है, लेकिन वे निश्चित रूप से मूर्खतापूर्ण नहीं हैं। यहां यह समझना महत्वपूर्ण है कि वही  तरीका जो आपको अत्यधिक नुकसान से बचाता है वह आपको अप्रत्याशित लाभ को साकार करने से भी रोक सकता है। 

अत्यधिक अस्थिर मार्केट की स्थिति में, ऊपर दिए गए उदाहरण की तरह लिमिट ऑर्डर आपको शेयरों पर अतिरिक्त लाभ या नुकसान के  कारण बन सकते हैं क्योंकि वे बहुत तेजी से भरे जा सकते हैं। 

यदि आप स्टॉक खरीदना या बेचना चाहते हैं तो अपने ऑर्डर पर एक सीमा तय करें जो दैनिक मूल्य में उतारचढ़ाव के बाहर/परे हो तथा तय करे कि  लिमिट की कीमत आपके संतुष्ट परिणाम   बिंदु पर तय की गई है हर तरह से आपको खरीदने और बेचने के लिए कीमतों पर कुछ नियंत्रण होना चाहिए।