व्यापारी मौलिक और तकनीकी विश्लेषण के एक संयोजन का उपयोग प्रतिभूतियों के प्राइस मूवमेंटस को समझने और कुछ शेयर दूसरे शेयरों की तुलना में कैसा प्रदर्शन करते हैं, के लिए करते है। तकनीकी विश्लेषण का एक महत्वपूर्ण पहलू सूत्र और संकेतकों का उपयोग है। ऐसा ही एक विश्लेषण स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन है।

स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन क्या है?

स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन जिसे स्पीयरमैन गुणांक के रूप में भी जाना जाता है, एक सूत्र है जिसका प्रयोग दो डेटासेट के बीच के लिंक की स्ट्रेंथ की पहचान करने के लिए  किया जाता है। यह गुणांक एक ऐसी विधि है जिसका उपयोग किसी संबंध की स्ट्रेंथ का आकलन करने के लिए किया जा सकता है जिसकी दिशा इस गुणांक द्वारा प्रयोग की जाने वाली दिशा से अलग होती है। इस सूत्र का यह नाम गणितज्ञ चार्ल्स स्पीयरमैन के नाम पर पड़ा इस  सूत्र का उपयोग केवल उन परिस्थितियों में किया जा सकता है जहां डेटा को वर्गीकृत या एक क्रम में व्यवस्थित किया जा सकता है, उदाहरण के लिए, घटते हुए क्रम में।

स्पीयरमैन गुणांक की बेहतर समझ होने से, यह मोनोटोनिक फ़ंक्शन का अर्थ समझने में मदद कर सकता है। इन परिस्थितियों में एक मोनोटोनिक संबंध होता है:

– जब वैरियबल के मान एक साथ बढ़ते हैं।

– जब एक वैरियबल का मान बढ़ता है और अन्य वैरियबल के मान कम हो जाते  है।

– वैरियबल मूवमेंट की दर का स्थिर  होना आवश्यक नहीं हैं।

स्पीयरमैन कोरिलेशन गुणांक या रूपये का मान  +1 और -1 के बीच होता है,  जहाँ  +1 वैरियबलों के बीच एक परफेक्ट स्ट्रेंथ इंगित करता है, जबकि शून्य कोई संबंध नहीं दिखाता  है और -1 एक परफेक्ट नेगेटिव स्ट्रेंथ को इंगित करता है।

पियरसन बनाम स्पीयरमैन गुणांक

इसके अलावा एक पियरसन गुणांक भी होता है, जिसमें दो वैरियबलों के बीच एक लीनियर कोरिलेशन को मापा जाता है। पियरसन गुणांक हमेशा केवल दो वैरियबलों के बीच रैखिक संबंधों में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, पियरसन गुणांक में, वैरियबल निरंतर दर पर बढ़ते हैं।

फिर भी पियरसन गुणांक और स्पीयरमैन कोरिलेशन के बीच एक और अंतर यह है कि जहाँ पियरसन गुणांक  रॉ डेटा के साथ काम कर सकता है, तो वहीं  स्पीयरमैन गुणांक केवल उन वैरियबल के साथ काम करता है जो कि एक क्रम में व्यवस्थित किए जाते हैं।

स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन का उपयोग कब करें?

जब एक स्केटरप्लॉट यह इंगित करता है कि संबंध लीनियर हो सकता है या मोनोटोनिक हो सकता है, तो  यह स्पीयरमैन का उपयोग करने के लिए सबसे अच्छा समय  होगा । यदि डेटा लीनियर या परफेक्ट नहीं है तो पियरसन गुणांक उपयोगी नहीं होगा। दूसरी ओर, स्पीयरमैन गुणांक  डेटा को कोई नुकसान नहीं पहुँचाता है  भले ही डेटा लीनियर या परफेक्ट क्यों न हो।

शेयर बाजार में एक स्पीयरमैन सूचक की क्या भूमिका है?

स्पीयरमैन गुणांक के कई अनुप्रयोग  है और इसका  शेयर बाजार के  तकनीकी विश्लेषण में प्रयोग किया जाता है। यह एक ट्रेंड या टर्निंग प्वाइंट  की स्ट्रेंथ  का आकलन करने में मदद करता है। इस गुणांक का  उपयोग विख्यात व्यापारी डेन वल्कू  द्वारा तकनीकी विश्लेषण में किया गया था जिसके बाद यह बहुत लोकप्रिय  हुआ।

शेयर बाजार में स्पीयरमैन सूचक का उपयोग एक मजबूत ट्रेंड और मूल्य परिवर्तन के बीच कोरिलेशन समझने के लिए किया जा सकता है।

स्पीयरमैन अनुपात (दो डेटासेट और उनके अनुपात) को 100 से गुणा किया जाता है, जिसमें +100 एक अपट्रेंड के साथ कोरिलेशन की स्ट्रेंथ का संकेत देता है जबकि -100 एक मजबूत डाउनट्रेंड कोरिलेशन का संकेत  देता है।

स्पीयरमैन कोरिलेशन को लागू करते समय आम तौर पर उपयोग किए जाने वाले दो डेटासेट  वास्तविक कीमत और उस श्रृंखला की एक क्रमबद्ध सूची होती है। कोरिलेशन  का उपयोग एक प्रतिभूति की अस्थिरता का प्राइस ट्रेंड के साथ तुलना करने में किया जा सकता है जो कि इसमे सक्षम है।

स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन का मान +80 से ऊपर होना टॉप पर रहने का संकेत हो सकता है, जबकि -80 से  नीचे का  मान सबसे नीचे या एक नेगेटिव ट्रेंड का संकेत हो सकता है। +100 या -100  चरम मान हैं और अक्सर दर्ज नहीं किए जाते हैं।

स्पीयरमैन संकेतकों का उपयोग उन स्तरों का आकलन करने के लिए भी किया जा सकता है जिन पर आप स्टॉप लॉस ऑर्डर कर सकते हैं।

ऑसीलेटर संकेतक और स्पीयरमैन

ऑसीलेटर संकेतक ट्रेडिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, क्योंकि वे आपको ओवरसोल्ड  या ओवरबाउट  शर्तों की पहचान करने में मदद करते हैं। एक ऑसीलेटर एक तकनीकी विश्लेषण उपकरण है कि एक विशिष्ट बैंड के भीतर निश्चित समय अवधि में होने वाले  परिवर्तन को दिखाता  है। यहाँ कई ऑसीलेटर संकेतक हैं और स्पीयरमैन इंडिकेटर एक ऐसा ही ऑसीलेटर है। ऑसीलेटर तब काम में आते हैं जब बाजार अस्थिर होता है और कोई विशेष ट्रेंड उभरता हुआ नहीं दिख  रहा होता है। इस तरह  शेयर बाजार में एक स्पीयरमैन सूचक के रूप में एक ऑसीलेटर एक्शन की एक स्पष्ट तस्वीर प्रदान करता है और आपको खरीदने या बेचने के संकेत देता है। ऑसीलेटर आम तौर पर एक साइडवे बाजार में उपयोग किया जाता है जहाँ  प्राइस एक्शन  एक क्षैतिज चैनल के इर्द-गिर्द ऑसीलेट करता है।

संक्षेप में

तकनीकी विश्लेषण में उपकरणों की एक श्रृंखला शामिल होती है जो कि एक व्यापारी को  प्राइस मूवमेंट  का आकलन करने  और खरीद एवं बिक्री कब की जाए, में मदद करता है। ऑसीलेटर सबसे महत्वपूर्ण तकनीकी विश्लेषण उपकरणों में से एक है जो  किसी भी बाजार में  ओवरबाउट या ओवरसोल्ड की स्थिति को इंगित करता है। स्पीयरमैन रैंक कोरिलेशन या सूचक एक महत्वपूर्ण उपकरण है कि बाज़ार के ट्रेंड का आकलन करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका उपयोग अन्य उपकरणों के साथ किया जा सकता है ताकि बाजार की स्पष्ट तस्वीर मिल सके, क्योंकि कई तकनीकी उपकरण या ऑसीलेटर संकेतक बाजार विश्लेषण के लिए स्टैंडअलोन टूल के रूप में कार्य नहीं कर सकता है।