स्थितिक ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग करके कारोबार कैसे करें

स्थिति कारोबार दीर्घ अवधि के कारोबारी शैलियों में से एक है। स्थिति कारोबारी दिन कारोबारियों और दीर्घ अवधि के निवेशकों के मध्य में बैठते हैं। वे एक बड़ा लाभ सुरक्षित करने के लिए अपनी स्थिति को स्क्वायर ऑफ करने से पहले एक विस्तारित अवधि के लिए बाजार में निवेश करते हैं, कभी-कभी हफ्तों और महीनों के लिए भी। तो, अगर आपको लगता है कि स्थिति कारोबार आपकी शैली है, तो आप स्थिति कारोबार रणनीतियों पर अपने आप को अद्यतन करने की आवश्यकता होगी जो कि आमतौर पर कारोबारियों द्वारा उपयोग किया जाता है।

आपको एक स्थितीय कारोबार रणनीति की आवश्यकता क्यों है? स्थिति कारोबारी एक लंबी अवधि तक निवेश करके रखते हैं, जिसके परिणामस्वरूप बड़ा लाभ होता है लेकिन इससे कारोबारियों के लिए आंतरिक जोखिम राशि भी बढ़ जाती है। यदि अवधि के दौरान प्रवृत्ति स्विच होती है, तो यह आपको बाजार के विपरीत दिशा में ले सकती है। रणनीति अपनाने से आपको उभरते रुझानों की पहचान करने और सटीकता के साथ प्रवेश करने तथा बाहर निकलने की योजना बनाने में मदद करेगी।

स्थिति कारोबारी, हालांकि मौलिक विश्लेषण और तकनीकी कारोबार तकनीकों दोनों पर अपने निर्णय आधारित करते हैं, परंतु उनकी रणनीतियों का प्रमुख हिस्सा यह तकनीकी विश्लेषण होता है। जब आप किसी चार्ट का विश्लेषण कर रहे हैं, तो आप किसी परिसंपत्ति के बारे में सामूहिक भावना का अध्ययन कर रहे हैं, जिससे आप खुद को सफल ट्रेडों की योजना बनाने के लिए महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान कर रहे हैं।

स्थिति कारोबारी निष्क्रिय कारोबारी हैं। दिन के कारोबारियों के विपरीत वे पूरे दिन कंप्यूटर से चिपके रहते हैं, जो उनके लिए बाजार के रुझान को समझना, पैटर्न का विश्लेषण, और वर्तमान प्रवृत्ति में किसी भी विक्षेपण की पहचान करने के लिए संकेतक जानना और भी महत्वपूर्ण बना देता है।

सामान्य स्थितिक ट्रेडिंग रणनीतियाँ

स्थितिक कारोबार रणनीतियां अल्पकालिक बाजार शोर को खत्म करने और कारोबारियों को एक विस्तारित स्थिति ध्यान केंद्रित करने देने में में मदद करती हैं। स्थितिक कारोबारी छोटी प्रवृत्ति परिवर्तनों की अनदेखी करते हैं और इसलिए ऐसी रणनीतियों की जरूरत है, जो कि तर्कसंगतता और विश्लेषण की एक मजबूत नींव पर आधारित हों।

अब, आइए नीचे दी गई सूची पर विचार करें।

समर्थन और प्रतिरोध

समर्थन और प्रतिरोध लाइनें कारोबारियों को उस सीमा को देखने की अनुमति देती हैं जिसमें परिसंपत्ति मूल्य गतिमान है। समर्थन कीमत की निचली सीमा बनाता है, और प्रतिरोध ऊपरी स्तर का गठन करता है। यहां एक परिसंपत्ति मूल्य के लिए समर्थन और प्रतिरोध स्तरों की पहचान करने का तरीका बताया गया है।

— ऐतिहासिक डेटा संपत्ति के लिए समर्थन और प्रतिरोध स्तर की पहचान करने के लिए एक विश्वसनीय विकल्प है। व्यापारी भविष्य के मूल्य संचलनों के लिए संकेतक के रूप में महत्वपूर्ण लाभ और नुकसान की अवधि पर विचार करते हैं।

— जब एक ब्रेकआउट होता है समर्थन और प्रतिरोध उनकी भूमिकाओं को बदल लेते हैं। संपत्ति की कीमत कैसे ने कैसे गति की है यह समझने के लिए कारोबारी पिछले समर्थन और प्रतिरोध के स्तर को ध्यान में रखते हैं।

— फाइबोनैचि रिट्रेसमेंट भी गतिशील समर्थन और प्रतिरोध के स्तर को समझने में एक उपयोगी तकनीकी विश्लेषण प्रदान करते हैं

ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति

ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति में कारोबारी मूल्य लाइन के समर्थन या प्रतिरोध के स्तर को पार करने के लिए प्रतीक्षा करते हैं। जब ओवरहेड प्रतिरोध टूट जाता है, तो कारोबारी एक दीर्घ स्थिति में प्रवेश करता है। इसके विपरीत, वह एक लघु स्थिति में प्रवेश करता है, जब मूल्य समर्थन लाइन टूट जाती है। यदि आप आवधिक समर्थन और प्रतिरोध के स्तर की पहचान करने में अच्छे हैं, तो यह कारोबार रणनीति आपको फायदा देगी।

50 दिन और 200 दिन ईएमए क्रॉसओवर

50-दिन और 200-दिन ईएमए को स्थितिक कारोबार रणनीति के लिए सबसे उपयुक्त गतिमान औसत माना जाता है।जब गतिमान औसत रेखाएं एक-दूसरे को क्रॉस करती हैं, ट्रेडर्स कारोबार अवसरों की तलाश करते हैं।

जब तेजी से गतिमान औसत प्रतिच्छेद बिंदु से नीचे धीमी एमए रेखा को पार करता है तो इसे गोल्डन क्रॉस कहा जाता है। यह सकेत करता है कि आगे एक बुल बाजार आगे जा रहा है।

इसके विपरीत, जब 50-दिन एमए 200-दिन एमए को ऊपर से क्रॉस करता है, तो यह एक बियर बाजार को इंगित करता है। प्रतिच्छेद बिंदु को डेथ क्रॉस कहा जाता है।

हालांकि, एमए लैगिंग संकेतक हैं, जिसका अर्थ है कि क्रॉसओवर होने के समय से, प्रवृत्ति उत्क्रमण पहले ही हो चुका है। इस समस्या को ठीक करने के लिए, कारोबारी एमए लाइनों के साथ स्टोकेस्टिक RSI को संयोजित करते हैं।

स्टोकेस्टिक RSI का तात्पर्य स्टोकेस्टिक फॉर्मूला का उपयोग करके आरएसआई की गणना करने से है। कारोबारी उनके कारोबार चार्ट पर क्रॉसओवर खामियों को ठीक करने के लिएगतिमान औसत रेखाओं और स्टोकेस्टिक RSI दोनों को सम्मिलित करते हैं। एक स्टोकेस्टिक RSI एमए क्रॉसओवर होने से पहले गोल्डन क्रॉस के गठन का प्रारंभिक संकेत देगा।

जब स्टोकेस्टिक RSI 20 के स्तर को पार करता है यह एक बुलिश प्रवृत्ति की शुरुआत को इंगित करता है। हालांकि, संकेत पर प्रतिक्रिया करने से पहले इसकी पुष्टि की आवश्यकता है।

प्रवृत्ति की पुष्टि करने के लिए, 200-दिनों के ईएमए से ऊपर ब्रेक करने और बंद करने की कीमत देखें। 200 दिन ईएमए स्थितीय कारोबार में सबसे शक्तिशाली एमए में से एक के रूप में माना जाता है, इसके ऊपर मूल्य बंद होने पर, इसे प्रतिक्रिया करने के लिए एक पर्याप्त मजबूत संकेत माना जाता है। इस रणनीति का प्रयोग करके कारोबार में, स्टॉप लॉस को बिल्कुल हाल के स्विंग के नीचे रखा गया है।

पुलबैक और रिट्रेसमेंट ट्रेडिंग रणनीति

पुलबैक बाजार समन्वय के छोटे क्षण हैं जो तब होता है जब बाजार ऊपर की ओर बढ़ रहा है। कारोबारी प्रवेश की योजना बनाने के लिए अपनी कारोबारी रणनीतियों में पुलबैक की तलाश करते हैं। नीति कम पर खरीदना तथा अधिक पर बेचने की होती है। इसलिए, जब पुलबैक के दौरान कीमत डुबकी लगाती है, तो कारोबारी बाजार में प्रवेश करते हैं। अब, जब पुलबैक होता है उन्हें प्रवृत्ति उत्क्रमण की संभावना को खत्म करने की जरूरत होती है। इसके लिए, वे फाइबोनैचि रिट्रेसमेंट का उपयोग करते हैं।

फाइबोनैचि रिट्रेसमेंट स्थिति कारोबारियों को पहचानने में सहायता करती है कि स्थितियों को कब खोलना तथा बंद करना है। वे 61.8, 38.2 और 23.6 प्रतिशत मूल्य चार्ट पर फाइबोनैचि रिट्रेसमेंट लाइनों खीचेंगे । स्थितिक व्यापारी इन रेखाओं का उपयोग समर्थन और प्रतिरोध लाइनों और कारोबार के अवसरों की पहचान के लिए करते हैं।

रेंज ट्रेडिंग

व्यापारी रेंज ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग तब करते हैं जब कीमतें बिना किसी स्पष्ट प्रवृत्ति केआवधिक ऊंचाइयों और उतारों के भीतर चलती हैं। कारोबारी बेचने के लिए अतिबिक्री(oversold) तथा खरीदने के लिए अतिक्रय(overbought) परिसंपत्तियों की पहचान करने के लिए मूल्य सीमा तकनीकों का उपयोग करते हैं।

निष्कर्ष

स्थितीय कारोबारी बाजार संचलनों की पहचान करने के लिए बड़े पैमाने पर मौलिक और तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करते हैं। इन रणनीतियों का पालन करना आसान नहीं है, खासकर नए निवेशकों के लिए, लेकिन यदि आप स्थितिक कारोबार एक्सप्लोर करने की शुरुआत कर रहे हैं, तो ये रणनीतियां आपको अपनी पसंद के साथ आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करेगी।