कंपनी की ऋण स्थिति के बारे में बात करते समय महत्वपूर्ण वित्तीय अनुपातों में से एक है ब्याज कवरेज अनुपात या आईसीआर। यह एक ऐसा तरीका है जो केवल ऋणदाता या कंपनी बल्कि उन निवेशकों के लिए भी उपयोगी साबित होता है जो कंपनी के शेयरों को खरीदने की सोच रहे हैं। 

तो, ब्याज कवरेज अनुपात वास्तव में है क्या ?

किसी कंपनी को अपने कर्ज पर ब्याज का भुगतान करना पड़ता है। अपनी कमाई से, ब्याज और करों से पहले यह भुगतान वह कितनी बार कर सकती है वही आईसीआर है। आईसीआर की गणना करने के लिए एक फ़ॉर्मूला है। यह ईबीआईटी/ब्याज व्यय (ईबीआईटी) है। ईबीआईटी किसी कंपनी का परिचालन लाभ है। यह कंपनी की ब्याज का भुगतान करने की क्षमता की वास्तविक सूचना  प्रदान करता है। आईसीआर अनुपात किसी कंपनी द्वारा वहन किए गए ऋण की सीमा का सूचक है। 

ब्याज कवरेज अनुपात के फ़ॉर्मूले के उपयोग का एक उदाहरण, अवधारणा को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा

कंपनी एक्स ने पिछली तिमाही में  6,00,000 रुपये की कमाई की है। इसको बकाया ऋण के लिए हर महीने 20,000 रुपये का भुगतान करना पड़ता है। कंपनी की कमाई, कंपनी का परिचालन लाभ हैं जिसकी गणना, कंपनी के  अर्जित रेवेन्यु में से बेची गई वस्तुओं और परिचालन व्यय की लागत को घटाकर की जाती है। इसलिए, यदि अर्जित रेवेन्यु 8,00,000 रुपये है और बेची गई वस्तुओं की लागत 1,00,000 रुपये और परिचालन व्यय और 1,00,000 रुपये हैं, तो ईबीआईटी 6,00,000 रुपये है। 

तो, आईसीआर की गणना करने के लिए, आपको ब्याज के मासिक भुगतान को त्रैमासिक (रु 30,000 × 3 = 90,000) में बदलना होगा। कंपनी का आईसीआर 6,00,000/रु 60,000 = 6.66  होगा। इसका मतलब यह है कि कंपनी की कमाई, 6.66 बार ब्याज का भुगतान करने के लिए पर्याप्त है। 

आमतौर पर, जब आईसीआर 1.5 या उससे कम का होता है, तो इसका मतलब होता है कि ब्याज के भुगतान से संबंधित खर्चों को पूरा करने के लिए, कंपनी अच्छी स्थिति में नहीं भी हो सकती है। भविष्य का सामना करने के लिए कंपनियों को इन खर्चों को पूरा करने के लिए पर्याप्त कमाई की आवश्यकता होगी। शेयरधारकों को यह समझने के लिए कि क्या कंपनी में उनका निवेश उनके लिए अच्छा रहेगा उन्हें इस अनुपात को ट्रैक करने की आवश्यकता होगी।

आदर्श ब्याज कवरेज अनुपात क्या है?

अच्छी और स्थिर रेवेन्यु के लिए जानी जाने वाली कंपनियों के लिए, कम से कम 2 के ब्याज कवरेज अनुपात को  अनुकूल माना जाता है। 3 से अधिक कुछ भी, और भी बेहतर है। दूसरी ओर, यदि अनुपात 1 से नीचे गिर जाता है, तो इसका मतलब है कि किसी भी स्थिति में कंपनी अपने  ब्याज भुगतानों को पूरा  नहीं कर पायेगी और वह आर्थिक रूप से अच्छी स्थिति में नहीं है। यदि अनुपात 1 पर है, तो इसका मतलब है कि कंपनी की कमाई उतनी है जिससे किसी तरह से सिर्फ ब्याज का भुगतान ही संभव है। यद्यपि कोई भी आदर्श ब्याज कवरेज अनुपात नहीं है, पर यह जितना बेहतर होगा, कंपनी की ऋण चुकाने की क्षमता उतनी ही अधिक होगी।

आदर्श ब्याज कवरेज अनुपात का विश्लेषण करते समय, यह कंपनी के पिछले पांच सालों तक के प्रदर्शन का तुलनात्मक विश्लेषण करने में मदद करता है। जब आप आईसीआर को लगातार बढ़ते हुए देखते हैं, तो इसका मतलब है कि कंपनी की वित्तीय स्थिति स्थिर है। दूसरी ओर, यदि पिछले कुछ वर्षों में आईसीआर में गिरावट आई है, तो यह दर्शाता है कि कंपनी को निकट भविष्य में नकदी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। 

ब्याज कवरेज दर के उपयोग

ब्याज कवरेज अनुपात सूत्र लेनदारों और उधारदाताओं द्वारा एक कंपनी को उधार देने में शामिल जोखिम को समझने के लिए उपयोग किया जाता है। 

जैसे कि पहले भी उल्लेख किया गया है, इसका उपयोग निवेशकों द्वारा यह आंकलन करने के लिए भी किया जाता है कि वह जिस कंपनी में निवेश कर रहे हैं वह आर्थिक रूप से अच्छी तरह से काम कर रही है

उधार लेना कोई नकारात्मक गुण नहीं है यदि कोई कंपनी इसका सही ढंग से उपयोग करती है, यानी, एस्सेट्स बनाने और आगे बढ़ने के लिए। ब्याज भुगतान लाभप्रदता को प्रभावित करते हैं औरकिसी कंपनी को पता होना चाहिए कि वह इन भुगतानों को लगातार संभाल सकती है। आईसीआर यह समझने के लिए उपयुक्त मीट्रिक है कि क्या कंपनी उधार ले सकती है। 

यह ध्यान में रखना चाहिए कि भले ही आईसीआर, एक उत्कृष्ट अनुपात है पर इसकी कुछ सीमाएं भी हो सकती हैं। यह विभिन्न तरह के उद्योगों के लिए भिन्न हो सकता है और विभिन्न अनुपात विभिन्न उद्योगों में स्वीकार्य हो सकते हैं। साथ ही, तुलना करते समय, एक ही उद्योग के भीतर काम करने वाली कंपनियों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए बजाय विभिन्न उद्योगों, स्थितियों और व्यापार मॉडल वाली कंपनियों के। 

निष्कर्ष

ब्याज कवरेज अनुपात एक मीट्रिक है जिसका उपयोग किसी कंपनी की वित्तीय स्थिति का विश्लेषण करने के लिए किया जाता है। ब्याज कवरेज अनुपात का फ़ॉर्मूला  है: ईबीटी/ब्याज व्यय जहां ईबीआईटी ब्याज और करों को घटने से पहले की गयी कमाई है। 2 या 3 से ऊपर का आईसीआर, एक अच्छा आईसीआर है, जबकि 1 से नीचे के आईसीआर से पता चलता है कि कंपनी में सब कुछ अच्छा नहीं है। आईसीआर उधारदाताओं, निवेशकों और लेनदारों द्वारा कंपनी की वित्तीय स्थिति का आंकलन करने के लिए उपयोग किया जाता है।