क्या आपको स्कूल में गणित से नफरत थी? फिर आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि एक गणितीय श्रृंखला आपको बेहतर कारोबार रणनीति की योजना बनाने में मदद कर सकती है। वास्तव में, तकनीकी कारोबार, जो आजकल इतना लाभ प्राप्त कर रहा है गणित के सिद्धांतों पर आधारित है। फिबोनैकी श्रृंखला जो कि आपने अपने स्कूल में सीखी थी इसका प्रयोग आधुनिक कारोबारियों द्वारा व्यापक रूप से कारोबार रणनीति की योजना बनाने के लिए किया जाता है। कैसे? इस लेख में हम विस्तार से चर्चा करेंगे।

आइए देखते हैं कि एक फिबोनैकी श्रृंखला कैसी दिखती है।

1, 1, 2, 3, 5, 8, 13, 21, 34, 55, 89… और इसी प्रकार

फिबोनैकी श्रृंखला पूर्णांकों की एक श्रृंखला है, जहां श्रृंखला की प्रत्येक अगली संख्या पिछली दो संख्याओं का योग है। श्रृंखला की संख्या को Fn के रूप में दर्शाया गया है, जहां

F0 = 0 और F1= 1

और, श्रृंखला होगी

Fn= Fn-2 + Fn-1

इसका नाम प्रसिद्ध इतालवी गणितज्ञ के नाम पर रखा गया है जिन्होंने इसका आविष्कार किया था, जिसे लियोनार्डो बिगोलो पिसानो या लियोनार्डो ऑफ पीसा के रूप में भी जाना जाता था।

फिबोनैकी ट्रेडिंग रणनीति बहुत लोकप्रिय है और इसका अभ्यास किया जाता है। और, यदि आप इक्विटी बाजार में प्रवेश की योजना बना रहे हैं, तो आपको इसकी अवधारणा के बारे में भी सीखना चाहिए।

तो, शेयर बाजार के संदर्भ में यह अनुक्रम खेल में कैसे आता है? लेकिन इससे पहले कि हम शेयर बाजार में फिबोनैकी के हिस्से में चलें, यहां इसके बारे में कुछ रोचक तथ्य हैं जो आपको पूरे विषय को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेंगे। जब आप अनुक्रम में किसी भी संख्या को इसके पिछली संख्या से विभाजित करते हैं, तो आपको जो अनुपात मिलता है वह हमेशा 1.618 होता है। इसे गोल्डन अनुपात कहा जाता है। इसी तरह, अगली संख्या से विभाजित होने पर श्रृंखला की कोई भी संख्या आपको 0.618 का परिणाम देगी, जो प्रतिशत के संदर्भ में 61.8 प्रतिशत है।

इतना ही काफी नहीं है। यदि अनुक्रम में कोई संख्या एक संख्या से विभाजित होती है जो स्थान ऊपर  होती है, तो परिणाम 0.382 के आसपास होता है। उदाहरण के लिए, 13/34, 34/89 दोनों का परिणाम एक ही भिन्न होता है। प्रतिशत के संदर्भ में यह 38.2 प्रतिशत हो जाता है। यह एक और स्मरणीय प्रासंगिक प्रतिशत है। एक संख्या जब एक अन्य संख्या से विभाजित होता है जो श्रृंखला में तीन स्थान आगे है तो परिणाम 0.236 आता है। तो, 13/55 या 21/89 समान हैं। प्रतिशत के संदर्भ में यह 23.6 प्रतिशत है। एक बात पर आपको ध्यान देना चाहिए कि फिबोनैकी श्रृंखला में कोई भी अनुपात हमेशा स्थिर है। आमतौर पर, फिबोनैकी अनुपात 23.6, 38.2, 50,61.8 और 100 प्रतिशत होते हैं।

तो, शेयर बाजार में फिबोनैकी की भूमिका क्या है? फिबोनैकी अनुपात स्टॉक चार्ट में उपयोग किया जाता है। एक शब्द फिबोनैकी रिट्रेसमेंट का प्रयोग आमतौर पर स्टॉक चार्ट संदर्भ में जाता है। यह एक गर्त और एक शीर्ष का चयन करके और फिबोनैकी अनुपात से ऊर्ध्वाधर दूरी को विभाजित करके बनाया गया है। फिबोनैकी रिट्रेसमेंट एक तकनीकी विश्लेषण विधि है जिसका प्रयोग अक्सर समर्थन और प्रतिरोध के स्तर पता लगाने के लिए किया जाता है।

इसे और अधिक स्पष्ट रूप से रखने के लिए, ये रिट्रेसमेंट स्तर वास्तव में क्षैतिज रेखाएं हैं जो आपको संकेत देती हैं कि समर्थन और प्रतिरोध संभवतः कहां हो सकता है।

इससे पहले कि हम फिबोनैकी की शेयरों में भूमिका के बारे में आगे चर्चा करें, आइए कुछ समर्थन और प्रतिरोधों के बारे में विस्तार से समझते हैं। प्रतिरोध स्तर एक बिंदु को संदर्भित करता है जिस पर एक परिसंपत्ति की कीमत आगे नहीं बढ़ेगी। समर्थन स्पेक्ट्रम के दूसरी तरफ निहित है, इसका मतलब है कि यह वह बिंदु है जिस पर स्टॉक की कीमत रुक जाती है और आगे गिरावट नहीं होगी।

अब फिबोनैकी के संदर्भ में इसे समझें। यदि कोई प्रवृत्ति बढ़ रही है, तो रिट्रेसमेंट लाइनें 100 से 0 फीसदी तक गिर जाती हैं। यदि प्रवृत्ति गिर रही है तो रिट्रेसमेंट लाइनों में 0 से 100 प्रतिशत तक की वृद्धि होगी। क्षैतिज रेखाएं 38, 50 और 62 फीसदी जैसे फिबोनैकी स्तरों पर तैयार की जाती हैं। समर्थन और प्रतिरोध स्तर या तो फिबोनैकी रिट्रेसमेंट स्तर पर या इसके करीब होता है।

यह हमें शेयर बाजार में फिबोनैकी के संदर्भ में पुलबैक और इम्पल्स की चर्चा करने पर लाता है।

ये क्या हैं? जो चालें प्रवृत्ति की दिशा में हैं इम्पल्स के रूप में जाना जाती हैं। इसके विपरीत, प्रवृत्ति के खिलाफ जाने वाली चालें तकनीकी विश्लेषण में पुलबैक के रूप में जानी जाती हैं।

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट आमतौर पर एक निश्चित कारोबार में प्रवेश करने पर फैसला करने के लिए उपयोग किया जाता है, जबकि एक्सटेंशन का प्रयोग यह देखने के लिए किया जाता है कि  कब लाभ लेना है या यह देखने के लिए कि पुलबैक पर या रिट्रेसमेंट किए जाने पर मूल्य किस हद तक संचलित हो सकते हैं। रिट्रेसमेंट का उपयोग किसी प्रवृत्ति में पुलबैक को मापने के लिए किया जाता है, जबकि एक्सटेंशन इम्पल्स लहरों को मापते हैं।

क्या इसका मतलब यह है कि फिबोनैकी रिट्रेसमेंट आपको सटीक प्रवेश बिंदु प्रदान करता है? जवाब है, नहीं। आपको एक कारोबार रणनीति की योजना बनाते समय इसे ध्यान में रखना होगा। यह सिर्फ एक अनुमानित क्षेत्र है, सटीक बिंदु नहीं। किसी भी तकनीकी उपकरण की तरह, आप एक एकल उपकरण के रूप में फिबोनैकी कारोबार रणनीति का उपयोग नहीं कर सकते। उसमें अधिक लाभ उठाने के लिए आपको इसका उपयोग अन्य चार्ट पैटर्नों के साथ करने की आवश्यकता होगी।

फिबोनैकी स्टॉक ट्रेडिंग में अपनी अनूठी विशेषताओं की वजह से प्रयोग किया जाता है। यह आपको बाजार में अस्थिरता और इसकी सीमा के बारे में अधिक समझने में मदद करता है ताकि आप बाजार में प्रवेश करने या बाहर निकलने के लिए सही बिंदु पर निर्णय ले सकें। लेकिन फिबोनैकी के परिणाम का आपके द्वारा अपनी चाल की योजना के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले किसी अन्य चार्ट द्वारा की जानी चाहिए।