स्टॉक मार्किट निवेशकों/स्टॉक खरीदने वाले ट्रेडर्स, विकल्प, भावी सौदे या किसी अन्य प्रकार की सुरक्षा खरीदने पर कार्य करते हैं ताकि इससे उच्च मूल्य पर ट्रेड किया जा सके और खरीद और बिक्री के इस अधिनियम के माध्यम से मुनाफा उत्पन्न किया जा सके। जबकि स्टॉक मार्किट के कार्य जटिल प्रक्रियाओं के साथ गंभीर और अधिक विस्तार में जाते हैं, यह अंतिम परिणाम बताता है। ट्रेडर्स अपने शोध, तकनीकी विश्लेषण और विशेषज्ञता के आधार पर किसी दिए गए मूल्य पर एक वस्तु या सुरक्षा खरीदता है, और फिर एक लक्ष्य निर्धारित करता है जिस पर वह अपने धन को गुणा करने के लिए स्टॉक बेचने की उम्मीद करता है।

उसके द्वारा खरीदी गई कीमत  और बेची गई  कीमत के बीच का अंतर, रिटर्न के रूप में जाना जाता है। एक वर्ष में, एक निवेशक के स्टॉक समूह का औसत आपको सालाना या ऐतिहासिक रूप से शेयरों पर औसत रिटर्न दे सकता है, किसी विशेष उद्योग में कारोबार की गई कंपनियों पर अर्जित औसत रिटर्न  आपको उस उद्योग के लिए औसत बाजार रिटर्न दे सकता है। लेकिन, जैसा कि यह पता चला है, स्टॉक बाजार, एक विशाल इकाई के रूप में, भी रिटर्न की एक औसत दर है, तो औसत रिटर्न स्टॉक मार्किटक्या है?

सरल जवाब? कहीं न कहीं 9.2% से 10% के बीच। हालांकि, जैसा कि ज्यादातर चीजें स्टॉक मार्किटसे संबधित है, बस उससे कहीं अधिक है।

औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न

गोल्डमैन शैक्स के आकडों से पता चलता है कि ऐतिहासिक रूप से, पिछले सौ- चालीस वर्षों के दौरान, किसी भी 10 वर्ष की अवधि के लिए रिटर्न की औसत दर लगभग 10% हो गई है। हालांकि, एस और पी इंडेक्स का  11,2% पर थोड़ा बेहतर प्रदर्शन किया गया है। हालांकि, ये आंकड़े अमेरिकी स्टॉक बाजारों पर आधारित हैं। भारतीय स्टॉक मार्किटके लिए आकडें और अधिक आरक्षित है और आसानी से उपलब्ध नहीं है।

आकडें बताते हैं कि 1992 में जब से सेबी द्वारा एनएसई  को शामिल किया गया था, तब से एनएसई के लिए औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न लगभग 17% है।

हालांकि, एक कारण यह है कि सामान्य रूप से औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न पर कोई आधिकारिक संख्या मौजूद नहीं है, इस तथ्य के कारण, कि प्राप्त किये  ये आंकड़े बेहद भ्रामक होते हैं और वास्तविक चित्र के प्रतिरूप नहीं होते हैं। चलो थोड़ा आगे देखो।

रिटर्न की दर वैसी नहीं है जैसी दिखती है।

सीधे शब्द में कहा जाये तो, एक स्टॉक मार्किट के  औसत बाजार रिटर्न की प्रतिष्ठा  औसत  के नियमों पर आधारित है। हालांकि, अगर कोई अधिक बारीकी से निरीक्षण करना चाहता हो, तो कई कारणों से चीजें अधिक सटीकता से दृष्टी में आ जाएंगी।

कोई दो वर्षं एक जैसे नहीं होते हैं।

 विश्व के ‘इतिहास’ में स्टॉक मार्किटके लिए शेयरों पर ‘ऐतिहासिक’ औसत रिटर्न एक संकेत है,कि लोगों को अन्य निष्कर्षों के लिए कैसे गुमराह किया जा सकता है, जैसे शेयरों पर 10 प्रतिशत औसत रिटर्न का मतलब है कि प्रत्येक वर्ष के लिए औसत बाजार रिटर्न लगभग 10% थी। हालांकि, ऐसा बिल्कुल नहीं है। उदाहरण के लिए, वर्ष 1989 के लिए औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न 31.5 था। अगले ही साल रिटर्न का दर  -3.1% था। यह एक स्पष्ट संकेतक है कि औसत 100 से अधिक वर्षों के औसत बाजार रिटर्न का परिणाम है जो 10% आंकड़े पर पहुंचने के लिए बाहर निकल गया है।

औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न बहुत व्यापक है।

इसका मतलब यह है कि औसत स्टॉक मार्किट वापसी, कहते हैं कि इस उदाहरण के लिए 10%, पूरे स्टॉक मार्किटकी रिटर्न की दर का प्रतिनिधित्व करता है। इसका मतलब यह है कि उद्योग ए, बी सी, डी ई, दूसरों के बीच, साथ मिलकर और औसत किया जा रहा है। हालांकि, औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न 10% होने के बावजूद, मतलब यह भी बहुत आसानी से हो सकता है कि, ए उद्योग में 2% रिटर्न है, बी को 3% रिटर्न है और सी को -6%। हालांकि डी और ई का कहना है, कि वे 16% और 28% क्रमशः रिटर्न देते है। इसका मतलब यह होगा कि 10% औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न होने के बावजूद, जब तक आप केवल डी और ई में निवेश नहीं करते हैं, आप नुकसान नही तो कम से कम रिटर्न कमाने के लिए निश्चित निर्णय लेते हैं। जबकि स्टॉक मार्किटमें जोखिम को कम करने विविधीकरण महत्त्वपूर्ण  है, स्टॉक मार्किटके हर पहलू में निवेश करने की क्षमता और इच्छा लगभग किसी भी व्यापारी के पास नही होती  है। इसलिए,  अगर हम औसत स्टॉक मार्किटके रिटर्न को कम वर्षों में कुछ हिस्सों में  अधिक सटीकता  से छांनबीन करते है, तो यह अतिरिक्त बाधा उत्पन्न होती है।

निष्कर्ष

स्टॉक मार्किट के शुरुआत से ही स्टॉक मार्किट रिटर्न के दर पर दिया गया औसत स्टॉक मार्किट रिटर्न एक संकेतक है। हालांकि यह आंकड़ा बाजार के बारे में आशावादी या संदेहजनक  दावों का कारण बन सकता है, लेकिन किसी को ध्यान में रखना चाहिए कि यह एक बहुत व्यापक आंकड़ा है जिसे अपने अकेले पर काम नहीं किया जा सकता है, और इस आंकड़े के आसपास की योजना बनाई गई किसी भी रणनीति को आदर्श रूप से अन्य बाजार अनुसंधानों और विश्लेषणों में शामिल करना चाहिए।