वित्तीय विश्लेषण एक ऐसी तकनीक है जो ऐसे निवेशक, जो दीर्घकालिक निवेश करने की योजना बना रहे हैं, सही कंपनियों की पहचान करने में उपयोग करते हैं । इसमें कंपनी के विभिन्न वित्तीय वक्तव्यों की जांच शामिल है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इसका वित्तीय प्रदर्शन निवेश का समर्थन करने के लिए पर्याप्त है। 

यदि आप इस दृष्टिकोण को अपनाते हैं, तो वित्तीय विश्लेषण करते समय संभवत: आप कंपनी की बैलेंस शीट में सूचीबद्ध एसेट्स की दो मुख्य उपश्रेणियां देखेंगे मूर्त एसेट्स और अमूर्त एसेट्स। यदि आप सोच रहे हैं कि ये उपश्रेणियां क्या दर्शाती हैं और मूर्त और अमूर्त एसेट्स में क्या अंतर है , तो आपको यह सब पता होना चाहिए।

मूर्त एसेट्स क्या हैं

जैसा कि नाम स्वयं ही बताता है, भौतिक रूप वाले एसेट्स को मूर्त एसेट्स के रूप में जाना जाता है। क्योंकि इन एसेट्स को देखा जा सकता है, महसूस किया जा सकता है और छुआ जा सकता है, इसलिए कई लोग इन्हें  ‘हार्ड एसेट्सभी कहते हैं। इसके अतिरिक्त, मूर्त एसेट्स का एक विशिष्ट और निश्चित मौद्रिक मूल्य भी उनके साथ जुड़ा होता है। 

उदाहरण के लिए, विनिर्माण उपकरण, संयंत्र और मशीनरी, भूमि, भवन, वाहन और ऐसी ही कई और चीज़ें  मूर्त एसेट्स के उदाहरण हैं। आम तौर पर, ये एसेट्स सीधे कंपनी के सामान और सेवाओं के उत्पादन में शामिल होती हैं। लेकिन इनमे कंप्यूटर और प्रिंटर जैसे अन्य परिधीय कंप्यूटर सहायक उपकरण भी शामिल हो सकते हैं जो सीधे उत्पादन में शामिल हो भी सकते हैं या नहीं भी हो सकते। 

अमूर्त एसेट्स क्या हैं?

जिन एसेट्स का कोई भी भौतिक रूप नहीं है , उन्हें अमूर्त एसेट्स के रूप में जाना जाता है। ये एसेट्स केवल कागज पर मौजूद होती हैं और इन्हें  देखा, महसूस किया या छुआ नहीं जा सकता है। हालांकि, इनके साथ भी एक अलग मौद्रिक मूल्य जुड़ा होता है , पर मूर्त एसेट्स के विपरीत, अमूर्त एसेट्स का मौद्रिक मूल्य आसानी से निर्धारित या मापा नहीं जा सकता है, क्योंकि उनका मूल्य निश्चित या विशिष्ट नहीं होता है। 

उदाहरण के लिए, किसी कंपनी की ख्याति, ट्रेडमार्क, पेटेंट, ब्रांड का नाम, लोगो, इत्यादि अमूर्त एसेट्स के कुछ उदाहरण हैं। यद्यपि यह परिसंपत्तियां कंपनी के सामान और सेवाओं के उत्पादन में सीधे शामिल नहीं हैं, फिर भी वह कंपनी के रेवेन्यु का स्रोत हैं। 

मूर्त और अमूर्त एसेट्स  के बीच महत्वपूर्ण अंतर क्या हैं?

अब जब आप जानते हैं कि एसेट्स की यह दो श्रेणियां क्या हैं, तो उन्हें बेहतर ढंग से समझने के लिए मूर्त और अमूर्त एसेट्स के अंतरों पर एक  नज़र डालतें हैं।

प्रारूप 

जैसा कि आप जान चुके हैं कि, मूर्त और अमूर्त एसेट में पहला अंतर उनके प्रारूप में निहित है। मूर्त एसेट्स का भौतिक रूप होता है, जबकि अमूर्त एसेट केवल कागज पर मौजूद होती है और इसमें कोई भौतिक गुण नहीं होता है। 

मूल्य

मूर्त एसेट्स के साथ उनका एक निश्चित मौद्रिक मूल्य जुड़ा होता है। पर अमूर्त एसेट के साथ ऐसा कोई परिमित मूल्य नहीं होता है। उदाहरण के लिए, एक मूर्त रुपी एसेट जैसे की किसी वाहन का एक सीमित मौद्रिक मूल्य है। लेकिन पेटेंट या ट्रेडमार्क जैसी अमूर्त एसेट का कोई निश्चित मूल्य नहीं है। 

मूल्य का निर्धारण

ऊपर कही गयी बात को आगे बढ़ाते हुए , किसी मूर्त एसेट के मूल्य का निर्धारण करना काफी आसान है। उदाहरण के लिए, मोबाइल फोन की तरह की किसी भी मूर्त संपत्ति के मूल्य को निर्धारित करने के लिए, आपको सिर्फ एक उसी के जैसे मोबाइल फोन की लागत का पता लगाना है। हालांकि, पेटेंट या ट्रेडमार्क जैसी अमूर्त एसेट के मूल्य का निर्धारण करना काफी कठिन है क्योंकि समान अमूर्त एसेट हमेशा बाजार में उपलब्ध नहीं हो सकती है। 

जीवन अवधि 

अधिकांश मूर्त एसेट्स का आमतौर पर एक निश्चित जीवनकाल होता है, जिसके आगे वह काम करना बंद कर सकते हैं या यहां तक कि उनका अस्तित्व भी समाप्त हो सकता है। उदाहरण के लिए, लैपटॉप या कंप्यूटर जैसे उपकरण जैसी मूर्त एसेट्स केवल एक निर्धारित समय तक ही काम कर सकती हैं। इसी तरह, विनिर्माण कंपनियों में कच्चा माल और सामान, माल का उत्पादन करने के लिए विनिर्माण प्रक्रिया में उपयोग किए जाने के बाद अस्तित्व में नहीं रहती है। अमूर्त एसेट्स के साथ, हालांकि, उनकी कोई जीवन अवधि नहीं जुड़ी होती है। क्योंकि वह केवल कागज पर ही मौजूद होते हैं, इसलिए वे लगभग अनिश्चित काल का आनंद लेते हैं और समाप्त नहीं होते हैं। 

विमूल्यन

मूर्त और अमूर्त एसेट्स में एक मामूली सा अंतर और है, वह तरीका जिससे कंपनियां उन्हें गिनती हैं। मूर्त एसेट्स घिस जाती हैं, जबकि अमूर्त एसेट्स को समय के साथ एमोरटाईज़ कर दिया जाता है। विमूल्यन, मूर्त एसेट्स में समय के साथ होने वाले नुकसान के लेखांकन का तरीका है। अमूर्त एसेट के मूल्य को किसी समय की अवधि में फैला दिए जाने का तरीका एमोरटाईज़ेशन है। 

परिसमापन

क्योंकि एक मूर्त एसेट का मूल्य आसानी से निर्धारित किया जा सकता है, इसलिए ऐसे एसेट के बदले पैसा प्राप्त करना बेहद आसान है। लेकिन अमूर्त एसेट्स के बदले पैसे प्राप्त कर पाना बहुत कठिन हैं क्योंकि, उनके मूल्य को निर्धारित करने के लिए डेटा की उपलब्धता की प्रक्रिया आसान नहीं है। इसके अतिरिक्त, सभी अमूर्त एसेट्स किसी अन्य कंपनी के लिए उपयोगी भी नहीं हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, ख्याति या ग्राहक की वफादारी के बारे में सोचें। यह परिसमापन को और मुश्किल बनाता है। 

निष्कर्ष

अब जब आप मूर्त और अमूर्त एसेट्स के बीच के अंतरों से अवगत हैं, तो एक और महत्वपूर्ण बात भी है जिसपर आपको ध्यान देना चाहिए। अपनी बैलेंस शीट में, कंपनियां आम तौर पर इन दो श्रेणियों के एसेट्स कोकरंटऔरनॉन-करंटएसेट्स में उपवर्गीकृत करती हैं, जो कि इस पर निर्भर करता है कि एसेट का व्यवसाय पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ता है या अल्पकालिक। इस सारी जानकारी के साथ, आपके लिए किसी कंपनी की वित्तीय जानकारी को समझना आसान हो जायेगा।