50 दिन – मूविंग एवरेज (एमए) मूल्य परिवर्तन में सबसे अधिक उपययोग में आने वाले प्रचलित तकनीकी संकेतकों में से एक है। व्यापारी सामान्यत: इसका उपयोग स्टॉक के समर्थन और प्रतिरोध स्तर बनाए रखने के लिए करते है। स्थिति-सम्बद्ध और प्रभावी सूचक होने की वजह से यह काफी लोकप्रिय है। 

बीएसई सेंसेक्स के लिए सामान्य 50-दिन मूविंग एवरेज  चार्ट प्रस्तुत है

यह एक सरल एवरेज है, जिससे दैनिक मूल्य परिवर्तन के बिना मूल्य परिवर्तन की जांच की जाती है, जैसा कि ऊपर चार्ट में बैंगनी रेखा से दिखाया गया है। यह पिछले 50 कारोबारी दिनों या दस सप्ताह के भीतर शेयरों के समापन मूल्यों का औसत होता है। जब इसे शेयर मूल्य चार्ट पर दर्शाया जाता है, तो आप देख सकते हैं कि इसमें मूल्य परिवर्तन की दिशा को दर्शाती एक सरल रेखा बन जाती है। यदि यह ऊपर की ओर होती है, तो आप कीमतों में वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं और यदि यह नीचे की ओर जाती है, तो कीमतों में गिरावट आई है।

50-दिन मूविंग एवरेज की गणना

आप केवल पिछले दस हफ्तों (दिन 1+दिन 2+दिन 3… दिन N) के समापन मूल्य को जोड़कर, उसे कुल दिनों की संख्या अर्थात् 50 से विभाजित कर 50 से अधिक दिनों की मूविंग एवेरज की गणना कर सकते हैं । यही कारण है कि सरल मूविंग एवेरज लोकप्रिय हैं। लम्बी अवधि के भीतर मूल्य में बदलाव जानने के लिए, आपको बस अधिक संख्या में दिन या अवधि और समापन मूल्य जोड़ना होगा। 200 दिन की मूविंग एवेरज की गणना करने के लिए, आपको 200 दिनों के समापन मूल्य की आवश्यकता होती है, उन्हें जोड़ें और उन्हें 200 से विभाजित कर दें ।

महत्ता

मूविंग एवेरज, मूल्य बाज़ार का सबसे सरल, प्रभावी और बेहतर संकेतक है। यह लोकप्रिय और अल्पकालीन मूल्य परिवर्तन में परिवर्तन लाने के लिए चुनौतीपूर्ण है। दीर्घकालीन मूविंग एवेरज के साथ होकर, यह अधिक बेहतर बाजार संकेत प्रदान करंता है।

लोकप्रिय समर्थन और प्रतिरोध स्तर

व्यापारी समर्थन और प्रतिरोध के लिए इस मूविंग एवेरज को उपयोगी और प्रभावी मानते हैं। हालांकि यह मूल्य परिवर्तन का पुराना लेखाजोखा प्रस्तुत करता है, साथ ही यह पिछले दस हफ्तों में निवेशकों द्वारा संपत्ति खरीदने या बेचने के मूल्य को भी दर्शाता है । यह मूल्य परिवर्तन की सीमा और प्रवृत्ति को भी दर्शाता है।

दूसरा, 50 दिन के दौरान प्रस्तुत समर्थन और प्रतिरोध बिंदु अक्सर दैनिक व्यापार से संबंधित होते हैं। इन बिंदुओं का आसानी से उल्लंघन नहीं किया जाता है, तथा कीमतें सामान्यत: या तो समर्थन स्तर से ऊपर जाती है या प्रतिरोध स्तर से नीचे रहती है। इसप्रकार यह कम नुकसान की सम्भावना के साथ व्यापारियों को प्रवेश और निकास का एक बेहतर अवसर प्रदान करता है।

50-दिन मूविंग एवरेज – समर्थन के रूप में

निवेशक इस मूविंग एवरेज को समर्थन स्तर के रूप में उपयोग में लाते हैं, जहां कीमतें मांग क्षेत्र में होने पर वे स्टॉक खरीदते हैं। मांग क्षेत्र में कीमतें समर्थन स्तर से नीचे होती हैं। जैसे-जैसे अधिक खरीददार इस बिंदु पर पहुँचते हैं, कीमतें बढ़ती हैं और 50 दिन मूविंग एवरेज से ऊपर बढ़ती चली जाती हैं। 50 दिनों से अधिक यह मूविंग एवरेज स्थिति-संबद्ध समर्थन स्तर प्रदान करता है।

50-दिन मूविंग एवरेज – प्रतिरोध के रूप में

जब कीमतें आपूर्ति क्षेत्र के प्रवेश बिंदु पर या पर्याप्त खरीद या 50 से अधिक दिनों की मूविंग एवरेज के भीतर गिरने लगती हैं, तो व्यापारी कम कीमत पर ही स्टॉप आर्डर दे देता है । आपूर्ति क्षेत्र की अधिकतम सीमा मूविंग एवरेज के बराबर होती है। यह प्रतिरोध स्तर से निकलने के लिए पर्याप्त शेयर खरीदता है, जो सामान्यत: स्टॉक व्यापार में चल रहे अधिकतम मूल्य के बराबर 50 दिन के मूविंग एवरेज में किये गए व्यापार के लिए प्रतिरोध का एक विश्वसनीय स्तर बनाता है I 

स्टॉक स्थिति संकेतक

यह मूविंग एवरेज स्टॉक की स्थिति के बारे में भी जानकारी देता है। उदाहरण के लिए, जब शेयर की कीमत यू के आकार में दिखती है, मूविंग एवरेज के ऊपर और समयबद्ध होती है, यह इंगित करता है कि  स्टॉक की स्थिति सुदृढ़ है और खरीद क्षमता भी बेहतर है। जब मूल्य में शीघ्रता से वृद्धि होने लगती है, तब कीमते 50 दिन के मूविंग एवरेज से  ऊपर की ओर होंगी। जब कीमतें औसत से नीचे  की ओर जाती है, तो यह मंदी का संकेत है।

कम जोखिम

इसतरह एक साधारण मूविंग एवरेज को मूल्य सिद्धांत का उपयोग करने की वजह से प्रवेश और निकास बिंदु के लिए विश्वसनीय माना जाता है । एक बेहतर मूविंग एवरेज वह स्तर को दर्शाता है जहां कीमतों में अकस्मात बदलाव नहीं होते। 50 दिन के मूविंग एवरेज की कीमतों में अपनी सीमा और अवधि के कारण आसानी से गिरावट नहीं आती है। तो यह संभावना नहीं है कि छोटी-मोटी विसंगतियां, गलत बाजार संकेतों को नज़रअंदाज करके, प्रतिरोध या समर्थन के स्तर का पार करेगी ।

ट्रेडिंग कार्यनीति

50 दिन मूविंग एवरेज कार्यनीति बिलकुल साधारण है। यदि कीमतें समर्थन के रूप में मूविंग एवरेज तक जाती हैं और फिर वापस सामान्य हो जाती है, तो आप स्टॉक खरीद सकते हैं या दीर्घकालीन व्यापार कर सकते हैं। यदि कीमतें प्रतिरोध के रूप में मूविंग एवरेज तक जाती हैं और फिर वापस सामान्य हो जाती है, तो आप गिरावट से पहले स्टॉक को बेचने या कम करने पर विचार कर सकते हैं। इसका कारण यह है कि कीमतों को वापस 50 दिनों की मूविंग एवरेज से ऊपर जाने के लिए काफी ज्यादा खरीद ब्याज लग सकता है।

ब्रेकआउट होने पर, 50 दिन के मूविंग एवरेज से कीमते गिरने आप एक व्यापार में प्रवेश कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, अगर अपट्रेंड  है तो आप ब्रेकआउट स्तर पर स्टॉक खरीद सकते हैं और कीमतों बढ़ने पर इसे कम कर सकते हैं। आमतौर पर, कीमत का ब्रेकआउट से दूसरी दिशा में जाने के लिए समय लगता है। आप हमेशा संभावित नुकसान को कम करने के लिए विपरीत दिशा में अंतिम विक्रय मूल्य निर्धारित कर सकते हैं। यह अंतिम विक्रय मूल्य उपयोगी है, अगर कुछ अप्रत्याशित कारणों जैसे सरकारी आंकड़े या कंपनी की वित्तीय जानकारी जारी होने से कीमतों में  कमी आती है ।

आपको कब तक यह व्यापार करना चाहिए? एक साधारण नियम व्यापारियों का सुझाव है कि 50 दिन के मूविंग एवरेज में आपके व्यापार के विपरीत दिशा में कीमतों में गिरावट आने तक ही व्यापार करना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप लंबे समय तक व्यापार करते हैं, तो इसमें कीमतों में बदलाव तथा ऊपर की ओर बढ़ने तक बने रहे I  

मूविंग एवरेज क्रॉसओवर कार्यनीति 

संकेतकों में अधिक कारीगर बनाए रखने के लिए, व्यापारी  स्टॉक विशेष के वृद्धि हैं या नहीं के बारे में जानने के लिए 50 दिन के मूविंग एवरेज के साथ 200 दिन के मूविंग एवरेज का भी उपयोग करते हैं । जब एक शेयर की अल्पकालिक मूविंग एवरेज से दीर्घकालिक मूविंग एवरेज जैसे 200 दिन के मूविंग एवरेज को पार कर जाता है,तो इसे शेयरों में गोल्डन क्रॉस कहा जाता है। यह कीमतों में तीव्र वृद्धि का  सटीक संकेत है। इसका मतलब है कि दीर्घकालिक मूविंग एवरेज की तुलना में अल्पकालिक मूविंग एवरेज अधिक तेजी से बढ़ रहा है। यह दर्शाता है कि कीमतों में वृद्धि के लिए  स्टॉक दीर्घकालिक मूविंग एवरेज के समर्थन स्तर को पार कर रहे हैं।