30 दिन का गतिमान औसत (MA) एक अल्पावधि तकनीकी संकेतक है कि स्टॉक की कीमतें कैसे बढ़ रही हैं। यह बस पिछले 30 दिनों में समापन कीमतों का औसत है। 30 दिवसीय एमए के जैसा एक साधारण गतिमान औसत अल्पावधि कारोबारियों के लिए अल्पकाल में कीमतों की दिशा को गेज करने करना आसान बनाता है, क्योंकि यह वास्तविक मूल्य संचलन के बहुत करीब रहता है।

बीएसई सेंसेक्स के 30 दिन गतिमान औसत का प्रतिनिधित्व

30 दिवसीय एमए का प्रतिनिधित्व करने वाली बैंगनी रेखा से पता चलता है कि शेयर की कीमतें पिछले महीने में, नीचे की प्रवृत्ति से प्रांरभ करने से पहले असमान रूप से बढ़ते हुए, कैसे गईं।

महत्व

30 दिनों का गतिमान औसत बहुत ही कम समय में मूल्य की प्रवृत्ति को देखने के लिए एक बेहतरीन संकेतक है। यह अस्थिरता को दर्शाते हुएशेयरों की दैनिक कीमतों की अस्तव्यस्तता को साफ करता है। कीमतें अल्पकाल में अस्थिर हो जाते हैं, यही कारण है कि अल्पकाल गतिमान औसत दीर्घकालीन गतिमान औसत के समान सहज नहीं हो सकता है।

वर्तमान मूल्य कार्रवाई के करीब

30-दिन गतिमान औसत शेयर की कीमतें आपको निकट भविष्य में बाजार के रुझानों के सबसे नज़दीक लाती हैं।

कोई बड़ा अंतराल प्रभाव नहीं है

अल्पकालीन और दीर्घकालिक गतिमान औसत के बीच यह एक महत्वपूर्ण अंतर है। दीर्घकालिक गतिमान औसत वर्तमान में गतिशील मूल्य कार्रवाई की तुलना में अधिक काफी अंतराल प्रभाव के साथ आते हैं, क्योंकि वे अधिक विस्तारित अवधि में ऐतिहासिक कीमतों को ध्यान में रखते हैं। लेकिन वे लंबी अवधि के निवेशकों के लिए एक अनिवार्य उद्देश्य प्रदान करते हैं जो इसमें धन निर्माण के लिए हैं न कि दिनप्रतिदिन व्यापार के लिए।

गणना करने में आसान

30-दिवसीय एमए जैसे सरल गतिमान औसत की गणना स्पष्ट रूप से की जा सकती है, और ये अनुकूलन योग्य भी हैं। आपको बस इतना करना है कि, किसी दिए गए स्टॉक या सूचकांक की समापन कीमतों को दिनों की संख्या (दिन 1+दिन 2+दिन 3… दिन n) के लिए जोड़ें, जिसके लिए आप गतिमान औसत की गणना करना चाहते हैं, और इसे दिनों की संख्या ‘n’ से विभाजित करते हैं , जिसे अवधि संख्या भी कहा जाता है।

खरीदें/बेचने के निर्णयों के लिए प्रयुक्त

खरीदने और बेचने के निर्णय लेने के लिए बहुत सारे अल्पावधि कारोबारी सभी दिनों की कीमतों की मैन्युअल रूप से निगरानी करने के बजाय अल्पावधि गतिमान औसत पर भरोसा करते हैं। कीमत क्रॉसओवर रणनीतियों में, जब कीमत गतिमान औसत से ऊपर होती है, कारोबारी खरीदने की या लंबे समय तक जाने के लिए अथवा खरीदने की तलाश करते हैं । जब कीमत गतिमान औसत से नीचे होता है वे बेचते हैं या स्टॉक को शार्ट करते हैं। कभी-कभी अधिक लाभदायक निर्णयों पर पहुंचने के लिए इस रणनीति को वॉल्यूम सिद्धांत के साथ समर्थित किया जाता है। उस में, जब मूल्य एमवी से ऊपर चले जाते हैं और साथ ही ट्रेडिंग वाल्यूम के स्थूलन से समर्थित होते हैं, तो व्यापारियों को केवल लंबे समय के लिए जाना होगा ।आप 30 दिवसीय गतिमान औसत स्टॉक भी प्राप्त कर सकते हैं, ये वे स्टॉक हैं जिन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है और 30 दिवसीय गतिमान औसत को पीछे छोड़ा है।

निष्कर्ष:

30 दिवसीय एमए की तरह एक सामान्य गतिमान औसत शेयर की कीमतों में गतिशील उतार चढ़ाव के प्रभाव को दूर करने में मदद करता है, जिसे मूल्य कार्रवाई के ‘शोर’ के रूप में भी जाना जाता है। गतिमान औसत प्रवृत्तियों के संकेतक हैं। ऊपर की ओर की एक प्रवृत्ति कीमतों में एक संभावित वृद्धि को इंगित करती है, और एक नीचे की ओर दिखती ढलान मूल्य गिरावट दिखा सकती है। ढलान का झुकाव इंगित कर सकता है कि कीमतों आधार पर हैं या शीर्ष पर।