शेयर बाजार कारोबारी के रूप में, आपको अक्सर आश्चर्य होता होगा: इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें? खैर, इंट्राडे ट्रेडिंग में वित्तीय लाभ प्राप्त करने के लिए शेयरों को उसी दिन खरीदना और बेचना शामिल है। वितरण तिथियां, डीमैट आदि जैसे कारकों पर विचार करने के बजाय, आपको बस दिन के ट्रेडिंग सत्र के अंत से पहले अपनी ओपन स्थिति को स्क्वायर ऑफ करने की आवश्यकता होती है। लेकिन, इंट्राडे ट्रेडिंग उतनी आसान नहीं है जितनी लगती है। अच्छे रिटर्न प्राप्त करने के लिए आपको कई कारकों पर विचार करना होगा। प्रमुख नियम के रूप में, आपको यह समझना चाहिए कि शेयर बाजारों में इंट्राडे ट्रेडिंग नियमित निवेश की तुलना में अधिक बाजार अस्थिरता के अधीन है। इसके अलावा, आपको अपनी ट्रेडिंग यात्रा शुरू करने से पहले अपने जोखिम की भूख का उचित आकलन करना होगा।

यहां सफल इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए पांच रणनीतियों की एक सूची दी गई है।

1. इंट्राडे ट्रेडिंग की बुनियादी तकनीकों को समझें:

यहाँ पर इंट्राडे व्यापार के लिए बुनियादी तकनीकों की एक सूची दी गई है:

अपने शोध करें: किसी विशेष कंपनी के शेयरों को खरीदने से पहले, कंपनी की ताकत और कमजोरी को दिखाने वाले संकेतों के बारे में जानने के लिए महत्वपूर्ण मानकों का अनुमान लगाने के लिए व्यापक शोध करें।

जोखिम-प्रबंधन और जोखिम-लाभ अनुपात: नए निवेशक के रूप में, आपको हमेशा केवल उस राशि का निवेश करना चाहिए जिसे खोना सहन करने की आप क्षमता रखते हैं। निवेश करने के लिए बुनियादी इंट्राडे व्यापार रणनीतियों में से एक ऐसे स्टॉक में निवेश करना है जिसमें 3:1 का एक जोखिम लाभ-अनुपात है।इससे आपको उस राशि को खोने की अनुमति मिलेगी जिससे आपको परेशानी नहीं होगी, साथ ही साथ ही यह अच्छा रिटर्न प्राप्त करने का अवसर प्रदान करेगा।जोखिम प्रबंधन की एक और तकनीक अपनी पूरी ट्रेडिंग पूंजी के 2% से अधिक को एक ही कारोबार में निवेश करने से बचना है।

लिक्विड शेयरों का चयन करें: आप कई स्मॉल और मिड-कैप शेयरों में निवेश करने के बजाय, कुछ लार्ज-कैप शेयरों का चयन कर सकते हैं। इन शेयरों में लिक्विडिटी की समस्या नहीं होती है, क्योंकि इनकी ट्रेडिंग काफी अधिक मात्रा में की जाती है। इसके विपरीत, कम मात्रा में ट्रेड किए जाने के कारण स्माल या मिड-कैप स्टॉक आपको उन्हें होल्ड करने के लिए मजबूर कर सकते हैं।

बाजार का समय निश्चित करें: जब आप स्टॉक खरीद लेते हैं, बाजार विशेषज्ञ व्यापार सत्र के पहले घंटे ट्रेंडिंग से बचने की सलाह देते हैं।आप दोपहर के प्रारंभिक समय में आप ओपनिंग पोजीशन ले सकते हैं और ओपनिंग और समापन घंटों के बीच मूल्यों के संचलन को संतुलित करने के लिए 1 बजे तक अपनी स्थिति को स्क्वायर ऑफ कर सकते हैं।

भावनाओं से बचें और रिटर्न और जोखिमों को पूर्व-निर्धारित करें: इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अपना प्रवेश स्तर और लक्ष्य मूल्य पहले ही निर्धारित कर लेना एक और बुनियादी तकनीक है। चाहे जो भी हो,आपको प्रभाव और भावनाओं में आकर निर्णय लेने से बचना चाहिए।जब आप लक्ष्य मूल्य तक पहुंच जाते हैं, तो तुरंत अपनी स्थिति को स्क्वायर ऑफ करें। भावनाओं से पूरी तरह से बचने के लिए, आप आपने ट्रेड पर पहले ही स्टॉप-लॉस स्तर असाइन कर सकते हैं। इससे,यदि स्टॉक की कीमतें पूर्व-निर्धारित स्तर से नीचे आने पर आप अपने लेनदेन को स्वतः ही बंद करने में सक्षम हो पाएंगे। इसके बाद आप कम से कम नुकसान उठाने के साथ एक नई योजना के साथ नए सिरे शुरुआत कर सकते हैं।

2. इंट्राडे ट्रेडिंग समय विश्लेषण का प्रयोग करें:

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों की सूची में दूसरा स्थान है दैनिक चार्ट का विश्लेषण ध्यान से करना। दैनिक चार्ट एक दिन के ट्रेडिंग सत्र के दौरान ओपनिंग और समापन घंटे के बीच मूल्य संचलन को उदाहरण देकर स्पष्ट करते हैं। आप दैनिक चार्ट के माध्यम से अल्पकालिक और मध्यम अवधि के बीच कीमत में उतार-चढ़ाव का विश्लेषण कर सकते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए, आप बहुत प्रकार के चार्टों का अध्ययन कर सकते हैं जैसे 15-मिनट का चार्ट, पांच-मिनट का चार्ट, दो-मिनट का चार्ट, और टिक-टैक चार्ट (प्रत्येक निष्पादित ट्रैड का प्रतिनिधित्व करने वाला रेखा चार्ट)।

3. मजबूत इंट्राडे व्यापार रणनीतियों का पालन करें:

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों की सूची में तीसरा विश्वसनीय रणनीतियों का पालन करना है। आप नीचे दी गई तकनीकों का पालन कर सकते हैं:

प्रतिरोध और समर्थन को मैप करने के लिए ओपनिंग रेंज ब्रेकआउट (ओआरबी) का उपयोग करना: ओपनिंग रेंज एक दिन के ट्रेडिंग सत्र के प्रारंभ पर स्टॉक की कीमतों में उतार-चढ़ाव होता है –यह उच्च हो सकता है या निम्न। ओआरबी की अवधि 30 मिनट से 3 घंटे तक हो सकती है। प्रतिरोध के रूप में,उच्चतम बिंदु की पहचान करने के बाद और निम्नतम बिंदु को सपोर्ट मानकर, आप विभिन्न स्थितियां ले सकते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ओआरबी का उपयोग करते समय, आपको याद रखना चाहिए कि जब एक स्टॉक ब्रेकिंग रेंज से ऊपर की ओर बढ़ता है, तो कीमतों के बुलिश रहने की संभावना है। इसके विपरीत, एक नीचे की ओर जाने की प्रवृत्ति बियरिश मूल्य का संकेत कर सकते हैं। अन्य बाजार संकेतकों के साथ ताल में इस इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग कर सकते हैं।

मांग-आपूर्ति असंतुलन के लिए देखिए: इस इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति का प्रयोग, आपूर्ति और मांग के बीच काफी असंतुलन के साथ, स्टॉक की पहचान करने के लिए किया जाता है, और इनका प्रयोग प्रवेश बिंदु के रूप में किया जाता है। ऐतिहासिक मूल्य उतार-चढ़ाव का आकलन करने के बाद, आप मूल्य चार्ट पर इन बिंदुओं की पहचान कर सकते हैं।

औसत दिशात्मक सूचकांक (ADX) के साथ सापेक्ष शक्ति सूचकांक (RSI) का उपयोग करें: जबकि RSI एक अधिक खरीदे गए(over-purchased) और अधिक बेचे गए(over-sold) स्टॉक्स के तकनीकी संकेतक है, एएसआई कारोबारियों को खरीदने और बेचने के फैसले में सहायता करने वाला प्रवृत्ति संकेतक है। दोनों का संयोजन आपको सूचित इंट्राडे ट्रेडिंग निर्णय लेने में मदद कर सकता है।

4. निवेश और ट्रेडिंग के बीच अंतर को समझें:

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों की सूची में चौथा स्थान शेयर बाजारों और इंट्राडे ट्रेडिंग में निवेश के बीच अंतर को समझने का है। ट्रेडिंग और निवेश दोनों को विभिन्न रणनीतियों की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, एक समझदार ट्रेडर के रूप में, आपको सभी खुली स्थितियों को उसी दिन क्लोज करना होगा, बिना इस बात की परवाह किए कि लक्ष्य मूल्य पर पहुंचा जा रहा है या नहीं। लेकिन स्टॉकों में निवेश के लिए लंबी अवधि के दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है, और विवेकपूर्ण निवेशक शायद ही कभी अल्पकालिक बाजार में अस्थिरता से प्रभावित होते हैं। शेयरों में निवेश के लिए एक और अधिक मौलिक दृष्टिकोण की आवश्यकता है, जबकि इंट्राडे ट्रेडिंग और अधिक तकनीकि है।

5. याद रखें कि बाजार अप्रत्याशित है:

इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों की सूची में याद रखने वाली अंतिम बात है इंट्राडे ट्रेडिंग में जोखिम का एक उच्च उपाय शामिल है। यहां तक कि अगर आप अत्याधुनिक उपकरणों के साथ एक अनुभवी व्यापारी हैं, तो भी मूल्यों में उतार-चढ़ाव की भविष्यवाणी पूर्ण निश्चितता के साथ नहीं कर सकते हैं। कई बार, तकनीकी संकेतकों के बाजार के बुलिश होने की भविष्यवाणी करने के बावजूद, कीमतों में गिरावट हो सकती है। यदि बाजार बाजार आपकी उम्मीदों के खिलाफ चलता है, तो तुरंत अपनी स्थिति से बाहर निकलना याद रखें।

निष्कर्ष:

अब जब आप जानते हैं कि इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें, इन इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों का पालन करें, और अपने रिटर्न को अधिकतम करें। अपने इंट्राडे ट्रेडिंग खाते को खोलने के लिए आपको हमेशा एक विश्वसनीय वित्तीय भागीदार पर भरोसा करना याद रखना चाहिए। व्यापक तकनीकी विश्लेषण, अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी, और व्यावहारिक अनुसंधान रिपोर्ट जैसे कई लाभों का लाभ उठाने के लिए आप एंजेल ब्रोकिंग का चयन कर सकते हैं। इससे भी अधिक, आप कम ब्रोकरेज फीस का लाभ उठा सकते हैं।