प्रत्येक वित्तीय बाजार में कई प्रकार के व्यापारी होते हैं, सबके अपने खुद के व्यापारिक उद्देश्य, रणनीतियां और वित्तीय लक्ष्य हैं।। नतीजतन, सबके द्वारा की गई कमाई एक व्यापारी से दूसरे तक बहुत ज्यादा अलग होती है।

इसलिए, सैलरी की आय पर निर्भर व्यक्तियों के टैक्सेशन सीधा और सरल हो सकता है, टैक्सेशन ट्रेड आय पर कर कुछ और अधिक जटिल हो सकता है। चूंकि ट्रेड के माध्यम से उत्पन्न आय परिवर्तनशील  हो सकती है, इसलिए टैक्सेशन कानून संभवतः सभी व्यापारियों के लिए समान रूप से लागू नहीं कर सकते हैं।

यदि आप ट्रेड  की दुनिया में नए हैं, व्यापारियों के लिए टैक्सेशन कुछ हद तक चुनौतीपूर्ण लग सकता है। हालांकि, यदि आप आगामी कर सत्र के दौरान निम्नलिखित बिंदुओं को ध्यान में रखते हैं, तो आपको प्रक्रिया आपकी सोंच से ज्यादा सरल लगेगी।

व्यापारियों के लिए टैक्सेशन के प्रकार

विचार करने का पहला बिंदु यह है कि ट्रेड भारत में  व्यापारियों के लिए टैक्सेशन को व्यापारिक क्रिया के प्रकार साथ ही ट्रेड  से उत्पन्न आय के आधार पर चार प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है। नीचे व्यापारियों के लिए इन प्रकारों के टैक्सेशन साथ ही उनके फ़ीचर, लाभ और उदाहरण दिए गए टैक्सेशन हैं।

दीर्घ-कालिकपूंजीगत लाभ

दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ सरकार द्वारा सम्पत्ति पर लगाया गया लेवी है, जैसे निवेश, किसी व्यक्ति द्वारा लम्बी अवधि के लिए रखा जाता है। भारत में, यदि कोई निवेश एक वर्ष या उससे अधिक समय तक रखा जाता है, तो उससे खरीद या बिक्री लाभ दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ करों के अधीन होगा।

इक्विटी निवेश के मामले में, दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर आम तौर पर आयकर अधिनियम की धारा 10 के तहत व्यापारिक टैक्सेशन से छूट दी जाती है। हालांकि, यह केवल तभी लागू होता है जब कुछ शर्तों का पालन किया जाता है। इनमें एक मान्यता प्राप्त एक्सचेंजके माध्यम से लेनदेन करना और देश के भीतर अपनी इक्विटी बेचना शामिल हैं।

नोट: यदि आपके इक्विटी निवेश से दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ वित्तीय वर्ष में 1 लाख रुपये की सीमा को पार करते हैं, तो लागू कर 10% पर लगाया जाएगा। चूंकि अल्पकालिक व्यापारियों को आम तौर पर अपने निवेश के साथ दीर्घ-कालिक स्थिति नहीं रखते है, इसलिए इस श्रेणी के तहत कर लगाने की संभावना नहीं है।

अल्प-कालिक पूंजीगत लाभ

अल्प-कालिक पूंजीगत लाभ दीर्घ-कालिक पूंजीगत लाभ के समान हैं के समान हैं, सिवाय इसके कि उनकी होल्डिंग अवधि कम है। भारत में एक व्यापारी के रूप में, आपको मालूम होनाचाहिए कि एक दिन से अधिक लेकिन एक वर्ष से भी कम समय तक के लिए निवेश किया गया है तो लघु अवधि के पूंजीगत लाभ कर के अधीन आता है। इक्विटी के माध्यम से ट्रेड आय पर कर के संदर्भ में, एक वर्ष के भीतर एक शेयर बेचकर उत्पन्न किसी भी प्रकार का लाभ 15% के ट्रेड  टैक्सेशन के अधीन हैं।

आपके पास अल्पावधि ट्रेडिंग आय के अलावा अन्य आय स्रोत हो सकता है, और यह 10%, 20% आदि के नियमित कर स्लैब के अंतर्गत सकता है, फिर भी, आपका अल्पावधि पूंजीगत लाभ फिर भी मानक 15% पर लगाया जाएगा, जब तक कि आपकी कुल कर योग्य आय 2.5 लाख रुपये से कम हो (कोई कर लागू नहीं) उस स्थिति में, इस कमी को आपके अल्पावधि पूंजीगत लाभ के साथ समायोजित किया जा सकता है और जिसके परिणामस्वरूप राशि 15% पर लगाया जाएगा।

सट्टा बिज़नेस इनकमट्रेड 

अब, हम व्यापारियों, विशेष रूप से इंट्राडे व्यापारियों के लिए विशेष टैक्सेशन पर चलते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से उत्पन्न कोई भी आय ट्रेड टैक्सेशन में सट्टा बिज़नेस इनकमट्रेड  के रूप में मान्यता प्राप्त है। इसे ट्रेड  के माध्यम से उत्पन्न आय के रूप में परिभाषित किया जाता है, जिसमे प्रतिभूतियां उसी दिन खरीदी और बेंची जाती हैं, बिना इसकी डिलीवरी के आशा के। जबकि पूंजीगत लाभ कर, जैसे कि पहले उल्लेख किए गए विशेष प्रतिशत पर कर लगाया जाता है, सट्टा बिज़नेस इनकम के लिए ऐसी कोई दरें नहीं हैं। इसके बजाय, आयकर अधिनियम की धारा 43 के अनुसार आपकी सट्टा बिज़नेस इनकम पर कर आपकी अन्य आय के साथ लगाया जाता है।

इसका मतलब यह है कि यदि आपकी आय भी सैलरी से आती है,तो आपकी सट्टा बिज़नेस इनकम जैसे कि इंट्राडे ट्रेडिंग से की गई कमाई, इसके साथ जोड़ी जायेगी। ट्रेड इसके बाद उचित टैक्स स्लैब के अनुसार कुल आय पर लगाया जाएगा।

गैर-सट्टा बिज़नेस इनकम ट्रेड फ़्यूचर्स (वायदा) और विकल्प (ऑप्शंस) द्वारा उत्पन्न ट्रेड आय पर कर विशेष रूप से गैर सट्टा बिज़नेस इनकम ट्रेड के तहत परिभाषित किया गया है। इसमें या तो या दोनों फ़्यूचर्स और मान्यता प्राप्त एक्सचेंजों में कॉन्ट्रैक्ट में ट्रेड  द्वारा उत्पन्न आय शामिल है। यह अन्य डिलिवरी आधारित ट्रेडिंग लेनदेन पर भी लागू होता है, जिसमें उच्च डिलिवरी प्रतिशत मात्रा वाले स्टॉक भी शामिल हैं।

सट्टा बिज़नेस इनकम के समान, गैर-सट्टा बिज़नेस इनकम को आपके नियमित आय के अन्य रूपों से भी जोड़ा जाता है। इसका मतलब यह है कि कॉन्टैक्ट ट्रेड से आपकी कमाई आपकी कुल आय के भीतर गिनी जाती है और उचित कर स्लैब दर लागू होती है।

निष्कर्ष:

एक व्यापारी के रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि आपको बाजार और इसके विभिन्न जोखिमों और फायदों के बारे में पर्याप्त जानकारी है। हालांकि, इसके बारे में जानकारी इसलिए महत्वपूर्ण है कि कैसे ट्रेड  टैक्सेशन चुनौती से नेविगेट करना है जो प्रत्येक वित्तीय वर्ष में आता है । उम्मीद है कि, यह गाइड आपको सारे वर्गीकरण समझने में मदद करेगा और आप यह जान पाएंगे कि आपका ट्रेड किसके तहत आता है । यह नवीनतम कर से संबंधित समाचारों के साथ ही यह आपके ट्रेड शैली और रणनीतियों, वर्तमान और भविष्य के लिए विशेष रूप से कैसे लागू होता है के साथ अपडेट रखने की चाबी है।