कमोडिटी कारोबार देश के आर्थिक विकास पर लाभ बनाने के लिए देश में आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों पर अनुमान लगाने के लिए एक अच्छे विकल्प के रूप में कार्य करता है। लोग अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए कमोडिटी कारोबार का उपयोग कर सकते हैं और साथ ही सोने, चांदी या दालों जैसी वास्तविक वस्तुओं को खरीद और बेच सकते हैं। यद्यपि ज्यादातर लोग बाजार पर कारोबार के लायक वस्तुओं के रूप में सिर्फ सोने और चांदी के बारे में सोचते हैं, परंतु अक्षय ऊर्जा से लेकर खनन सेवाओं तक के विकल्प मौजूद हैं।

भारत में कमोडिटी ट्रेडिंग भारतीय सिक्योरिटीज एक्सचेंज बोर्ड द्वारा नियंत्रित होती है जो देश में कमोडिटी मार्केट के नियामक के रूप में कार्य करती है। सेबी ने कमोडिटी कारोबार की सुविधा के लिए 20 से अधिक एक्सचेंजों को अधिकृत किया है और निवेशक कमोडिटी मार्केट में किसी भी संख्या में कारोबार कर सकते हैं। 

हालांकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि अधिकांश वस्तुओं का कारोबार फ्यूचर्स और विकल्प नामक डेरिवेटिवों के माध्यम से होता है। फ्यूचर्स भारत में कमोडिटी कारोबार से लाभ उठाने के लिए लोगों के लिए सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक हैं। कमोडिटी बाजार में दिन भर में शेयर की तरह मूल्य परिवर्तन होते हैं और उनकी वर्तमान कीमत को स्पॉट प्राइस कहा जाता है। 

फ्यूचर्स एक ऐसा अनुबंध होता है जिसमें कोई व्यक्ति पूर्व-निर्धारित तिथि पर पूर्व-सहमत मूल्य पर किसी वस्तु की एक निश्चित मात्रा को खरीदने या बेचने के लिए सहमत होता है। अब, यदि वस्तु की कीमत अनुकूल दिशा में बदलती है और व्यक्ति पूर्व-सहमत तिथि पर इसे वस्तु की स्पॉट कीमत से अधिक पर बेचने में सक्षम है, तो वह लाभ कमाता है।

आयकर प्रावधान 

भारत में कमोडिटी कारोबार से मुनाफे पर आयकर उस अनुबंध से निर्धारित होता है जिसमें व्यापारी ने प्रवेश किया है। उदाहरण के लिए, यदि कमोडिटी अनुबंध को किसी वास्तविक वस्तु की डिलावरी के बिना नकद निपटान किया जाता है, तो इसे सट्टा आय के रूप में जाना जाता है। इस बीच, यदि वास्तव में वस्तु की डिलीवरी की जाती है और मिलकर विनिमय होता है, तो इस लाभ को गैर-सट्टा आय के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा। 

हालांकि दोनों लाभ सामान्य रूप में कारोबार आय का हिस्सा हैं, कमोडिटी कारोबार से लाभ पर आयकर फाइल करने से पहले यह पता करना महत्वपूर्ण है कि कितना लाभ सट्टा प्रकृति का है और कितना गैर सट्टा प्रकृति का। 

इसलिए, यदि आपने भारत में कमोडिटी ट्रेडिंग से लाभ कमाया है, तो आप पूंजीगत लाभ कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी नहीं हैं, लेकिन आयकर अधिनियम के अनुसार आप अपनी व्यावसायिक आय में सभी लाभ जोड़ सकते हैं और संबंधित कर स्लैब के अनुसार कर का भुगतान कर सकते हैं। यह भारत में कमोडिटी ट्रेडिंग से मुनाफे पर आयकर के बारे में प्रमुख कानून है। 

इसका मतलब यह है कि यदि आपका लेन-देन या हानि बहुत अधिक नहीं है तो कमोडिटी कारोबार पर लाभ की गणना करना और कर का भुगतान करना आसान हैं। यह याद रखना चाहिए कि यद्यपि इसके एक दिन से अधिक का होने पर आप कमोडिटी कारोबार पर अल्पावधि पूंजीगत लाभ कर का भुगतान तकनीकी रूप से भी कर सकते हैं, लेकिन यह तब आदर्श नहीं है जब आप इस तरह के बहुत सारे लेनदेन करते या लाभ प्राप्त करते हैं और इस प्रकार अपनी कुल आय का एक बड़ा हिस्सा इससे प्राप्त करता है। उन मामलों में, इन मुनाफे को केवल कारोबार आय के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।

हानि को आगे बढ़ाना

सट्टा और गैर-सट्टा आय के बीच अंतर के बारे में यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि नुकसान को आगे बढ़ना करने और लाभ के खिलाफ उन्हें समायोजित करने के विषय में आयकर अधिनियम प्रावधान है। उदाहरण के लिए, यदि आपने सट्टा आय (नकदी से व्यस्थापित किए जाने वाले डेरिवेटिव) के माध्यम से भारत में कमोडिटी ट्रेडिंग से लाभ कमाया है, तो इन हानियों को केवल चार वर्षों तक ही आगे बढ़ाया जा सकता है और केवल सट्टा लाभ के खिलाफ ही समायोजित किया जा सकता है। 

इस बीच, यदि आपके नुकसान की प्रकृति (डिलीवरी आधारित अनुबंध में) में गैर-सट्टा हैं, तो इस घाटे को आठ साल तक आगे बढ़ाया जा सकता है और सट्टा और गैर-सट्टा आय दोनों के खिलाफ समायोजित किया जा सकता है। 

हानियों को समायोजित करने का अर्थ है कि यदि योग्य हो, तो आप अपने नुकसान को अपनी कुल आय से घटा सकते हैं और अपनी कर योग्य आय राशि को कम कर सकते हैं। इसका मतलब यह होगा कि आपके आयकर स्लैब के आधार पर कराधान की कम दर लागू होगी और आपकी कर देयता कम हो जाएगी क्योंकि आपने कुछ नुकसान किए हैं जो कमोडिटी ट्रेडिंग से लाभ पर आयकर का भुगतान करते समय समायोजित किए गए हैं। 

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि नुकसान का समायोजन करना अनुबंध के प्रकार(नगदी द्वारा निर्धारित हैं या डिलीवरी द्वारा ) पर निर्भर करता है,जिसमें कि आपने कारोबार किया है। अपने नुकसान को समायोजित करने की तलाश कर रहे निवेशक के लिए अपने आयकर आवश्यकताओं के साथ सर्वोत्तम रूप से मिलान खाता हुआ एक अनुबंध चुनने में सावधान रहने की आवश्यकता होती है।