जब बात निवेश की आती है तो एक आम मिथक यह है की इसको शुरू करने के लिए एक बड़े भारी भरकम खाते की जरूरत पड़ती है । यदि आप इस  उलझन में हैं कि स्व-नियोजित होने पर करों के लिए कितना पैसा इककट्ठा करना है, या हर साल आयकर भुगतान के लिए कितना बचत करना पड़ता  है, तो जवाब आपके बजट पर निर्भर करता है। वास्तविकता में, एक ठोस पोर्टफोलियो बनाने की प्रक्रिया कुछ सौ रुपये से शुरू हो सकती है। जब एक छोटे या एक बहुत बड़े निवेश  कीयोजना बना रहे हैं,तो अपने निवेश के बजट पर कर बचत करने के लिए इन चरणों का उपयोग करें।

नोट: आपकी मूल  आय

किसी बजट पर कर बचत साधन का उपयोग करने का पहला और विशेष रूप से एक महत्वपूर्ण कदम  से आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली  कुल राशि की पहचान करना है। हालांकि, की कोई व्यक्ति अपनी आय का एक हिस्सा यदि हर महीने खर्च करता है तो वह अपने कुल वेतन के बारे में आसानी से अनुमान लगा सकता है,  

फिर भी आप सेवा निवृत्ति बचत,फिजूल खर्च से व्यय बजट अधिक न हो इसको सुनिश्चित करके घटाए । 

 संचित धन 

हर महीने एक निश्चित राशि की बचत को लगातार लंबे समय तक अलग रखना बहुत फायदेमंद होगा। यदि किसी को स्वयं इस प्रक्रिया को करने के लिए कोई संगठन या इच्छाशक्ति नहीं मिली, तो विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर एप्लिकेशन या स्मार्टफोन के माध्यम से यह जानकारी उपलब्ध है। किसी भी बचत को और आसान बनाने वाले एप्लीकेसन्स वे हैं जो खरीदारी को कम से कम रुपये की तरफ ले जाते हैं और बाकी को ‘बचत’ के रूप में अलग रख देते हैं। एप्लीकेसन की मदद से , अपने स्वयं के बैंक से गैर-बचत खातों से लेनदेन को संचित करने के अपने तरीकों के बारे में भी जांच करना बचत और निवेश दोनों के लिए बेहतर हैं।

 कर्ज से उबरना

इससे पहले कि कोई पैसा बचाना शुरू कर दे।, यह विश्लेषण करना महत्वपूर्ण है कि किसी  कर्ज को समाप्त करने  के लिए इसकी लागत क्या है और विचार करें कि आप उन्हें कितनी तेजी से समाप्त  कर सकते हैं। आखिरकार, क्रेडिट कार्ड की उच्च-ब्याज दरें 20% या उससे अधिक हो सकती हैं, कुछ छात्र ऋणों में ब्याज दरें 10% से अधिक होती हैं। यदि आप उच्च ब्याज दर पर ऋण लेना चाहते थे, तो इन निवेशों को करने से पहले कम से कम कुछ ऋण का भुगतान करना ही अधिक समझदारी भरा फैसला है। ।  क्योकि कोई व्यक्ति अपने अधिकांश निवेशों पर सटीक वापसी की भविष्यवाणी नहीं कर सकता है, लेकिन कोई निश्चित हो सकता है कि 20% ब्याज दर के साथ  ऋण समाप्ती, एक साल की शुरुआत के रूप में उतना ही अच्छा है जितना किसी के पैसे पर 20% रिटर्न कमाई करता है।

 खर्च का लेखा – जोखा 

यह न केवल लेखा –जोखा  रखने के लिए बल्कि अपने खर्च को वर्गीकृत करने के लिए बहुत मददगार है ताकि आप इस बात से अवगत रहे की समायोजन कहा  किया जा सकता है, ऐसा करने से आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आप सबसे अधिक पैसा खर्च कर रहे हैं और जहां आपके लिए वापस कटौती करना आसान हो सकता है। सबसे पहले, अपने सभी निश्चित खर्चों को सूचीबद्ध करके शुरू करें,  जिसमे नियमित रूप से मासिक बिल जैसे कि किसी के संग्रथित या किराया, उपयोगिताओं, या कार भुगतान हैं।

हालांकि यह संभावना कम है कि आप इन पर  कटौती करने में सक्षम होंगे,लेकिन यह आपकी मासिक आय का कितना हिस्सा होगा जानने मे सहायक हो सकता है। दूसरा आपके सभी अनिश्चितखर्चों को सूचीबद्ध करना है –  जैसे कि किराने का सामान, मनोरंजन और गैस  जो प्रत्येक महीनों में बदल सकते हैं।  यहा पर भी आप खर्च पर वापस कटौती करने का अवसर पा सकते हैं। बैंक स्टेटमेंट और क्रेडिट कार्ड शुरू  करना भी अच्छा हो सकता हैं क्योंकि वे अक्सर आपके मासिक खर्चों  और आइटम को वर्गीकृत करते हैं।

अपने निवेश लक्ष्यों को निर्धारित करें

इससे पहले कि आप लेखा-जोखा मे दी   गई सभी जानकारी के माध्यम से छानबीन  शुरू करें,  उससे पहले आप उन सभी वित्तीय लक्ष्यों की एक सूची बनाना सुनिश्चित करे  जिन्हें आप लघु और दीर्घकालिक समय में पूरा करना चाहते हैं। आपके छोटे समय के निवेश लक्ष्यों को प्राप्त करने में एक वर्ष से अधिक समय नहीं लगाना चाहिए। आपके दीर्घकालिक लक्ष्यों, जैसे शिक्षा या किसी की सेवानिवृत्ति के लिए बचत, तक पहुंचने में वर्षों लग सकते हैं। याद रखें कि आप अपने लक्ष्यों को पत्थर से सेट नहीं कर सकते ।लेकिन बजट की योजना शुरू करने से पहले आपको अपनी प्राथमिकताओं की पहचान करने मे  मदद मिलेगी। उदाहरण के लिए, यदि  आपका  छोटा लक्ष्य क्रेडिट कार्ड के ऋण को कम करना है,, तो आपके अपने खर्च में कटौती करना बहुत आसान हो सकता है।

एक योजना  बनाए

आपके द्वारा संकलित किए गए निश्चित और अनिश्चित खर्चों दोनों का उपयोग करें ताकि आप आगामी महीनों में क्या बचाएंगे और क्या निवेश करेंगे, इसके हिसाब से एक व्यय बजट बनाएँ। जिससे आप अपने निश्चित खर्चों के साथ, काफी सटीक स्तर का अनुमान लगा सकते हैं कि  आपको कितना बजट देना होगा।  अगर आप खर्चो को परिवर्तन करने की कोशिश कर रहे हैं तोआपको अपने पिछले खर्च की आदतों  के समाधान का उपयोग कर सकते हैं।जो  चिजे आप चाहते है या जो चिजे आपको चाहिए उन चीजों को चुन करके अपने खर्चे को भी कम कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर, यदि आप प्रत्येक दिन काम करने के लिए ड्राइव करना चाहते हैं, तो गैसोलीन जो की शायद एक इच्छित मासिक संगीत सदस्यता के रूप में गिना जाता है। तो लेकिन जब समायोजन करने का समय होता है, तो इन दोनों के बीच का अंतर महत्वपूर्ण हो जाता है।

यदि आवश्यक हो तो अपनी आदतों को समायोजित करें

एक बार जब आप यह सब कुछ  कर लेते हैं, जो आपको बजट बनाने के लिए आवश्यक है।फिर अपने खर्च और आय दोनों को दस्तावेजी करने के बाद, आप यह देखना शुरू कर सकते हैं कि आपका पैसा कहां बचा है और जहां आप वापस कटौती कर सकते हैं, तथा आपके पास अपने लक्ष्यों को भी पूरा करने के लिए पर्याप्त पैसा होगा  और तब आपके द्वरा किए लेखा-जोखा को समायोजित करने का प्रयास करें ताकि उससे धन की मात्रा को देख सके। लेकिन यदि कोई पहले से ही अपनी अवस्यकता अनुसार  अपने खर्च को समायोजित कर चुका है तो अपनी आवश्यकताओं पर किए गए आपने खर्च का मूल्यांकन करें। अंत में, यदि आपकी संख्या अभी भी जो आप देखना चाहते हैं वहाँ नहीं पाहुची है, तो आप तय किए गए अपने खर्चों को समायोजित कर सकते हैं। ऐसा करना अधिक कठिन हैजिसमे अधिक, अनुशासन की आवश्यकता होती है , इसलिए अपने विकल्पों को ध्यान से सुनिश्चित करें।

अंत मे कर-बचत के साधन से निवेश करने का एक प्रमुख लक्ष्य यह सुनिश्चित करने में मदद करना चाहिए कि आपके पास काम करना बंद करने के बाद भी पर्याप्त धन हो।  आपकी योजना में एक प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि सेवानिवृत्ति सुरक्षा को प्रोत्साहित करने वाली सरकारों और नियोक्ताओं द्वारा जोखिम भरे प्रलोभनों का पूरा लाभ उठाया जाए।

यदि आपकी कंपनी सेवानिवृत्ति योजना प्रदान करती है, तो इस योजना को नजरअंदाज न करना महत्व पूर्ण है।  यदि आपका पैसा कई सालों से बढ़ा है, तो आपके द्वारा मूल रूप से शुरू कि गयी पूंजी से कहीं अधिक हगी, इसलिए कर मुक्त निकासी इसके लिए सही होगी।