जब व्यापारियों को बाजार में सकल उतार चढ़ाव की संभावना नज़र आती हैं, तो वे क्या करते हैं? वे अनुबंध में मूल्य अस्थिरता से अपनी लाभ की स्थिति को सुरक्षित करते हैं। इसे भावी अनुबंध या फ्यूचर्स कहा जाता है। भावी एक कानूनी समझौता है, जो पूर्वनिर्धारित मूल्य और तारीख पर राइटर और ओनर को भविष्य में वस्तु या स्टॉक खरीदने या बेचने के लिए अधिकृत करता है।

वैकल्पिक अनुबंध के विपरीत, भावी अनुबंध में  बाध्यताएं होती हैं, और भाग लेने वाले पार्टियां समाप्ति तिथि पर अपनी शर्तों को पूरा करने के लिए बाध्य होती हैं। ये मानकीकृत अनुबंध हैं, जिसका अर्थ है कि वे समझौते में उल्लिखित भौतिक वस्तु की गुणवत्ता, मात्रा और वितरण को सुनिश्चित करते हैं। 

भावी अनुबंधों का व्यापक रूप से भावी विनिमयिओं में कारोबार किया जाता हैं, लेकिन एक सफल भावी व्यापार योजना के लिए विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। हम बाद में इस पर विस्तृत चर्चा करेंगे। लेकिन शुरू करने के लिए, आइए समझें कि भावी अनुबंध क्या है।

भावी अनुबंध क्या है?

यदि आप वित्त बाजार में रुचि रखते हैं और इसमें निवेश करना चाहते हैं, तो आप अक्सर इस शब्द, भावी अनुबंध से रूबरू होंगे। तो, भावी अनुबंध क्या है? जैसा कि ऊपर बताया गया है, यह दो पक्षों के बीच एक कानूनी अनुबंध है जो बाजार में अस्थिरता से अपनी अंतर्निहित परिसंपत्ति (शेयरों, वस्तुओं, बांड) की स्थिति को सुरक्षित रखता है। लेकिन इसके बारे में और भी बहुत कुछ है।

मुख्य रूप से दो प्रकार के भावी व्यापारी होते हैं हेजर्स और स्पेकुलेटर्स।

हेजर्स, जैसा कि नाम से पता चलता है, भावी कीमत में अस्थिरता से सुरक्षा की ओर ध्यान देते हैं। वे इस सौदे से लाभ प्राप्त करने पर नहीं ध्यान देते। इसके बजाय, वे अपने उत्पाद की कीमत को स्थिर करना चाहते हैं। बिक्री से लाभ या हानि, कुछ हद तक बाजार में अंतर्निहित वस्तु की कीमत से ऑफसेट होता है।

स्पेकुलेटर्स, दूसरी ओर, बाजार त्रेंद्द से अलग व्यापार करते हैं। स्पेकुलेटर असहमत हो सकता है कि कीमत भविष्य में गिर जाएगी, इसीलिए वह भावी अनुबंध खरीदेगा और लाभ कमाने के लिए मूल्य बढ़ते ही बेच देगा। हालांकि, यह व्यापार भावी अनुबंध की समाप्ति तिथि से पहले किया जाना चाहिए।

व्यवहार से, भावी व्यापार एक लाभ-हानि खेल है। चूंकि यह कीमत तय करता है, इसलिए यह सौदा के समय बाजार में कीमतों से प्रभावित नहीं होता है। यह अप्रत्याशित मूल्य परिवर्तन से सुरक्षा प्रदान करता है और बाजार को स्थिर करता है। इसके अलावा, इसकी कीमत रोज़ तय की जाती है।  एक कारोबारी दिन के अंत में, किसी के खाते में पैसा जमा होता है, और उसी दिन किसी भी मूल्य परिवर्तन को ऑफसेट करने केलिए दूसरे खाते से पैसा निकलता है ताकि कोई भी अप्रत्याशित नुकसान हो।

आपको भावी व्यापार के बारे में क्या पता होना चाहिए?

भावी अनुबंध के संबंध में लाभ और हानि असीमित हैं। रोज मूल्य परिवर्तन इन्हें अत्यंत अस्थिर बना देता है। लेकिन फिर भी, भावी अनुबंध लाभ के लिए किया जाता हैं। अधिकांश खुदरा व्यापारियों और पोर्टफोलियो प्रबंधक, लाभ उठाने के लिए भावी व्यापार में शामिल होते हैं।

आइए इसे एक उदाहरण से समझें।

मान लीजिए अप्रैल के लिए कच्चे तेल का अनुबंध जनवरी में 60 रुपये में बेच रहे हैं। यदि कोई व्यापारी अप्रैल से पहले कच्चे तेल की कीमत बढ़ने का यकीन रखता है, तो वह स्पॉट कीमत पर 1,000 बैरल तेल के लिए अनुबंध खरीद सकता है। हालांकि, उसे 60,000 रुपये (60 x 1000 रुपये) की पूरी लागत का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन केवल प्रारंभिक मार्जिन का भुगतान करने पड़ेगा है, जिसकी लागत केवल कुछ हजार होगी।

अनुबंध के अंतिम निपटान के दौरान वास्तविक लाभ या हानि का पता चलेगा। यदि कीमत बढ़ जाती है और विक्रेता 65 रुपये में भावी अनुबंध बेचता है, तो उसे 5000 रुपये [(65 रुपये – 60 रुपये) x 1000] का लाभ है यदि कीमत 55 रुपये तक गिर जाती है, तो उसे 5000 रुपये [(60 रुपये – 55 रुपये) x 1000 का नुकसान होगा।

 

भावी अनुबंध के फायदे और नुकसान

फायदे नुकसान
निवेशक बाजार में अंतर्निहित परिसंपत्ति मूल्य की दिशा में भावी मूल्य के अनुमान लगा सकते हैं इसमें जोखिम होता है और मूल्य में किसी भी तरह का परिवर्तन होने से, स्पेकुलेटर्स को भी उनके प्रारंभिक मार्जिन (भावी  यूज़ लिवरेज के कारण) का नुकसान है 
व्यापारी भविष्य के बाजार में मूल्य कम होने पर बचाव करने के लिए भावी अनुबंधों का उपयोग करते हैं यदि निपटान के समय अनुमानित दर की तुलना में मूल्य में  अधिक गिरावट आती है, तो अनुबंध में प्रवेश करने से निवेशक को अनुकूल मूल्य लाभ नहीं होगा 
निवेशक मार्जिन का लाभ उठाकर अग्रिम भुगतान करने से बच सकते हैं मार्जिन का उपयोग करने के भी परिणाम हैं; निवेशक को बड़ा नुकसान भी हो सकता है

 

वस्तु भावी बाजार अत्यधिक अस्थिर है, और इससे व्यापारियों को असीमित लाभ या हानि हो सकते हैं। भावी बाजार में सफलतापूर्वक व्यापार करने के लिए कौशल, ज्ञान, अनुभव और जोखिम क्षमताओं की आवश्यकता होती है।