बुल को सीगों के पकड़ना: बुलिश विकल्प रणनीतियाँ 

जब बाजार में उछाल आ रहा हो रहा है तो कारोबारी अक्सर ले जाते हैं(get carried) । उनका अत्यधिक बाजार को ऊपर की ओर उस बिंदु तक पुश करता है जहां प्रवृत्ति उल्टी हो जाती है। यदि आप खुद को एक बुलिश रन के बीच में पाते हैं, एक अनुभवी कारोबारी के रूप में, आपके पास अपने लाभ का अनुकूलन करने और अचानक प्रवृत्ति परिवर्तन से नुकसान के उच्च जोखिम से बचने के लिए बुलिश विकल्प रणनीतियों का होना आवश्यक है। हालांकि, कैसे और कब अपनाई जाने वाली बुलिश रणनीतियां होती हैं,जिनके बारे में इस लेख में हमने चर्चा की है। यह बुलिश बाजार की विकल्प रणनीतियों को, उनके महत्व, और कैसे बुल से कुश्ती में ये मदद कर सकते हैं, को समझने के लिए समर्पित है।

बुलिश विकल्प ट्रेडिंग रणनीति क्या है?

बुलिश विकल्प रणनीतियां कारोबारियों द्वारा तब अपनाई गई नीतियां हैं जब वे एक परिसंपत्ति मूल्य में वृद्धि की उम्मीद करते हैं। कॉल विकल्प ख़रीदना बढ़ते बाजार को भुनाने की एक सरल नीति है, लेकिन किसी भी अप्रत्याशित मूल्य गिरावट के लिए अपनी स्थिति को कवर किए बिना ऐसा करने से आपका जोखिम कई गुना बढ़ा जाएगा। इसके अलावा, यह इस नीति को तब अपनाना भी स्मार्ट होना नहीं है, जबकि बाजार केवल मामूली बुलिश है। इसके बजाय, कारोबारियों को एक बुल कॉल स्प्रेड रणनीति में प्रवेश करना चाहिए। 

एक बुल कॉल स्प्रेड एक कारोबारी रणनीति है जो कारोबारी तब अपनाते हैं जब बाजार में मूल्य वृद्धि मध्यम होती है। यह एक सीमा बनाने के लिए दो कॉल विकल्पों का उपयोग करती है, एक कम स्ट्राइक कीमत के साथ और दूसरा एक उच्च स्ट्राइक कीमत के साथ। यह रणनीति आपके लाभ को सीमित कर सकती है, लेकिन यह आपको होने वाले नुकसान से भी बचाती है। 

कारोबारी प्रीमियम के विरुद्ध स्टॉक की बढ़ती कीमतों से लाभ उठाने के लिए एक साधारण कॉल विकल्प खरीद सकते हैं। प्रीमियम की गणना प्रतिभूति की वर्तमान कीमत और स्ट्राइक मूल्य के आधार पर की जाती है। यदि वर्तमान मूल्य और स्ट्राइक मूल्य दोनों मान में एक दूसरे के करीब हैं, तो प्रीमियम अधिक होगा। जब मूल्य वृद्धि होती है, खरीदार स्ट्राइक मूल्य पर शेयरों को खरीदने के अपने अधिकारों का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन अगर स्टॉक की कीमत गिर जाती है या अपरिवर्तित रहता है, तो वह केवल विकल्प के प्रीमियम मूल्य को खोकर अपने नुकसान को कम कर सकता है।

यह एक साधारण रणनीति लग सकता है, लेकिन इसमें एक पेंच है। जब प्रीमियम मूल्य अधिक होता है, तो यह स्टॉक मूल्य वृद्धि से लाभ को बराबर कर सकती है। इसके अलावा, आपको एजेंट को ब्रोकरेज का भी भुगतान करना होगा, और इससे स्प्रेड की लागत में भी वृद्धि होगी। जब तक कि, स्टॉक की कीमत काफी अधिक न हो जाएं, ब्रेक-इवेन पॉइंट से ऊपर, कॉल विकल्प खरीदने से सौदे से आपका लाभ सीमित हो जाएगा। स्टॉक की कीमत का ब्रेक-इवेन स्ट्राइक मूल्य और भुगतान किए गए प्रीमियम के योग के बराबर होता है।

बुलिश कॉल स्प्रेड का उपयोग करके जोखिमों को कम करना

कॉल विकल्प खरीदने से उत्पन्न जोखिम को कवर करने के लिए, व्यापारी एक स्प्रेड में प्रवेश करते हैं। इसमें दो कॉल विकल्पों का उपयोग होता है, एक कम स्ट्राइक कीमत के साथ और दूसरा उच्च स्ट्राइक कीमत के साथ। यह घाटे को सीमित करने में मदद करता है तथा लाभ सीमा को भी उच्चतम सीमा तक निश्चित करता है। तो, कारोबारी इसका इस्तेमाल क्यों करते हैं? जब बाजार अत्यधिक अस्थिर होता है तो स्प्रेड में प्रवेश करना आसान होता है। यह अचानक कीमत में परिवर्तन से कारोबारी के हित की रक्षा करता है। 

बुलिश विकल्प रणनीतियों में प्रवेश करने में निम्नलिखित चरण शामिल हैं।

— एक अंतर्निहित संपत्ति का चयन करें जिसे आप मानते हैं कि भविष्य में बढ़ेगी 

— एक ऐसे स्ट्राइक मूल्य के साथ एक कॉल विकल्प खरीदें जो संपत्ति के वर्तमान बाजार मूल्य से अधिक हो। यही है, एक दीर्घ स्थिति में प्रवेश

— साथ ही, एक ही समाप्ति तिथि के साथ एक ही संपत्ति पर एक कॉल विकल्प पर लघु दर्ज करें, या एक शॉर्ट स्थिति में प्रवेश करें

— कॉल विकल्प बेचने पर अर्जित प्रीमियम आंशिक रूप से दीर्घ विकल्प के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम को बराबर कर देगा

— व्यापारी को ‘रणनीति की लागत’ का भुगतान करना पड़ता है, जो कि भुगतान किए गए तथा प्राप्त प्रीमियम के बीच शुद्ध अंतर है और स्प्रेड शुरू करने से प्राप्त होता है

बुलिश विकल्प रणनीतियों के प्रकार

बुलिश पुल कितना शक्तिशाली है इस पर निर्भर करते हुए, आप बुलिश बाजार के लिए विभिन्न विकल्पों रणनीतियों में प्रवेश कर सकते हैं। आपके लाभ के लिए, हम नीचे आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाली बुलिश विकल्प रणनीतियों की एक सूची बनाई है।

लांग कॉल: कॉल विकल्प खरीदने में अग्रिम प्रीमियम के साथ कॉल विकल्प खरीदने का एक लेनदेन शामिल है। यह आपके ऋण को अधिकारहीन कर देता है, जबकि आपको अपने लाभ को अनुकूलित करने के लिए प्रभावन क्षमता की शक्ति देता है। यदि आप अभी शुरुआत कर रहे हैं तो अक्सर एक अच्छी रणनीति शुरू करने के लिए। 

शॉर्ट पुट: आप एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर भविष्य की तारीख में एक अंतर्निहित संपत्ति खरीदने के लिए सहमत हैं। जब संपत्ति की कीमत बढ़ जाती है तो आपको लाभ होता है। लेकिन यह रणनीति आपके जोखिम की मात्रा भी बढ़ाती है क्योंकि इसमें भौतिक संपत्ति खरीदना शामिल है। 

बुल कॉल स्प्रेड: इसमें एक ही समय समाप्ति तिथि के साथ एक कॉल खरीदना और दूसरी को बेचना शामिल है। कॉल विकल्प बेचने से एकत्रित प्रीमियम का उपयोग लॉग कॉल के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम को बराबर करने के लिए किया जाता है। इसमें दो लेनदेन शामिल हैं। 

बुल पुट स्प्रेड: बुल पुट स्प्रेड में दो लेनदेन की आवश्यकता है, लेकिन क्योंकि उच्च दांव शामिल हैं, इसे एक जटिल रणनीति माना जाता है और नए लोगो के लिए इसकी सलाह नहीं दी जाती। इसमें दो लेनदेन शामिल हैं, एक पुट खरीदना हैं और साथ ही दूसरे को बेचना। 

बुल राशन स्प्रेड: यह एक जटिल रणनीति है, लेकिन अधिक लचीलापन भी प्रदान करती है। बुल कॉल स्प्रेड में अनुपात में कॉल स्प्रेड को एक अनुपास में खरीदना तथा लिखना शामिल है। आमतौर पर, आप जो खरीदते हैं उससे अधिक बेचते हैं। इस रणनीति का उपयोग करते हुए, आप तब भी लाभ कर सकते हैं जब परिसंपत्ति की कीमत अपेक्षित वृद्धि करने में विफल रहता है या इससे भी बदतर, गिरावट आती है। लेकिन यह ऐसी रणनीति है जो अधिक अनुभवी कारोबारियों के लिए उपयुक्त है और नए निवेशकों के लिए इसकी सलाह नहीं दी जाती है।

शॉर्ट बुल अनुपात स्प्रेड: कारोबारी एक शॉर्ट बैल अनुपात में तभी प्रवेश करते हैं जब उन्हें विश्वास होता है कि संपत्ति की कीमत में काफी वृद्धि होगी, लेकिन साथ ही उसी समय वे कीमत गिरने की स्थिति में होने वाले किसी नुकसान को भी कवर करना चाहते हैं है। इसमें कॉल खरीदने और उसी अंतर्निहित और समाप्ति तिथि के लिए कम स्ट्राइक दर के साथ कॉल लिखने के दो लेनदेन शामिल हैं। 

बुल बटरफ्लाई प्रसार: बटरफ्लाई स्प्रेड दो प्रकार के होते हैं कॉल बुल बटरफ्लाई तथा पुट बटरफ्लाई । यह तीन लेनदेन से जुड़ी एक जटिल रणनीति है और एक डेबिट स्प्रेड बनाती है।  

बुल कोंडोर प्रसार: बुल कोंडोर फैलता के दो प्रकार आम हैं — कॉल और पुट। यह चार लेनदेनों के प्रसार में डेबिट स्प्रेड बनाता है। कारोबारी इसका इस्तेमाल अग्रिम लागत को कम करने और लाभ का अनुकूलन करने के लिए करते हैं जब उन्हें विश्वास होता कि प्रतिभूतियों की कीमतें उनकी उम्मीद के स्तर तक बढ़ेगी।  

बुल कॉल लैडर स्प्रेड: इसमें एस साथ ही एक कॉल खरीदना और एक साथ दो कॉल लिखना शामिल है, जिसमें विभिन्न स्ट्राइकें होती हैं। कारोबारी लाभ को अधिकतम करने के लिए विभिन्न समय पर कॉल विकल्पों का कारोबार करके एक लेग भी दर्ज कर सकते हैं।

निष्कर्ष 

बुलिश बाजार के लिए विकल्प रणनीतियों का उपयोग करना एक आम बात है, लेकिन यह नुकसानों से मुक्त नहीं है। अपने जोखिम को कम करने के लिए एक रणनीति में प्रवेश करना, उस लाभ मार्जिन को भी सीमित करता है जो आप बढ़ती परिसंपत्ति की कीमतों से प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा, इसमें सही संपत्ति और रणनीति चुनने की जटिलताओं को शामिल किया गया है। और अंत में, आपको शामिल लागतों के बारे में चिंतित होने की भी आवश्यकता है। चूंकि अधिकांश रणनीतियों में एक से अधिक कारोबार शामिल हैं, इसलिए आप अंततः ब्रोकर को उच्च कमीशन प्रतिशत का भुगतान करते हैं।