निवेशक के लिए बेहतर ढंग से, सही वित्तीय मार्केट में सही निवेश करना अत्यधिक फायदेमंद रिटर्न के लिए एक नई शुरूआत हो सकती है। विशेषकर, आज के समय में, जब इंटरनेट ने किसी भी मार्केट में ट्रेडिंग करना पहले से कहीं अधिक सुलभ और आसान बना दिया है। हालांकि, अनु मार्केट निवेश करने पर सफल होने की कुंजी वास्तव में यह निर्धारित करना होता है कि पहले किस प्रकार के वित्तीय मार्केट में निवेश करना है।

इस काम के लिए, हम दो बहुत अधिक लोकप्रिय बाजार की सरसरी निगाह से तुलना करके यह अंतर कर सकते हैं: शेयर मार्केट बनाम कमोडिटी मार्केट के मध्य अंतर। इन दो प्रकार की प्रतिभूतियों और मार्केट को बेहतर ढंग से समझना है, जिससे वस्तुओं बनाम स्टॉक में निवेश करने की चर्चा अधिक स्पष्ट हो सकती है।

आइए हम दो प्रकार के बाजार की समीक्षा करना शुरू करें और साथ ही साथ यह याद करते हुए कि वस्तुओं और शेयरों में निवेश कैसे करें:

स्टॉक मार्केट क्या है? 

सुरक्षा का एक प्रकार है जो इस बात का संकेत है कि किसी व्यक्ति के पास सार्वजनिक रूप से सुनियोजित कंपनी में स्वामित्व हिस्सेदारी है, को स्टॉक के रूप में जाना जाता है। किसी कंपनी में किसी व्यक्ति का स्टॉक कंपनी के शेयरों की संख्या के द्वारा दिखाया जाता है, जिसे वह अन्य स्टॉक मालिकों से बेंच या खरीद सकता है। मार्केट का समूह जहां स्टॉक की यह खरीददारी और बिकवाली की जाती है, को शेयर मार्केट के रूप में जाना जाता है।

कोई व्यक्ति किसी ब्रोकरेजेज फर्म के साथ एक ट्रेडिंग और डीमैट खाता खोलकर शेयर मार्केट में निवेश कर सकता हैं। तब ब्रोकरेजेज फर्म आपको संबंधित स्टॉक एक्सचेंजों से जोड़ सकती हैं और आपके हित में व्यापारिक कामकाज को पूरा कर सकती हैं।

कमोडिटी मार्केट क्या है?

कमोडिटी शब्द किसी प्रकार के संसाधन या सामान  के लिए उपयोग किया जाता है जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी के लिए आवश्यक होती है, और उसी प्रकार के अन्य सामानों के साथ ट्रेडिंग किया जा सकता है। वे दो प्रकार के हो सकते हैं: हार्ड कमोडिटी जैसे सोना या तेल, और सॉफ्ट कमोडिटी जैसे कृषि उत्पाद और पशुधन ।

एक कमोडिटी मार्केट एक प्रकार का भौतिक या आभासी मार्केट हो सकता है जहां ऐसी वस्तुओं को एक व्यापारी से दूसरे को खरीदा और बेंचा जा सकता है। वस्तुओं में निवेश और ट्रेडिंग करने के कई तरीके हैं। इनमें डायरेक्ट  कमोडिटी निवेश के साथ-साथ कमोडिटी भविष्य के अनुबंधों को निवेश के रूप में खरीदना शामिल है।

स्टॉक मार्केट और कमोडिटी मार्केट के मध्य अंतर  

अब जब हम वस्तुओं बनाम स्टॉक के मध्य अंतर को जान चुके हैं, तो आइए उनके संबंधित मार्केट के मध्य अंतरों की चर्चा करें। यहाँ शेयर मार्केट बनाम कमोडिटी मार्केट में अंतर करने वाले प्रमुख कारक हैं:

1. मालिकाना हक: 

शेयर मार्केट में स्टॉक खरीदने के बाद, एक निवेशक को कंपनी के मालिकाना हक  का एक अंश मिलता है। एक शेयर मार्केट में ट्रेडिंग की सबसे लोकप्रिय रणनीति यह है कि आपने जो भी स्टॉक खरीदा है उसे मार्केट के उचित अवसर आने तक रोंके रखें कमोडिटी मार्केट के मामले में, हालांकि, सबसे आम प्रकार की ट्रेडिंग वायदा अनुबंधों के माध्यम से की जाती है। वायदा अनुबंधों के साथ, यहाँ लोगों के बीच मालिकाना हक का आदान-प्रदान करने की कोई मार्केट की दशा नहीं है। इसके बजाय, ये अनुबंध उन वस्तुओं की भविष्य की डिलीवरी से जुड़े होते हैं जिनकी ट्रेडिंग की जाती है लेकिन शायद ही कभी स्वामित्व में होती हैं।

2. अस्थिरता: 

सभी पूंजी वर्गों और वित्तीय मार्केट में से, वस्तु और कमोडिटी मार्केट सबसे अधिक अस्थिर होते हैं। शेयर मार्केट के साथ कमोडिटी मार्केट की तुलना करते समय, बाद वाला कहीं अधिक अस्थिर प्रवृत्तियों के लिए सुनिश्चित होता है। इसका कारण यह है कि कमोडिटी मार्केट कम लिक्विडिटी/नगदी होने के लिए जाना जाता है और कभी-कभी बदलते बाहरी कारकों जैसे आपूर्ति-मांग और भू-राजनीति से प्रभावित होता है अतः यह भी कमोडिटी बाजार  और शेयर बाजार के मध्य अंतर का एक प्रमुख कारक है।

3. समय सीमा : 

शेयर बाजार में निवेशक थोड़े समय के लिए अपने स्टॉक रोंक सकते हैं, एक कारोबारी दिन की तरह यह कम होता जा रहा है। हालांकि, शेयरों को, वर्षों और दशकों तक भी उन्हें एक अनुमानित दीर्घकालिक निवेश बनाकर सुनियोजित किया जा सकता है। हालांकि, कमोडिटी ट्रेडिंग की समय सीमा बहुत अलग है। कमोडिटी मार्केट आम तौर पर अनुबंधों में ट्रेडिंग करता है जो आम तौर पर थोड़े समय के लिए होते हैं। इसके अलांवा, वे शेयरों के विपरीत, एक समय सीमा या समाप्ति सीमा के साथ आते हैं, जिसका अर्थ है कि उनका दिए गए समय सीमा के भीतर ट्रेडिंग किया जाना चाहिए। इसलिए, कमोडिटी बाजार अल्पकालिक निवेश के लिए अच्छे हैं।

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, वस्तुओं बनाम शेयरों में निवेश के मध्य अंतर किसी की निवेश प्राथमिकताओं का पता लगाकर जानी जा सकती है। यदि आप अल्पकालिक, गैर-स्वामित्व वाले निवेश की तलाश कर रहे हैं, और अधिकतर अस्थिर मार्केट बना रहे हैं, तो कमोडिटी मार्केट में निवेश करना एक अच्छा अवसर है। दूसरी ओर, लंबी अवधि के लिए, स्वामित्व आधारित निवेश के लिए समय और धैर्य की आवश्यकता के साथ, शेयर मार्केट आप के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है।